Best Web Blogs    English News

facebook connectrss-feed

जागरण मेहमान कोना

विभिन्न क्षेत्रों के विशेषज्ञों व विद्वानों के विचारों को उद्घाटित करता ब्लॉग

1,937 Posts

359 comments

Celebrity Writers


Sort by:

Indian Politics: आप की राजनीति

Posted On: 25 Nov, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

पॉलिटिकल एक्सप्रेस में

0 Comment

नीयत पर नीति का पर्दा

Posted On: 15 Nov, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

पॉलिटिकल एक्सप्रेस में

1 Comment

नाकामी की नई बानगी

Posted On: 23 Oct, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

पॉलिटिकल एक्सप्रेस में

0 Comment

American Economy: अमेरिका की असलियत

Posted On: 18 Oct, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 1.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

पॉलिटिकल एक्सप्रेस में

1 Comment

नए मोड़ पर लोकतंत्र

Posted On: 4 Oct, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

पॉलिटिकल एक्सप्रेस में

0 Comment

देश से क्या कहेंगे मनमोहन

Posted On: 3 Oct, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

पॉलिटिकल एक्सप्रेस में

0 Comment

Page 1 of 19412345»102030...Last »

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

दुर्योधन को भी कृष्णा जी में दोष दिखाते थे ,तो आज कलियुग में दुर्योधन जैसे व्यक्तिओ की कमी नहीं है , आसारामजी पर २००८ में भी आरोप लगे थे ,जिसपर " सी आई डी " और " सुप्रीम कोर्ट " दोनों ने क्लीन चिट दी थी .और अब फिर से जो आरोप लगे है वो कोर्ट में चल रहे है लेकिन आज हिन्दू संत पर बोलने के लिए हर जगह व्यक्ति जज बनकर घूम रहा है .करोड़ व्यक्तिओ में से २-४ व्यक्तिओ के द्वारा लगाए गए आरोप जो लगाए गए है उनकी सच्चाई कितनी है यह कोर्ट का जज बता देगा .और आज के वातावरण में पैसे के दम पर कुछ व्यक्तिओ को ख़रीदा जा सकता है लेकिन लाखो व्यक्तिओ को नहीं .मै केवल एक तथ्य रख रहा हु ,क्योकि आज के वातावरण के अनुसार गलत कोई भी हो सकता है ,किसी एक को गलत नहीं कह सकते जब तक की कोर्ट का रिजल्ट न आ जाए .ॐ

के द्वारा:

BLOG- IN INDIA HINDU RELIGION INDIVIDUAL CASTES/HINDU RELIGION O.B.C WEAKER SECTION/S.C/S.T DEVELOPMENT VERY-VERY BIG ROLE OF SUFFICIENT NUMBER LAWYER AND M.B.B.S/M.D/M.S DEGREE/PROFESSION POVERTY SOLUTION AND BUSINESS(INDUSTRY) ,IN INDIA HINDU RELIGION ,INDIVIDUAL CASTES POVERTY REMOVE ,POWER(DABANG),BUSINESS (INDUSTRY) LAND OWNER ,GOVT TENDER VERY-VERY BIG ROLE OF INDIVIDUAL CASTES SUFFICIENT NUMBER LAWYER AND M.B.B.S/M.D/M.S DEGREE PROFESSION , ALSO READ MU BLOG URL-http://mantusatyam.blogspot.com/2013/08/ ,google plus and face book in many news channel. BY MANTU KUMAR SATYAM, ,Religion-Hindu,Category-O.B.C (Weaker section & minority), caste-Sundi(O.B.C weaker section & minority), SEX-MALE,AGE-29Y Add-s/o.SHIV PRSAD MANDAL, FRONT BAIDYNATH TRADING /HARDWARE,AIRCEL MOBILE TOWER BUILDING, CHOICE EMPORIUM SHOP BUILDING,Near jamuna jour pool, near ramjanki mandir,castair town,SARWAN/SARATH MAIN ROAD, ,DEOGHAR,DISTRICT-DEOGHAR, JHARKHAND-814112,INDIA . MY VOTER ID CARD DETAIL-CONSTITUTION DEOGHAR ASSEMBELY,DIST-DEOGHAR,JHARKHAND, INDIA, VOTER ID CARD NUMBER-MQS5572490,AADHAR CARD ENROLLMENT NUMBER-2017/60236/00184,DATE-10/12/2012 ,TIME-13:43:52,AADHAAR NUMBER-310966907373 ) o . occupation- MSCCRRA study from SMUDE,SYNDICATE HOUSE ,MANIPAL KARNATAK, POST GRADUATE DIPLOMA IN HUMAN RIGHTS FROM INDIAN INSTITUTE OF HUMAN RIGHTS ,NEW DELHI (SESSION-2012-14)(ONE YEAR POST GRADUATE DIPLOMA IN HUMAN RIGHTS COMPLETE)& post graduate diploma in criminal justice and forensic science from Hyderabad university center of distance education(session 2012-13) BLOG DETAIL- In INDIA HINDU RELIGION any caste /INDIVIDUAL CASTES sufficient NUMBER of L.L.B/L.L.M and M.B.B.S/M.D/M.S degree or profession very big and very-very IMPORTANT role of advancement or development, power(DABANG) and business are in social structure.In reference of other profession officers and politicians very – very small role or huge difference COMPARISON than LAW and M.B.B.S/M.D/M.S HINDU RELIGION complicated caste structure of caste development,POWER and business. If individual castes have sufficient number of 10% lawyer M.B.B.S/M.D/M.S the casts benefit of 10% of sufficient number. HINDU RELIGION INDIVIDUAL CASTES SUFFICIENT NUMBER LAWYER WITH M.B.B.S/M.D/M.S DEGREE PROFESSION FACE ALL POLITICAL PROBLEM ARISE IN DEVELOPMENT Its important in other word say it,IN INDIA,HINDU RELIGION GENERAL CASTE (BRHAMAN,BHUMIHAR,RAJPUT,KAYASTH,KSHYATRIYA) or any other caste to now time do huge scale of business ,govt tender,land owner e.t.c .Have not possible of without sufficient no. of LAWYER and M.B.B.S /M.D/M.S degree of individual general castes, HINDU RELIGION,INDIA for the maintain of caste power, advancement /development like huge scale of business ,land owner and govt tender .Without sufficient no.of LAWYER and M.B.B.S/M.D/M.S degree HINDU RELIGION ,general caste/and other huge scale of business,INDIA( due to same of complicated HINDU RELIGION ,CASTE social structure in INDIA) have many factors /issue arises of huge scale business ,huge scale LAND OWNER ,GOVT. TENDER e.t.c.Its have to said very-very big problem or have not possible. Also it have to say in deep of collaboration of one caste to other caste, HINDU RELIGION ,INDIA have sufficient NUMBER of LAWYER and M.B.B.S /M.D/M.S. In some cases it have to seen . Increase of business but it have not increase of own caste power without sufficient no. of L.L.B/L.L.M and M.B.B.S/M.D/M.S degree In under of the self/own HINDU religion (minority CASTES ),INDIA of complicated caste structure face very -very basic problem of life concerned of other then development without sufficient NUMBER of lawyer and M.B.B.S/M.D/M.S DEGREE. Its have not any advantage of more people and its benefit of other profession like politicians and officers .Very-very small chances to join of politicians and officers (few number) two or three)rather then more peoples caste thousands to thousands. It also have to be seen census of India of HINDU RELIGION CASTE development in social structure with time. It have to be seen in INDIA HINDU RELIGION scenario minority caste have to huge benefit in some year join the sufficient NUMBER of lawyer and M.B.B.S/M.D/M.S degree more development like power business complicated caste social structure rather then S.C/S.T join the profession politicians and officers in long to long time /year in same conditions.Also they caste have good manage of land owner in caste participate already in past time land have not exist but acquire rather then S.C and S.T. . It have to understand on the concept of constitution of INDIA in political power increase (In political power hidden of economic power ) of backward caste in HINDU RELIGION reservation of politicians and officers. In the point of the view NORTH INDIA YADAV caste have sufficient NUMBER of L.L.B/L.L.M .Also KURMI caste in BIHAR/JHARKHAND have not sufficient NUMBER but good number of lawyers. Also have some number of M.B.B.S/M.D. NOTE-In the point of view L.L.B/L.L.M and M.B.B.S/M.D/M.S not meaning of only court and medicine practice( ONLY) but also have self business by person occupied the degree more to more effective /efficient due to key point /key master of caste power,business,land owner,govt. tender.But which caste have sufficient NUMBER of lawyer and M.B.B.S /M.D/M.S , by which caste persons LAWYER and M.B.B.S/M.D/M.S degree or professionals occupied have not done self/own business in the point of diplomatic view of hidden of power of doing business(INDUSTRY) NOTE- In the point of view B.TECH/M.TECH and M.B.A have not any role of caste POWER, development and business in HINDU religion,INDIA.But only like a simple job also in simple job arises many complicated issue like Industry demand ,complicated issue from powerful castes e.t.c.But it have not problem of HINDU RELIGION more peoples caste( not minority) , caste in INDIA. NORTTH INDIA YADAV caste have sufficient NUMBER of L.L.B/L.L.M .Also KURMI caste in BIHAR/JHARKHAND have not sufficient NUMBER but good number of lawyers. Also have some number of M.B.B.S/M.D. NOTE-In the point of view L.L.B/L.L.M and M.B.B.S/M.D/M.S not meaning of only court and medicine practice( ONLY) but also have self business by person occupied the degree more to more effective /efficient due to key point /key master of caste power,business,land owner,govt. tender.But which caste have sufficient NUMBER of lawyer and M.B.B.S /M.D/M.S , by which caste persons LAWYER and M.B.B.S/M.D/M.S degree or professionals occupied have not done self/own business in the point of diplomatic view of hidden of power of doing business(INDUSTRY) NOTE- In the point of view B.TECH/M.TECH and M.B.A have not any role of caste POWER, development and business in HINDU religion,INDIA.But only like a simple job also in simple job arises many complicated issue like Industry demand ,complicated issue from powerful castes e.t.c.But it have not problem of HINDU RELIGION more peoples caste( not minority) , caste in INDIA ALSO READ MY ANOTHER BLOGG ,GOOGLE PLUS AND FACE BOOK TOPIC SHARE ALSO READ MY OTHER BLOG AND G PLUS SHARE IN MANY NEWS CHANNEL -BUREUACRACY IN INDIA , IN INDIA HINDU RELIGION INDIVIDUAL CASTES WOMAN SOCIAL EMPOWERMENT ROLE OF SUFFICIENT NUMBER LAWYER AND M.B.BS/M.D./M.D/M.S DEGREE ,GANGSTER COMPOSITION IN INDIA,RESERVATION POLICY IN GOVT TENDER, 5 POWER FUL YOGA MEDITATION POSE ,THE COMPLETE PATH OF YOGA E.T.C

के द्वारा:

BLOG- IN INDIA HINDU RELIGION INDIVIDUAL CASTES/HINDU RELIGION O.B.C WEAKER SECTION/S.C/S.T DEVELOPMENT VERY-VERY BIG ROLE OF SUFFICIENT NUMBER LAWYER AND M.B.B.S/M.D/M.S DEGREE/PROFESSION POVERTY SOLUTION AND BUSINESS(INDUSTRY) ,IN INDIA HINDU RELIGION ,INDIVIDUAL CASTES POVERTY REMOVE ,POWER(DABANG),BUSINESS (INDUSTRY) LAND OWNER ,GOVT TENDER VERY-VERY BIG ROLE OF INDIVIDUAL CASTES SUFFICIENT NUMBER LAWYER AND M.B.B.S/M.D/M.S DEGREE PROFESSION , ALSO READ MU BLOG URL-http://mantusatyam.blogspot.com/2013/08/ ,google plus and face book in many news channel. BY MANTU KUMAR SATYAM, ,Religion-Hindu,Category-O.B.C (Weaker section & minority), caste-Sundi(O.B.C weaker section & minority), SEX-MALE,AGE-29Y Add-s/o.SHIV PRSAD MANDAL, FRONT BAIDYNATH TRADING /HARDWARE,AIRCEL MOBILE TOWER BUILDING, CHOICE EMPORIUM SHOP BUILDING,Near jamuna jour pool, near ramjanki mandir,castair town,SARWAN/SARATH MAIN ROAD, ,DEOGHAR,DISTRICT-DEOGHAR, JHARKHAND-814112,INDIA . MY VOTER ID CARD DETAIL-CONSTITUTION DEOGHAR ASSEMBELY,DIST-DEOGHAR,JHARKHAND, INDIA, VOTER ID CARD NUMBER-MQS5572490,AADHAR CARD ENROLLMENT NUMBER-2017/60236/00184,DATE-10/12/2012 ,TIME-13:43:52,AADHAAR NUMBER-310966907373 ) o . occupation- MSCCRRA study from SMUDE,SYNDICATE HOUSE ,MANIPAL KARNATAK, POST GRADUATE DIPLOMA IN HUMAN RIGHTS FROM INDIAN INSTITUTE OF HUMAN RIGHTS ,NEW DELHI (SESSION-2012-14)(ONE YEAR POST GRADUATE DIPLOMA IN HUMAN RIGHTS COMPLETE)& post graduate diploma in criminal justice and forensic science from Hyderabad university center of distance education(session 2012-13) BLOG DETAIL- In INDIA HINDU RELIGION any caste /INDIVIDUAL CASTES sufficient NUMBER of L.L.B/L.L.M and M.B.B.S/M.D/M.S degree or profession very big and very-very IMPORTANT role of advancement or development, power(DABANG) and business are in social structure.In reference of other profession officers and politicians very - very small role or huge difference COMPARISON than LAW and M.B.B.S/M.D/M.S HINDU RELIGION complicated caste structure of caste development,POWER and business. If individual castes have sufficient number of 10% lawyer M.B.B.S/M.D/M.S the casts benefit of 10% of sufficient number. HINDU RELIGION INDIVIDUAL CASTES SUFFICIENT NUMBER LAWYER WITH M.B.B.S/M.D/M.S DEGREE PROFESSION FACE ALL POLITICAL PROBLEM ARISE IN DEVELOPMENT Its important in other word say it,IN INDIA,HINDU RELIGION GENERAL CASTE (BRHAMAN,BHUMIHAR,RAJPUT,KAYASTH,KSHYATRIYA) or any other caste to now time do huge scale of business ,govt tender,land owner e.t.c .Have not possible of without sufficient no. of LAWYER and M.B.B.S /M.D/M.S degree of individual general castes, HINDU RELIGION,INDIA for the maintain of caste power, advancement /development like huge scale of business ,land owner and govt tender .Without sufficient no.of LAWYER and M.B.B.S/M.D/M.S degree HINDU RELIGION ,general caste/and other huge scale of business,INDIA( due to same of complicated HINDU RELIGION ,CASTE social structure in INDIA) have many factors /issue arises of huge scale business ,huge scale LAND OWNER ,GOVT. TENDER e.t.c.Its have to said very-very big problem or have not possible. Also it have to say in deep of collaboration of one caste to other caste, HINDU RELIGION ,INDIA have sufficient NUMBER of LAWYER and M.B.B.S /M.D/M.S. In some cases it have to seen . Increase of business but it have not increase of own caste power without sufficient no. of L.L.B/L.L.M and M.B.B.S/M.D/M.S degree In under of the self/own HINDU religion (minority CASTES ),INDIA of complicated caste structure face very -very basic problem of life concerned of other then development without sufficient NUMBER of lawyer and M.B.B.S/M.D/M.S DEGREE. Its have not any advantage of more people and its benefit of other profession like politicians and officers .Very-very small chances to join of politicians and officers (few number) two or three)rather then more peoples caste thousands to thousands. It also have to be seen census of India of HINDU RELIGION CASTE development in social structure with time. It have to be seen in INDIA HINDU RELIGION scenario minority caste have to huge benefit in some year join the sufficient NUMBER of lawyer and M.B.B.S/M.D/M.S degree more development like power business complicated caste social structure rather then S.C/S.T join the profession politicians and officers in long to long time /year in same conditions.Also they caste have good manage of land owner in caste participate already in past time land have not exist but acquire rather then S.C and S.T. . It have to understand on the concept of constitution of INDIA in political power increase (In political power hidden of economic power ) of backward caste in HINDU RELIGION reservation of politicians and officers. In the point of the view NORTH INDIA YADAV caste have sufficient NUMBER of L.L.B/L.L.M .Also KURMI caste in BIHAR/JHARKHAND have not sufficient NUMBER but good number of lawyers. Also have some number of M.B.B.S/M.D. NOTE-In the point of view L.L.B/L.L.M and M.B.B.S/M.D/M.S not meaning of only court and medicine practice( ONLY) but also have self business by person occupied the degree more to more effective /efficient due to key point /key master of caste power,business,land owner,govt. tender.But which caste have sufficient NUMBER of lawyer and M.B.B.S /M.D/M.S , by which caste persons LAWYER and M.B.B.S/M.D/M.S degree or professionals occupied have not done self/own business in the point of diplomatic view of hidden of power of doing business(INDUSTRY) NOTE- In the point of view B.TECH/M.TECH and M.B.A have not any role of caste POWER, development and business in HINDU religion,INDIA.But only like a simple job also in simple job arises many complicated issue like Industry demand ,complicated issue from powerful castes e.t.c.But it have not problem of HINDU RELIGION more peoples caste( not minority) , caste in INDIA. NORTTH INDIA YADAV caste have sufficient NUMBER of L.L.B/L.L.M .Also KURMI caste in BIHAR/JHARKHAND have not sufficient NUMBER but good number of lawyers. Also have some number of M.B.B.S/M.D. NOTE-In the point of view L.L.B/L.L.M and M.B.B.S/M.D/M.S not meaning of only court and medicine practice( ONLY) but also have self business by person occupied the degree more to more effective /efficient due to key point /key master of caste power,business,land owner,govt. tender.But which caste have sufficient NUMBER of lawyer and M.B.B.S /M.D/M.S , by which caste persons LAWYER and M.B.B.S/M.D/M.S degree or professionals occupied have not done self/own business in the point of diplomatic view of hidden of power of doing business(INDUSTRY) NOTE- In the point of view B.TECH/M.TECH and M.B.A have not any role of caste POWER, development and business in HINDU religion,INDIA.But only like a simple job also in simple job arises many complicated issue like Industry demand ,complicated issue from powerful castes e.t.c.But it have not problem of HINDU RELIGION more peoples caste( not minority) , caste in INDIA ALSO READ MY ANOTHER BLOGG ,GOOGLE PLUS AND FACE BOOK TOPIC SHARE ALSO READ MY OTHER BLOG AND G PLUS SHARE IN MANY NEWS CHANNEL -BUREUACRACY IN INDIA , IN INDIA HINDU RELIGION INDIVIDUAL CASTES WOMAN SOCIAL EMPOWERMENT ROLE OF SUFFICIENT NUMBER LAWYER AND M.B.BS/M.D./M.D/M.S DEGREE ,GANGSTER COMPOSITION IN INDIA,RESERVATION POLICY IN GOVT TENDER, 5 POWER FUL YOGA MEDITATION POSE ,THE COMPLETE PATH OF YOGA E.T.C

के द्वारा:

OG- IN INDIA HINDU RELIGION INDIVIDUAL CASTES DEVELOPMENT VERY-VERY BIG ROLE OF SUFFICIENT NUMBER LAWYER AND M.B.B.S/M.D/M.S DEGREE/PROFESSION POVERTY SOLUTION AND BUSINESS(INDUSTRY) ,IN INDIA HINDU RELIGION ,INDIVIDUAL CASTES POVERTY REMOVE ,POWER(DABANG),BUSINESS (INDUSTRY) LAND OWNER ,GOVT TENDER VERY-VERY BIG ROLE OF INDIVIDUAL CASTES SUFFICIENT NUMBER LAWYER AND M.B.B.S/M.D/M.S DEGREE PROFESSION , ALSO READ MU BLOG URL-http://mantusatyam.blogspot.com/2013/08/ ,google plus and face book in many news channel. BY MANTU KUMAR SATYAM, ,Religion-Hindu,Category-O.B.C (Weaker section & minority), caste-Sundi(O.B.C weaker section & minority), SEX-MALE,AGE-29Y Add-s/o.SHIV PRSAD MANDAL, FRONT BAIDYNATH TRADING /HARDWARE,AIRCEL MOBILE TOWER BUILDING, CHOICE EMPORIUM SHOP BUILDING,Near jamuna jour pool, near ramjanki mandir,castair town,SARWAN/SARATH MAIN ROAD, ,DEOGHAR,DISTRICT-DEOGHAR, JHARKHAND-814112,INDIA . MY VOTER ID CARD DETAIL-CONSTITUTION DEOGHAR ASSEMBELY,DIST-DEOGHAR,JHARKHAND, INDIA, VOTER ID CARD NUMBER-MQS5572490,AADHAR CARD ENROLLMENT NUMBER-2017/60236/00184,DATE-10/12/2012 ,TIME-13:43:52,AADHAAR NUMBER-310966907373 ) o . occupation- MSCCRRA study from SMUDE,SYNDICATE HOUSE ,MANIPAL KARNATAK, POST GRADUATE DIPLOMA IN HUMAN RIGHTS FROM INDIAN INSTITUTE OF HUMAN RIGHTS ,NEW DELHI (SESSION-2012-14)(ONE YEAR POST GRADUATE DIPLOMA IN HUMAN RIGHTS COMPLETE)& post graduate diploma in criminal justice and forensic science from Hyderabad university center of distance education(session 2012-13) BLOG DETAIL- In INDIA HINDU RELIGION any caste /INDIVIDUAL CASTES sufficient NUMBER of L.L.B/L.L.M and M.B.B.S/M.D/M.S degree or profession very big and very-very IMPORTANT role of advancement or development, power(DABANG) and business are in social structure.In reference of other profession officers and politicians very - very small role or huge difference COMPARISON than LAW and M.B.B.S/M.D/M.S HINDU RELIGION complicated caste structure of caste development,POWER and business. If individual castes have sufficient number of 10% lawyer M.B.B.S/M.D/M.S the casts benefit of 10% of sufficient number. HINDU RELIGION INDIVIDUAL CASTES SUFFICIENT NUMBER LAWYER WITH M.B.B.S/M.D/M.S DEGREE PROFESSION FACE ALL POLITICAL PROBLEM ARISE IN DEVELOPMENT Its important in other word say it,IN INDIA,HINDU RELIGION GENERAL CASTE (BRHAMAN,BHUMIHAR,RAJPUT,KAYASTH,KSHYATRIYA) or any other caste to now time do huge scale of business ,govt tender,land owner e.t.c .Have not possible of without sufficient no. of LAWYER and M.B.B.S /M.D/M.S degree of individual general castes, HINDU RELIGION,INDIA for the maintain of caste power, advancement /development like huge scale of business ,land owner and govt tender .Without sufficient no.of LAWYER and M.B.B.S/M.D/M.S degree HINDU RELIGION ,general caste/and other huge scale of business,INDIA( due to same of complicated HINDU RELIGION ,CASTE social structure in INDIA) have many factors /issue arises of huge scale business ,huge scale LAND OWNER ,GOVT. TENDER e.t.c.Its have to said very-very big problem or have not possible. Also it have to say in deep of collaboration of one caste to other caste, HINDU RELIGION ,INDIA have sufficient NUMBER of LAWYER and M.B.B.S /M.D/M.S. In some cases it have to seen . Increase of business but it have not increase of own caste power without sufficient no. of L.L.B/L.L.M and M.B.B.S/M.D/M.S degree In under of the self/own HINDU religion (minority CASTES ),INDIA of complicated caste structure face very -very basic problem of life concerned of other then development without sufficient NUMBER of lawyer and M.B.B.S/M.D/M.S DEGREE. Its have not any advantage of more people and its benefit of other profession like politicians and officers .Very-very small chances to join of politicians and officers (few number) two or three)rather then more peoples caste thousands to thousands. It also have to be seen census of India of HINDU RELIGION CASTE development in social structure with time. It have to be seen in INDIA HINDU RELIGION scenario minority caste have to huge benefit in some year join the sufficient NUMBER of lawyer and M.B.B.S/M.D/M.S degree more development like power business complicated caste social structure rather then S.C/S.T join the profession politicians and officers in long to long time /year in same conditions.Also they caste have good manage of land owner in caste participate already in past time land have not exist but acquire rather then S.C and S.T. . It have to understand on the concept of constitution of INDIA in political power increase (In political power hidden of economic power ) of backward caste in HINDU RELIGION reservation of politicians and officers. In the point of the view NORTH INDIA YADAV caste have sufficient NUMBER of L.L.B/L.L.M .Also KURMI caste in BIHAR/JHARKHAND have not sufficient NUMBER but good number of lawyers. Also have some number of M.B.B.S/M.D. NOTE-In the point of view L.L.B/L.L.M and M.B.B.S/M.D/M.S not meaning of only court and medicine practice( ONLY) but also have self business by person occupied the degree more to more effective /efficient due to key point /key master of caste power,business,land owner,govt. tender.But which caste have sufficient NUMBER of lawyer and M.B.B.S /M.D/M.S , by which caste persons LAWYER and M.B.B.S/M.D/M.S degree or professionals occupied have not done self/own business in the point of diplomatic view of hidden of power of doing business(INDUSTRY) NOTE- In the point of view B.TECH/M.TECH and M.B.A have not any role of caste POWER, development and business in HINDU religion,INDIA.But only like a simple job also in simple job arises many complicated issue like Industry demand ,complicated issue from powerful castes e.t.c.But it have not problem of HINDU RELIGION more peoples caste( not minority) , caste in INDIA. NORTTH INDIA YADAV caste have sufficient NUMBER of L.L.B/L.L.M .Also KURMI caste in BIHAR/JHARKHAND have not sufficient NUMBER but good number of lawyers. Also have some number of M.B.B.S/M.D. NOTE-In the point of view L.L.B/L.L.M and M.B.B.S/M.D/M.S not meaning of only court and medicine practice( ONLY) but also have self business by person occupied the degree more to more effective /efficient due to key point /key master of caste power,business,land owner,govt. tender.But which caste have sufficient NUMBER of lawyer and M.B.B.S /M.D/M.S , by which caste persons LAWYER and M.B.B.S/M.D/M.S degree or professionals occupied have not done self/own business in the point of diplomatic view of hidden of power of doing business(INDUSTRY) NOTE- In the point of view B.TECH/M.TECH and M.B.A have not any role of caste POWER, development and business in HINDU religion,INDIA.But only like a simple job also in simple job arises many complicated issue like Industry demand ,complicated issue from powerful castes e.t.c.But it have not problem of HINDU RELIGION more peoples caste( not minority) , caste in INDIA ALSO READ MY ANOTHER BLOGG ,GOOGLE PLUS AND FACE BOOK TOPIC SHARE ALSO READ MY OTHER BLOG AND G PLUS SHARE IN MANY NEWS CHANNEL -BUREUACRACY IN INDIA , IN INDIA HINDU RELIGION INDIVIDUAL CASTES WOMAN SOCIAL EMPOWERMENT ROLE OF SUFFICIENT NUMBER LAWYER AND M.B.BS/M.D./M.D/M.S DEGREE ,GANGSTER COMPOSITION IN INDIA,RESERVATION POLICY IN GOVT TENDER, 5 POWER FUL YOGA MEDITATION POSE ,THE COMPLETE PATH OF YOGA E.T.C

के द्वारा:

ATTENTION HINDU RELIGION O.B.C WEAKER SECTION AND S.C/S.T STUDENT /SENIOR PERSONS - IN INDIA,HINDU RELIGION INDIVIDUAL CASTES BIG ROLE OF POVERTY SUFFICIENT NUMBER LAWYER AND M.B.B.S/M.D/M.S DEGREE/PROFFESION INDIVIDUAL CASTES HINDU RELIGION POVERTY SOLUTION AND BUSINESS(INDUSTRY) ,IN INDIA HINDU RELIGION ,INDIVIDUAL CASTES POVERTY REMOVE ,POWER(DPOVERTYABANG),BUSINESS(INDUSTRY) LAND OWNER ,GOVT TENDER VERY-VERY BIG ROLE OF INDIVIDUAL CASTES SUFFICIENT NUMBER LAWYER AND M.B.B.S/M.D/M.S DEGREE PROFESSION ALSO READ MY BLOG-http://mantusatyam.blogspot.com/2013/08/role BY MANTU KUMAR SATYAM, ,Religion-Hindu,Category-O.B.C (Weaker section), caste-Sundi(O.B.C weaker section), SEX-MALE,AGE-29Y Add-s/o.SHIV PRSAD MANDAL, FRONT BAIDYNATH TRADING /HARDWARE,AIRCEL MOBILE TOWER BUILDING, CHOICE EMPORIUM SHOP BUILDING,Near jamuna jour pool, near ramjanki mandir,castair town,SARWAN/SARATH MAIN ROAD, ,DEOGHAR,DISTRICT-DEOGHAR, JHARKHAND-814112,INDIA . MY VOTER ID CARD DETAIL-CONSTITUTION DEOGHAR ASSEMBELY,DIST-DEOGHAR,JHARKHAND, INDIA, VOTER ID CARD NUMBER-MQS5572490,AADHAR CARD ENROLLMENT NUMBER-2017/60236/00184,DATE-10/12/2012 ,TIME-13:43:52,AADHAAR NUMBER-310966907373 ) occupation- MSCCRRA study from SMUDE,SYNDICATE HOUSE ,MANIPAL KARNATAK, POST GRADUATE DIPLOMA IN HUMAN RIGHTS FROM INDIAN INSTITUTE OF HUMAN RIGHTS ,NEW DELHI (SESSION-2012-14,2ND YEAR) IN INDIA,HINDU RELIGION INDIVIDUAL CASTES BIG ROLE OF POVERTY SOLUTION SUFFICIENT NUMBER LAWYER AND M.B.B.S/M.D/M.S DEGREE/PROFESSION OF HINDU RELIGION INDIVIDUAL CASTES POVERTY SOLUTION AND BUSINESS(INDUSTRY) ,IN INDIA HINDU RELIGION ,INDIVIDUAL CASTES POVERTY REMOVE ,POWER(DPOVERTYABANG),BUSINESS(INDUSTRY) LAND OWNER ,GOVT TENDER E.T.C VERY-VERY BIG ROLE OF HINDU RELIGION INDIVIDUAL CASTES SUFFICIENT NUMBER LAWYER AND M.B.B.S/M.D/M.S DEGREE /PROFESSION BLOG DETAIL-concerned ,political,economical and social in reference INDIA ,HINDU RELIGION caste system social structure ,caste power(DABANG),business(INDUSTRY) and development. My content in INDIA like HINDU RELIGION complicated caste system ,caste power (DABANG),development or advancement or business(INDUSTRY) in social structure. In INDIA HINDU RELIGION any caste /INDIVIDUAL CASTES sufficient NUMBER of L.L.B/L.L.M and M.B.B.S/M.D/M.S degree or profession very big and very-very IMPORTANT role of advancement or development, power(DABANG) and business are in social structure.In reference of other profession officers and politicians very – very small role or huge difference COMPARISON than LAW and M.B.B.S/M.D/M.S HINDU RELIGION complicated caste structure of caste development,POWER and business. If individual castes have sufficient number of 10% lawyer M.B.B.S/M.D/M.S the casts benefit of 10% of sufficient number . SUFFICIENT NUMBER LAWYER WITH M.B.B.S/M.D/M.S OF HINDU RELIGION OF INDIVIDUAL CASTES FACE /SOLVE ALL ARISE POLITICAL PROBLEM OF DEVELOPMENT. . Its important in other word say it,IN INDIA,HINDU RELIGION GENERAL CASTE (BRHAMAN,BHUMIHAR,RAJPUT,KAYASTH,KSHYATRIYA) or any other caste to now time do huge scale of business ,govt tender,land owner e.t.c .Have not possible of without sufficient no. of LAWYER and M.B.B.S /M.D/M.S degree of individual general castes, HINDU RELIGION,INDIA for the maintain of caste power, advancement /development like huge scale of business ,land owner and govt tender .Without sufficient no.of LAWYER and M.B.B.S/M.D/M.S degree HINDU RELIGION ,general caste/and other huge scale of business,INDIA( due to same of complicated HINDU RELIGION ,CASTE social structure in INDIA) have many factors /issue arises of huge scale business ,huge scale LAND OWNER ,GOVT. TENDER e.t.c.Its have to said very-very big problem or have not possible. Also it have to say in deep of collaboration of one caste to other caste, HINDU RELIGION ,INDIA have sufficient NUMBER of LAWYER and M.B.B.S /M.D/M.S. In some cases it have to seen . Increase of business but it have not increase of own caste power without sufficient no. of L.L.B/L.L.M and M.B.B.S/M.D/M.S degree In under of the self/own HINDU religion (minority CASTES ),INDIA of complicated caste structure face very -very basic problem of life concerned of other then development without sufficient NUMBER of lawyer and M.B.B.S/M.D/M.S DEGREE. Its have not any advantage of more people and its benefit of other profession like politicians and officers .Very-very small chances to join of politicians and officers (few number) two or three)rather then more peoples caste thousands to thousands. It also have to be seen census of India of HINDU RELIGION CASTE development in social structure with time. It have to be seen in INDIA HINDU RELIGION scenario minority caste have to huge benefit in some year join the sufficient NUMBER of lawyer and M.B.B.S/M.D/M.S degree more development like power business complicated caste social structure rather then S.C/S.T join the profession politicians and officers in long to long time /year in same conditions.Also they caste have sufficient number lawyer acquire good manage of land owner in caste participate already in past time land have not exist but acquire rather then S.C and S.T. . It have to understand on the concept of constitution of INDIA in political power increase (In political power hidden of economic power ) of backward caste in HINDU RELIGION reservation of politicians and officers. In the point of the view NORTH INDIA YADAV caste have sufficient NUMBER of L.L.B/L.L.M .Also KURMI caste in BIHAR/JHARKHAND have not sufficient NUMBER but good number of lawyers. Also have some number of M.B.B.S/M.D. NOTE-In the point of view L.L.B/L.L.M and M.B.B.S/M.D/M.S not meaning of only court and medicine practice( ONLY) but also have self business by person occupied the degree more to more effective /efficient due to key point /key master of caste power,business,land owner,govt. tender.But which caste have sufficient NUMBER of lawyer and M.B.B.S /M.D/M.S , by which caste persons LAWYER and M.B.B.S/M.D/M.S degree or professionals occupied have not done self/own business in the point of diplomatic view of hidden of power of doing business(INDUSTRY) NOTE- In the point of view B.TECH/M.TECH and M.B.A have not any role of caste POWER, development and business in HINDU religion,INDIA.But only like a simple job also in simple job arises many complicated issue like Industry demand ,complicated issue from powerful castes e.t.c.But it have not problem of HINDU RELIGION more peoples caste( not minority) , caste in INDIA. NORTTH INDIA YADAV caste have sufficient NUMBER of L.L.B/L.L.M .Also KURMI caste in BIHAR/JHARKHAND have not sufficient NUMBER but good number of lawyers. Also have some number of M.B.B.S/M.D. NOTE-In the point of view L.L.B/L.L.M and M.B.B.S/M.D/M.S not meaning of only court and medicine practice( ONLY) but also have self business by person occupied the degree more to more effective /efficient due to key point /key master of caste power,business,land owner,govt. tender.But which caste have sufficient NUMBER of lawyer and M.B.B.S /M.D/M.S , by which caste persons LAWYER and M.B.B.S/M.D/M.S degree or professionals occupied have not done self/own business in the point of diplomatic view of hidden of power of doing business(INDUSTRY) NOTE-In the point of view B.TECH/M.TECH and M.B.A have not any role of caste POWER, development and business in HINDU religion,INDIA.But only like a simple job also in simple job arises many complicated issue like Industry demand ,complicated issue from powerful castes e.t.c.But it have not problem of HINDU RELIGION more population caste in INDIA ....... ALSO READ MY OTHER BLOGS , GOOGLE PLUS IN MANY NEWS CHANNEL AND COMMENT IN WWW.JAGRANJUNCTION.COM BUROCRACY IN INDIA ,GANGESTER COMPOSITION IN INDIA ,THE COMPLETE PATH OF YOGA , THE 5 POWERFUL MEDITATION POSE E.T.C........

के द्वारा:

http://mantusatyam.blogspot.com/2013/08/role-IN INDIA,INDIVIDUAL CASTES HINDU RELIGION ROLE OF SUFFICIENT NUMBER LAWYER AND M.B.B.S/M.D/M.S DEGREE/PROFFESION INDIVIDUAL CASTES HINDU RELIGION POVERTY SOLUTION AND BUSINESS(INDUSTRY) ,IN INDIA HINDU RELIGION ,INDIVIDUAL CASTES POVERTY REMOVE ,POWER(DABANG),BUSINESS(INDUSTRY) LAND OWNER ,GOVT TENDER VERY-VERY BIG ROLE OF INDIVIDUAL CASTES HINDU RELIGION SUFFICIENT NUMBER LAWYER AND M.B.B.S/M.D/M.S DEGREE PROFESSION. ALSO IT READ MY BLOG-http://mantusatyam.blogspot.com/2013/08/ AND GOOGLE PLUS SHARE ON NEWS CHANNEL. BY MANTU KUMAR SATYAM, ,Religion-Hindu,Category-O.B.C (Weaker section), caste-Sundi(O.B.C weaker section), SEX-MALE,AGE-29Y Add-S/O,.SHIV PRSAD MANDAL, FRONT BAIDYNATH TRADING /HARDWARE,AIRCEL MOBILE TOWER BUILDING, CHOICE EMPORIUM SHOP BUILDING,Near jamuna jour pool, near ramjanki mandir,castair town,SARWAN/SARATH MAIN ROAD,DEOGHAR,DISTRICT-DEOGHAR, JHARKHAND-814112,INDIA . MY VOTER ID CARD DETAIL-CONSTITUTION DEOGHAR ASSEMBELY,DIST-DEOGHAR,JHARKHAND, INDIA, VOTER ID CARD NUMBER-MQS5572490,AADHAR CARD- (ENROLLMENT NUMBER-2017/60236/00184,DATE-10/12/2012 ,TIME-13:43:52,)AADHAAR NUMBER-310966907373 ) occupation- MSCCRRA study from SMUDE,SYNDICATE HOUSE ,MANIPAL KARNATAK, POST GRADUATE DIPLOMA IN HUMAN RIGHTS FROM INDIAN INSTITUTE OF HUMAN RIGHTS ,NEW DELHI (SESSION-2012-14,2ND YEAR) BLOG – POVERTY SOLUTION IN INDIA,IN INDIA HINDU RELIGION INDIVIDUAL CASTES POVERTY REMOVE ,POWER(DABANG),BUSINESS(INDUSTRY) LAND OWNER ,GOVT TENDER ROLE OF LAWYER AND M.B.B.S/M.D/M.S BLOG DETAIL-concerned ,political,economical and social in reference INDIA ,HINDU RELIGION caste system social structure ,caste power(DABANG),business(INDUSTRY) and development. My content in INDIA like HINDU RELIGION complicated caste system ,caste power (DABANG),development or advancement or business(INDUSTRY) in social structure. In INDIA HINDU RELIGION any caste /INDIVIDUAL CASTES sufficient NUMBER of L.L.B/L.L.M and M.B.B.S/M.D/M.S degree or profession very big and very-very IMPORTANT role of advancement or development, power(DABANG) and business are in social structure.In reference of other profession officers and politicians very – very small role or huge difference COMPARISON than LAW and M.B.B.S/M.D/M.S HINDU RELIGION complicated caste structure of caste development,POWER and business. If individual castes have sufficient number of 10% lawyer M.B.B.S/M.D/M.S the casts benefit of 10% of sufficient number. Its important in other word say it,IN INDIA,HINDU RELIGION GENERAL CASTE (BRHAMAN,BHUMIHAR,RAJPUT,KAYASTH,KSHYATRIYA) or any other caste to now time do huge scale of business ,govt tender,land owner e.t.c .Have not possible of without sufficient no. of LAWYER and M.B.B.S /M.D/M.S degree of individual general castes, HINDU RELIGION,INDIA for the maintain of caste power, advancement /development like huge scale of business ,land owner and govt tender .Without sufficient no.of LAWYER and M.B.B.S/M.D/M.S degree HINDU RELIGION ,general caste/and other huge scale of business,INDIA( due to same of complicated HINDU RELIGION ,CASTE social structure in INDIA) have many factors /issue arises of huge scale business ,huge scale LAND OWNER ,GOVT. TENDER e.t.c.Its have to said very-very big problem or have not possible. Also it have to say in deep of collaboration of one caste to other caste, HINDU RELIGION ,INDIA have sufficient NUMBER of LAWYER and M.B.B.S /M.D/M.S. In some cases it have to seen . Increase of business but it have not increase of own caste power without sufficient no. of L.L.B/L.L.M and M.B.B.S/M.D/M.S degree In under of the self/own HINDU religion (minority CASTES ),INDIA of complicated caste structure face very -very basic problem of life concerned of other then development without sufficient NUMBER of lawyer and M.B.B.S/M.D/M.S DEGREE. Its have not any advantage of more people and its benefit of other profession like politicians and officers .Very-very small chances to join of politicians and officers (few number) two or three)rather then more peoples caste thousands to thousands. It also have to be seen census of India of HINDU RELIGION CASTE development in social structure with time. It have to be seen in INDIA HINDU RELIGION scenario minority caste have to huge benefit in some year join the sufficient NUMBER of lawyer and M.B.B.S/M.D/M.S degree more development like power business complicated caste social structure rather then S.C/S.T join the profession politicians and officers in long to long time /year in same conditions.Also they caste have sufficient number lawyer acquire good manage of land owner in caste participate already in past time land have not exist but acquire rather then S.C and S.T. . It have to understand on the concept of constitution of INDIA in political power increase (In political power hidden of economic power ) of backward caste in HINDU RELIGION reservation of politicians and officers. In the point of the view NORTH INDIA YADAV caste have sufficient NUMBER of L.L.B/L.L.M .Also KURMI caste in BIHAR/JHARKHAND have not sufficient NUMBER but good number of lawyers. Also have some number of M.B.B.S/M.D. NOTE-In the point of view L.L.B/L.L.M and M.B.B.S/M.D/M.S not meaning of only court and medicine practice( ONLY) but also have self business by person occupied the degree more to more effective /efficient due to key point /key master of caste power,business,land owner,govt. tender.But which caste have sufficient NUMBER of lawyer and M.B.B.S /M.D/M.S , by which caste persons LAWYER and M.B.B.S/M.D/M.S degree or professionals occupied have not done self/own business in the point of diplomatic view of hidden of power of doing business(INDUSTRY) NOTE- In the point of view B.TECH/M.TECH and M.B.A have not any role of caste POWER, development and business in HINDU religion,INDIA.But only like a simple job also in simple job arises many complicated issue like Industry demand ,complicated issue from powerful castes e.t.c.But it have not problem of HINDU RELIGION more peoples caste( not minority) , caste in INDIA. NORTTH INDIA YADAV caste have sufficient NUMBER of L.L.B/L.L.M .Also KURMI caste in BIHAR/JHARKHAND have not sufficient NUMBER but good number of lawyers. Also have some number of M.B.B.S/M.D. NOTE-In the point of view L.L.B/L.L.M and M.B.B.S/M.D/M.S not meaning of only court and medicine practice( ONLY) but also have self business by person occupied the degree more to more effective /efficient due to key point /key master of caste power,business,land owner,govt. tender.But which caste have sufficient NUMBER of lawyer and M.B.B.S /M.D/M.S , by which caste persons LAWYER and M.B.B.S/M.D/M.S degree or professionals occupied have not done self/own business in the point of diplomatic view of hidden of power of doing business(INDUSTRY) NOTE- In the point of view B.TECH/M.TECH and M.B.A have not any role of caste POWER, development and business in HINDU religion,INDIA.But only like a simple job also in simple job arises many complicated issue like Industry demand ,complicated issue from powerful castes e.t.c.But it have not problem of HINDU RELIGION more population caste in INDIA

के द्वारा:

http://mantusatyam.blogspot.com/2013/08/role-IN INDIA,INDIVIDUAL CASTES HINDU RELIGION ROLE OF SUFFICIENT NUMBER LAWYER AND M.B.B.S/M.D/M.S DEGREE/PROFFESION INDIVIDUAL CASTES HINDU RELIGION POVERTY SOLUTION AND BUSINESS(INDUSTRY) ,IN INDIA HINDU RELIGION ,INDIVIDUAL CASTES POVERTY REMOVE ,POWER(DPOVERTYABANG),BUSINESS(INDUSTRY) LAND OWNER ,GOVT TENDER VERY-VERY BIG ROLE OF INDIVIDUAL CASTES SUFFICIENT NUMBER LAWYER AND M.B.B.S/M.D/M.S DEGREE PROFESSION. ALSO IT READ MY BLOG-http://mantusatyam.blogspot.com/2013/08/ AND GOOGLE PLUS SHARE ON NEWS CHANNEL. BY MANTU KUMAR SATYAM, ,Religion-Hindu,Category-O.B.C (Weaker section), caste-Sundi(O.B.C weaker section), SEX-MALE,AGE-29Y Add-S/O,.SHIV PRSAD MANDAL, FRONT BAIDYNATH TRADING /HARDWARE,AIRCEL MOBILE TOWER BUILDING, CHOICE EMPORIUM SHOP BUILDING,Near jamuna jour pool, near ramjanki mandir,castair town,SARWAN/SARATH MAIN ROAD,DEOGHAR,DISTRICT-DEOGHAR, JHARKHAND-814112,INDIA . MY VOTER ID CARD DETAIL-CONSTITUTION DEOGHAR ASSEMBELY,DIST-DEOGHAR,JHARKHAND, INDIA, VOTER ID CARD NUMBER-MQS5572490,AADHAR CARD- (ENROLLMENT NUMBER-2017/60236/00184,DATE-10/12/2012 ,TIME-13:43:52,)AADHAAR NUMBER-310966907373 ) occupation- MSCCRRA study from SMUDE,SYNDICATE HOUSE ,MANIPAL KARNATAK, POST GRADUATE DIPLOMA IN HUMAN RIGHTS FROM INDIAN INSTITUTE OF HUMAN RIGHTS ,NEW DELHI (SESSION-2012-14,2ND YEAR) BLOG – POVERTY SOLUTION IN INDIA,IN INDIA HINDU RELIGION INDIVIDUAL CASTES POVERTY REMOVE ,POWER(DABANG),BUSINESS(INDUSTRY) LAND OWNER ,GOVT TENDER ROLE OF LAWYER AND M.B.B.S/M.D/M.S BLOG DETAIL-concerned ,political,economical and social in reference INDIA ,HINDU RELIGION caste system social structure ,caste power(DABANG),business(INDUSTRY) and development. My content in INDIA like HINDU RELIGION complicated caste system ,caste power (DABANG),development or advancement or business(INDUSTRY) in social structure. In INDIA HINDU RELIGION any caste /INDIVIDUAL CASTES sufficient NUMBER of L.L.B/L.L.M and M.B.B.S/M.D/M.S degree or profession very big and very-very IMPORTANT role of advancement or development, power(DABANG) and business are in social structure.In reference of other profession officers and politicians very – very small role or huge difference COMPARISON than LAW and M.B.B.S/M.D/M.S HINDU RELIGION complicated caste structure of caste development,POWER and business. If individual castes have sufficient number of 10% lawyer M.B.B.S/M.D/M.S the casts benefit of 10% of sufficient number. Its important in other word say it,IN INDIA,HINDU RELIGION GENERAL CASTE (BRHAMAN,BHUMIHAR,RAJPUT,KAYASTH,KSHYATRIYA) or any other caste to now time do huge scale of business ,govt tender,land owner e.t.c .Have not possible of without sufficient no. of LAWYER and M.B.B.S /M.D/M.S degree of individual general castes, HINDU RELIGION,INDIA for the maintain of caste power, advancement /development like huge scale of business ,land owner and govt tender .Without sufficient no.of LAWYER and M.B.B.S/M.D/M.S degree HINDU RELIGION ,general caste/and other huge scale of business,INDIA( due to same of complicated HINDU RELIGION ,CASTE social structure in INDIA) have many factors /issue arises of huge scale business ,huge scale LAND OWNER ,GOVT. TENDER e.t.c.Its have to said very-very big problem or have not possible. Also it have to say in deep of collaboration of one caste to other caste, HINDU RELIGION ,INDIA have sufficient NUMBER of LAWYER and M.B.B.S /M.D/M.S. In some cases it have to seen . Increase of business but it have not increase of own caste power without sufficient no. of L.L.B/L.L.M and M.B.B.S/M.D/M.S degree In under of the self/own HINDU religion (minority CASTES ),INDIA of complicated caste structure face very -very basic problem of life concerned of other then development without sufficient NUMBER of lawyer and M.B.B.S/M.D/M.S DEGREE. Its have not any advantage of more people and its benefit of other profession like politicians and officers .Very-very small chances to join of politicians and officers (few number) two or three)rather then more peoples caste thousands to thousands. It also have to be seen census of India of HINDU RELIGION CASTE development in social structure with time. It have to be seen in INDIA HINDU RELIGION scenario minority caste have to huge benefit in some year join the sufficient NUMBER of lawyer and M.B.B.S/M.D/M.S degree more development like power business complicated caste social structure rather then S.C/S.T join the profession politicians and officers in long to long time /year in same conditions.Also they caste have sufficient number lawyer acquire good manage of land owner in caste participate already in past time land have not exist but acquire rather then S.C and S.T. . It have to understand on the concept of constitution of INDIA in political power increase (In political power hidden of economic power ) of backward caste in HINDU RELIGION reservation of politicians and officers. In the point of the view NORTH INDIA YADAV caste have sufficient NUMBER of L.L.B/L.L.M .Also KURMI caste in BIHAR/JHARKHAND have not sufficient NUMBER but good number of lawyers. Also have some number of M.B.B.S/M.D. NOTE-In the point of view L.L.B/L.L.M and M.B.B.S/M.D/M.S not meaning of only court and medicine practice( ONLY) but also have self business by person occupied the degree more to more effective /efficient due to key point /key master of caste power,business,land owner,govt. tender.But which caste have sufficient NUMBER of lawyer and M.B.B.S /M.D/M.S , by which caste persons LAWYER and M.B.B.S/M.D/M.S degree or professionals occupied have not done self/own business in the point of diplomatic view of hidden of power of doing business(INDUSTRY) NOTE- In the point of view B.TECH/M.TECH and M.B.A have not any role of caste POWER, development and business in HINDU religion,INDIA.But only like a simple job also in simple job arises many complicated issue like Industry demand ,complicated issue from powerful castes e.t.c.But it have not problem of HINDU RELIGION more peoples caste( not minority) , caste in INDIA. NORTTH INDIA YADAV caste have sufficient NUMBER of L.L.B/L.L.M .Also KURMI caste in BIHAR/JHARKHAND have not sufficient NUMBER but good number of lawyers. Also have some number of M.B.B.S/M.D. NOTE-In the point of view L.L.B/L.L.M and M.B.B.S/M.D/M.S not meaning of only court and medicine practice( ONLY) but also have self business by person occupied the degree more to more effective /efficient due to key point /key master of caste power,business,land owner,govt. tender.But which caste have sufficient NUMBER of lawyer and M.B.B.S /M.D/M.S , by which caste persons LAWYER and M.B.B.S/M.D/M.S degree or professionals occupied have not done self/own business in the point of diplomatic view of hidden of power of doing business(INDUSTRY) NOTE- In the point of view B.TECH/M.TECH and M.B.A have not any role of caste POWER, development and business in HINDU religion,INDIA.But only like a simple job also in simple job arises many complicated issue like Industry demand ,complicated issue from powerful castes e.t.c.But it have not problem of HINDU RELIGION more population caste in INDIA

के द्वारा:

http://mantusatyam.blogspot.com/2013/08/role-IN INDIA,ROLE OF SUFFICIENT NUMBER LAWYER AND M.B.B.S/M.D/M.S DEGREE/PROFFESION INDIVIDUAL CASTES HINDU RELIGION POVERTY SOLUTION AND BUSINESS(INDUSTRY) ,IN INDIA HINDU RELIGION ,INDIVIDUAL CASTES POVERTY REMOVE ,POWER(DPOVERTYABANG),BUSINESS(INDUSTRY) LAND OWNER ,GOVT TENDER VERY-VERY BIG ROLE OF INDIVIDUAL CASTES SUFFICIENT NUMBER LAWYER AND M.B.B.S/M.D/M.S DEGREE PROFESSION BY MANTU KUMAR SATYAM,Religion-Hindu,Category-O.B.C (Weaker section & minority), caste-Sundi(O.B.C weaker section & minority),Add-s/o.SHIV PRSAD MANDAL,AIRCEL MOBILE TOWER, Near jamuna jour pool, near ramjanki mandir,castair town,SARWAN-MAIN ROAD, ,DEOGHAR,DISTRICT-DEOGHAR, JHARKHAND-814112,INDIA . occupation- MSCCRRA study from SMUDE,SYNDICATE HOUSE ,MANIPAL KARNATAK, POST GRADUATE DIPLOMA IN HUMAN RIGHTS FROM INDIAN INSTITUTE OF HUMAN RIGHTS ,NEW DELHI (SESSION-2012-14)(ONE YEAR POST GRADUATE DIPLOMA IN HUMAN RIGHTS COMPLETE) MY VOTER ID CARD DETAIL-DIST-DEOGHAR,STATE-JHARKHAND,NUMBER-MQS5572490,AADHAAR CARD DETAIL-NUMBER-310966907373(REGST. NUMBER-2017/60236/00184) and pan card number-EBDPS1842G BLOG - POVERTY SOLUTION IN INDIA,IN INDIA HINDU RELIGION INDIVIDUAL CASTES POVERTY REMOVE ,POWER(DABANG),BUSINESS(INDUSTRY) LAND OWNER ,GOVT TENDER ROLE OF LAWYER AND M.B.B.S/M.D/M.S BLOG DETAIL-concerned ,political,economical and social in reference INDIA ,HINDU RELIGION caste system social structure ,caste power(DABANG),business(INDUSTRY) and development. My content in INDIA like HINDU RELIGION complicated caste system ,caste power (DABANG),development or advancement or business(INDUSTRY) in social structure. In INDIA HINDU RELIGION any caste /INDIVIDUAL CASTES sufficient NUMBER of L.L.B/L.L.M and M.B.B.S/M.D/M.S degree or profession very big and very-very IMPORTANT role of advancement or development, power(DABANG) and business are in social structure.In reference of other profession officers and politicians very - very small role or huge difference COMPARISON than LAW and M.B.B.S/M.D/M.S HINDU RELIGION complicated caste structure of caste development,POWER and business. If individual castes have sufficient number of 10% lawyer M.B.B.S/M.D/M.S the casts benefit of 10% of sufficient number. Its important in other word say it,IN INDIA,HINDU RELIGION GENERAL CASTE (BRHAMAN,BHUMIHAR,RAJPUT,KAYASTH,KSHYATRIYA) or any other caste to now time do huge scale of business ,govt tender,land owner e.t.c .Have not possible of without sufficient no. of LAWYER and M.B.B.S /M.D/M.S degree of individual general castes, HINDU RELIGION,INDIA for the maintain of caste power, advancement /development like huge scale of business ,land owner and govt tender .Without sufficient no.of LAWYER and M.B.B.S/M.D/M.S degree HINDU RELIGION ,general caste/and other huge scale of business,INDIA( due to same of complicated HINDU RELIGION ,CASTE social structure in INDIA) have many factors /issue arises of huge scale business ,huge scale LAND OWNER ,GOVT. TENDER e.t.c.Its have to said very-very big problem or have not possible. Also it have to say in deep of collaboration of one caste to other caste, HINDU RELIGION ,INDIA have sufficient NUMBER of LAWYER and M.B.B.S /M.D/M.S. In some cases it have to seen . Increase of business but it have not increase of own caste power without sufficient no. of L.L.B/L.L.M and M.B.B.S/M.D/M.S degree In under of the self/own HINDU religion (minority CASTES ),INDIA of complicated caste structure face very -very basic problem of life concerned of other then development without sufficient NUMBER of lawyer and M.B.B.S/M.D/M.S DEGREE. Its have not any advantage of more people and its benefit of other profession like politicians and officers .Very-very small chances to join of politicians and officers (few number) two or three)rather then more peoples caste thousands to thousands. It also have to be seen census of India of HINDU RELIGION CASTE development in social structure with time. It have to be seen in INDIA HINDU RELIGION scenario minority caste have to huge benefit in some year join the sufficient NUMBER of lawyer and M.B.B.S/M.D/M.S degree more development like power business complicated caste social structure rather then S.C/S.T join the profession politicians and officers in long to long time /year in same conditions.Also they caste have good manage of land owner in caste participate already in past time land have not exist but acquire rather then S.C and S.T. . It have to understand on the concept of constitution of INDIA in political power increase (In political power hidden of economic power ) of backward caste in HINDU RELIGION reservation of politicians and officers. In the point of the view NORTH INDIA YADAV caste have sufficient NUMBER of L.L.B/L.L.M .Also KURMI caste in BIHAR/JHARKHAND have not sufficient NUMBER but good number of lawyers. Also have some number of M.B.B.S/M.D. NOTE-In the point of view L.L.B/L.L.M and M.B.B.S/M.D/M.S not meaning of only court and medicine practice( ONLY) but also have self business by person occupied the degree more to more effective /efficient due to key point /key master of caste power,business,land owner,govt. tender.But which caste have sufficient NUMBER of lawyer and M.B.B.S /M.D/M.S , by which caste persons LAWYER and M.B.B.S/M.D/M.S degree or professionals occupied have not done self/own business in the point of diplomatic view of hidden of power of doing business(INDUSTRY) NOTE- In the point of view B.TECH/M.TECH and M.B.A have not any role of caste POWER, development and business in HINDU religion,INDIA.But only like a simple job also in simple job arises many complicated issue like Industry demand ,complicated issue from powerful castes e.t.c.But it have not problem of HINDU RELIGION more peoples caste( not minority) , caste in INDIA. NORTTH INDIA YADAV caste have sufficient NUMBER of L.L.B/L.L.M .Also KURMI caste in BIHAR/JHARKHAND have not sufficient NUMBER but good number of lawyers. Also have some number of M.B.B.S/M.D. NOTE-In the point of view L.L.B/L.L.M and M.B.B.S/M.D/M.S not meaning of only court and medicine practice( ONLY) but also have self business by person occupied the degree more to more effective /efficient due to key point /key master of caste power,business,land owner,govt. tender.But which caste have sufficient NUMBER of lawyer and M.B.B.S /M.D/M.S , by which caste persons LAWYER and M.B.B.S/M.D/M.S degree or professionals occupied have not done self/own business in the point of diplomatic view of hidden of power of doing business(INDUSTRY) NOTE- In the point of view B.TECH/M.TECH and M.B.A have not any role of caste POWER, development and business in HINDU religion,INDIA.But only like a simple job also in simple job arises many complicated issue like Industry demand ,complicated issue from powerful castes e.t.c.But it have not problem of HINDU RELIGION more POPULATION CASTES in INDIA

के द्वारा:

INDIA GOVT. SHOULD HAVE MODIFIED RESERVATION POLICY IN REFERENCE OF HINDU RELIGION O.B.C CATEGORY BLOG by MANTU KUMAR SATYAM,Religion-Hindu,Category-O.B.C (Weaker section & minority), caste-Sundi(O.B.C weaker section & minority),Add-s/o.SHIV PRSAD MANDAL,AIRCEL MOBILE TOWER, front baidynat hardwre,Near jamuna jour pool, near ramjanki mandir,castair town,SARWAN-MAIN ROAD, ,DEOGHAR,DISTRICT-DEOGHAR, JHARKHAND-814112,INDIA . occupation- MSCCRRA study from SMUDE,SYNDICATE HOUSE ,MANIPAL KARNATAK, POST GRADUATE DIPLOMA IN HUMAN RIGHTS FROM INDIAN INSTITUTE OF HUMAN RIGHTS ,NEW DELHI (SESSION-2012-14)(ONE YEAR POST GRADUATE DIPLOMA IN HUMAN RIGHTS COMPLETE) -INDIA GOVT. SHOULD HAVE MODIFIED RESRVETION POLICY IN REFERENCE OF HINDU RELIGION O.B.C CATEGORY.O.B.C RESEVATION SHOULD HAVE DONE IN HINDU RELIGION O.B.C CATEGORY 4 TO 5 PART .DUE TO IN THE TIME SOME HINDU RELIGION O.B.C CATEGORY CASTES DEVELOPMENT/SOCIAL EMPOWERMENT EQUIVALENT HINDU RELIGION GENRAL CASTES . HINDU RELIGION O.BC CATEGORY WHICH CASTES SOCIAL EMPOWERMENT EQUIVALENT GENRAL CASTES HAVE TO ABOUT COMPLETE BENEFIT RESERVATION POLICY OF INDIA GOVT. DUE TO IN HINDU RELIGION O.B.C RESERVATION QUOATA HUGE LOSS OF SEAT IN UNIVERSITY/ COLLEGE ADMISSION OF LAW AND M.B.B.S LIKE COURSES HAVE INCREASE OF SOCIAL EMPOWERMENT. HINDU RELIGION ,O.B.C WEAKER SECTION WEAKER SECTION CASTES AND O.B.C LESS NUMBER POPULATION CASTES. . ALSO INDIA GOVT. SHOULD HAVE GIVE THE SPECIAL ATTENTION ON RESERVATION POLICY OF HINDU RELIGION O.B.C OF VERY LESS NUMBER POPULATION .

के द्वारा:

IN INDIA,ROLE OF SUFFICIENT NUMBER LAWYER AND M.B.B.S/M.D/M.S DEGREE/PROFFESION INDIVIDUAL CASTES HINDU RELIGION POVERTY SOLUTION AND BUSINESS(INDUSTRY) ,IN INDIA HINDU RELIGION ,INDIVIDUAL CASTES POVERTY REMOVE ,POWER(DPOVERTYABANG),BUSINESS(INDUSTRY) LAND OWNER ,GOVT TENDER VERY-VERY BIG ROLE OF INDIVIDUAL CASTES SUFFICIENT NUMBER LAWYER AND M.B.B.S/M.D/M.S DEGREE PROFESSION BY MANTU KUMAR SATYAM,Religion-Hindu,Category-O.B.C (Weaker section & minority), caste-Sundi(O.B.C weaker section & minority),Add-s/o.SHIV PRSAD MANDAL,AIRCEL MOBILE TOWER, Near jamuna jour pool, near ramjanki mandir,castair town,SARWAN-MAIN ROAD, ,DEOGHAR,DISTRICT-DEOGHAR, JHARKHAND-814112,INDIA . occupation- MSCCRRA study from SMUDE,SYNDICATE HOUSE ,MANIPAL KARNATAK, POST GRADUATE DIPLOMA IN HUMAN RIGHTS FROM INDIAN INSTITUTE OF HUMAN RIGHTS ,NEW DELHI (SESSION-2012-14)(ONE YEAR POST GRADUATE DIPLOMA IN HUMAN RIGHTS COMPLETE)& post graduate diploma in criminal justice and forensic science from Hyderabad university center of distance education(session 2012-13) BLOG - POVERTY SOLUTION IN INDIA,IN INDIA HINDU RELIGION INDIVIDUAL CASTES POVERTY REMOVE ,POWER(DABANG),BUSINESS(INDUSTRY) LAND OWNER ,GOVT TENDER ROLE OF LAWYER AND M.B.B.S/M.D/M.S BLOG DETAIL-concerned ,political,economical and social in reference INDIA ,HINDU RELIGION caste system social structure ,caste power(DABANG),business(INDUSTRY) and development. My content in INDIA like HINDU RELIGION complicated caste system ,caste power (DABANG),development or advancement or business(INDUSTRY) in social structure. In INDIA HINDU RELIGION any caste /INDIVIDUAL CASTES sufficient NUMBER of L.L.B/L.L.M and M.B.B.S/M.D/M.S degree or profession very big and very-very IMPORTANT role of advancement or development, power(DABANG) and business are in social structure.In reference of other profession officers and politicians very - very small role or huge difference COMPARISON than LAW and M.B.B.S/M.D/M.S HINDU RELIGION complicated caste structure of caste development,POWER and business. If individual castes have sufficient number of 10% lawyer M.B.B.S/M.D/M.S the casts benefit of 10% of sufficient number. Its important in other word say it,IN INDIA,HINDU RELIGION GENERAL CASTE (BRHAMAN,BHUMIHAR,RAJPUT,KAYASTH,KSHYATRIYA) or any other caste to now time do huge scale of business ,govt tender,land owner e.t.c .Have not possible of without sufficient no. of LAWYER and M.B.B.S /M.D/M.S degree of individual general castes, HINDU RELIGION,INDIA for the maintain of caste power, advancement /development like huge scale of business ,land owner and govt tender .Without sufficient no.of LAWYER and M.B.B.S/M.D/M.S degree HINDU RELIGION ,general caste/and other huge scale of business,INDIA( due to same of complicated HINDU RELIGION ,CASTE social structure in INDIA) have many factors /issue arises of huge scale business ,huge scale LAND OWNER ,GOVT. TENDER e.t.c.Its have to said very-very big problem or have not possible. Also it have to say in deep of collaboration of one caste to other caste, HINDU RELIGION ,INDIA have sufficient NUMBER of LAWYER and M.B.B.S /M.D/M.S. In some cases it have to seen . Increase of business but it have not increase of own caste power without sufficient no. of L.L.B/L.L.M and M.B.B.S/M.D/M.S degree In under of the self/own HINDU religion (minority CASTES ),INDIA of complicated caste structure face very -very basic problem of life concerned of other then development without sufficient NUMBER of lawyer and M.B.B.S/M.D/M.S DEGREE. Its have not any advantage of more people and its benefit of other profession like politicians and officers .Very-very small chances to join of politicians and officers (few number) two or three)rather then more peoples caste thousands to thousands. It also have to be seen census of India of HINDU RELIGION CASTE development in social structure with time. It have to be seen in INDIA HINDU RELIGION scenario minority caste have to huge benefit in some year join the sufficient NUMBER of lawyer and M.B.B.S/M.D/M.S degree more development like power business complicated caste social structure rather then S.C/S.T join the profession politicians and officers in long to long time /year in same conditions.Also they caste have good manage of land owner in caste participate already in past time land have not exist but acquire rather then S.C and S.T. . It have to understand on the concept of constitution of INDIA in political power increase (In political power hidden of economic power ) of backward caste in HINDU RELIGION reservation of politicians and officers. In the point of the view NORTH INDIA YADAV caste have sufficient NUMBER of L.L.B/L.L.M .Also KURMI caste in BIHAR/JHARKHAND have not sufficient NUMBER but good number of lawyers. Also have some number of M.B.B.S/M.D. NOTE-In the point of view L.L.B/L.L.M and M.B.B.S/M.D/M.S not meaning of only court and medicine practice( ONLY) but also have self business by person occupied the degree more to more effective /efficient due to key point /key master of caste power,business,land owner,govt. tender.But which caste have sufficient NUMBER of lawyer and M.B.B.S /M.D/M.S , by which caste persons LAWYER and M.B.B.S/M.D/M.S degree or professionals occupied have not done self/own business in the point of diplomatic view of hidden of power of doing business(INDUSTRY) NOTE- In the point of view B.TECH/M.TECH and M.B.A have not any role of caste POWER, development and business in HINDU religion,INDIA.But only like a simple job also in simple job arises many complicated issue like Industry demand ,complicated issue from powerful castes e.t.c.But it have not problem of HINDU RELIGION more peoples caste( not minority) , caste in INDIA. NORTTH INDIA YADAV caste have sufficient NUMBER of L.L.B/L.L.M .Also KURMI caste in BIHAR/JHARKHAND have not sufficient NUMBER but good number of lawyers. Also have some number of M.B.B.S/M.D. NOTE-In the point of view L.L.B/L.L.M and M.B.B.S/M.D/M.S not meaning of only court and medicine practice( ONLY) but also have self business by person occupied the degree more to more effective /efficient due to key point /key master of caste power,business,land owner,govt. tender.But which caste have sufficient NUMBER of lawyer and M.B.B.S /M.D/M.S , by which caste persons LAWYER and M.B.B.S/M.D/M.S degree or professionals occupied have not done self/own business in the point of diplomatic view of hidden of power of doing business(INDUSTRY) NOTE- In the point of view B.TECH/M.TECH and M.B.A have not any role of caste POWER, development and business in HINDU religion,INDIA.But only like a simple job also in simple job arises many complicated issue like Industry demand ,complicated issue from powerful castes e.t.c.But it have not problem of HINDU RELIGION more peoples caste( not minority) , caste in INDIA

के द्वारा:

IN INDIA,ROLE OF SUFFICIENT NUMBER LAWYER AND M.B.B.S/M.D/M.S DEGREE/PROFFESION HINDU RELIGION individual castes POVERTY SOLUTION AND BUSINESS(INDUSTRY) ,IN INDIA HINDU RELIGION ,INDIVIDUAL CASTES POVERTY REMOVE ,POWER(DPOVERTYABANG),BUSINESS(INDUSTRY) LAND OWNER ,GOVT TENDER VERY-VERY BIG ROLE OF INDIVIDUAL CASTES SUFFICIENT NUMBER LAWYER AND M.B.B.S/M.D/M.S DEGREE PROFESSION BY MANTU KUMAR SATYAM,Religion-Hindu,Category-O.B.C (Weaker section & minority), caste-Sundi(O.B.C weaker section & minority),Add-s/o.SHIV PRSAD MANDAL,AIRCEL MOBILE TOWER, Near jamuna jour pool, near ramjanki mandir,castair town,SARWAN-MAIN ROAD, ,DEOGHAR,DISTRICT-DEOGHAR, JHARKHAND-814112,INDIA . occupation- MSCCRRA study from SMUDE,SYNDICATE HOUSE ,MANIPAL KARNATAK, POST GRADUATE DIPLOMA IN HUMAN RIGHTS FROM INDIAN INSTITUTE OF HUMAN RIGHTS ,NEW DELHI (SESSION-2012-14)(ONE YEAR POST GRADUATE DIPLOMA IN HUMAN RIGHTS COMPLETE)& post graduate diploma in criminal justice and forensic science from Hyderabad university center of distance education(session 2012-13) BLOG - POVERTY SOLUTION IN INDIA,IN INDIA HINDU RELIGION INDIVIDUAL CASTES POVERTY REMOVE ,POWER(DABANG),BUSINESS(INDUSTRY) LAND OWNER ,GOVT TENDER ROLE OF LAWYER AND M.B.B.S/M.D/M.S BLOG DETAIL-concerned ,political,economical and social in reference INDIA ,HINDU RELIGION caste system social structure ,caste power(DABANG),business(INDUSTRY) and development. My content in INDIA like HINDU RELIGION complicated caste system ,caste power (DABANG),development or advancement or business(INDUSTRY) in social structure. In INDIA HINDU RELIGION any caste /INDIVIDUAL CASTES sufficient NUMBER of L.L.B/L.L.M and M.B.B.S/M.D/M.S degree or profession very big and very-very IMPORTANT role of advancement or development, power(DABANG) and business are in social structure.In reference of other profession officers and politicians very - very small role or huge difference COMPARISON than LAW and M.B.B.S/M.D/M.S HINDU RELIGION complicated caste structure of caste development,POWER and business. If individual castes have sufficient number of 10% lawyer M.B.B.S/M.D/M.S the casts benefit of 10% of sufficient number. Its important in other word say it,IN INDIA,HINDU RELIGION GENERAL CASTE (BRHAMAN,BHUMIHAR,RAJPUT,KAYASTH,KSHYATRIYA) or any other caste to now time do huge scale of business ,govt tender,land owner e.t.c .Have not possible of without sufficient no. of LAWYER and M.B.B.S /M.D/M.S degree of individual general castes, HINDU RELIGION,INDIA for the maintain of caste power, advancement /development like huge scale of business ,land owner and govt tender .Without sufficient no.of LAWYER and M.B.B.S/M.D/M.S degree HINDU RELIGION ,general caste/and other huge scale of business,INDIA( due to same of complicated HINDU RELIGION ,CASTE social structure in INDIA) have many factors /issue arises of huge scale business ,huge scale LAND OWNER ,GOVT. TENDER e.t.c.Its have to said very-very big problem or have not possible. Also it have to say in deep of collaboration of one caste to other caste, HINDU RELIGION ,INDIA have sufficient NUMBER of LAWYER and M.B.B.S /M.D/M.S. In some cases it have to seen . Increase of business but it have not increase of own caste power without sufficient no. of L.L.B/L.L.M and M.B.B.S/M.D/M.S degree In under of the self/own HINDU religion (minority CASTES ),INDIA of complicated caste structure face very -very basic problem of life concerned of other then development without sufficient NUMBER of lawyer and M.B.B.S/M.D/M.S DEGREE. Its have not any advantage of more people and its benefit of other profession like politicians and officers .Very-very small chances to join of politicians and officers (few number) two or three)rather then more peoples caste thousands to thousands. It also have to be seen census of India of HINDU RELIGION CASTE development in social structure with time. It have to be seen in INDIA HINDU RELIGION scenario minority caste have to huge benefit in some year join the sufficient NUMBER of lawyer and M.B.B.S/M.D/M.S degree more development like power business complicated caste social structure rather then S.C/S.T join the profession politicians and officers in long to long time /year in same conditions.Also they caste have good manage of land owner in caste participate already in past time land have not exist but acquire rather then S.C and S.T. . It have to understand on the concept of constitution of INDIA in political power increase (In political power hidden of economic power ) of backward caste in HINDU RELIGION reservation of politicians and officers. In the point of the view NORTH INDIA YADAV caste have sufficient NUMBER of L.L.B/L.L.M .Also KURMI caste in BIHAR/JHARKHAND have not sufficient NUMBER but good number of lawyers. Also have some number of M.B.B.S/M.D. NOTE-In the point of view L.L.B/L.L.M and M.B.B.S/M.D/M.S not meaning of only court and medicine practice( ONLY) but also have self business by person occupied the degree more to more effective /efficient due to key point /key master of caste power,business,land owner,govt. tender.But which caste have sufficient NUMBER of lawyer and M.B.B.S /M.D/M.S , by which caste persons LAWYER and M.B.B.S/M.D/M.S degree or professionals occupied have not done self/own business in the point of diplomatic view of hidden of power of doing business(INDUSTRY) NOTE- In the point of view B.TECH/M.TECH and M.B.A have not any role of caste POWER, development and business in HINDU religion,INDIA.But only like a simple job also in simple job arises many complicated issue like Industry demand ,complicated issue from powerful castes e.t.c.But it have not problem of HINDU RELIGION more peoples caste( not minority) , caste in INDIA. NORTTH INDIA YADAV caste have sufficient NUMBER of L.L.B/L.L.M .Also KURMI caste in BIHAR/JHARKHAND have not sufficient NUMBER but good number of lawyers. Also have some number of M.B.B.S/M.D. NOTE-In the point of view L.L.B/L.L.M and M.B.B.S/M.D/M.S not meaning of only court and medicine practice( ONLY) but also have self business by person occupied the degree more to more effective /efficient due to key point /key master of caste power,business,land owner,govt. tender.But which caste have sufficient NUMBER of lawyer and M.B.B.S /M.D/M.S , by which caste persons LAWYER and M.B.B.S/M.D/M.S degree or professionals occupied have not done self/own business in the point of diplomatic view of hidden of power of doing business(INDUSTRY) NOTE- In the point of view B.TECH/M.TECH and M.B.A have not any role of caste POWER, development and business in HINDU religion,INDIA.But only like a simple job also in simple job arises many complicated issue like Industry demand ,complicated issue from powerful castes e.t.c.But it have not problem of HINDU RELIGION more peoples caste( not minority) , caste in INDIA

के द्वारा:

के द्वारा: udayraj udayraj

IN INDIA,ROLE OF SUFFICIENT NUMBER LAWYER AND M.B.B.S/M.D/M.S DEGREE/PROFFESION INDIVIDUAL CASTES HINDU RELIGION POVERTY SOLUTION AND BUSINESS(INDUSTRY) ,IN INDIA HINDU RELIGION ,INDIVIDUAL CASTES POVERTY REMOVE ,POWER(DPOVERTYABANG),BUSINESS(INDUSTRY) LAND OWNER ,GOVT TENDER VERY-VERY BIG ROLE OF INDIVIDUAL CASTES SUFFICIENT NUMBER LAWYER AND M.B.B.S/M.D/M.S DEGREE PROFESSION BY MANTU KUMAR SATYAM,Religion-Hindu,Category-O.B.C (Weaker section & minority), caste-Sundi(O.B.C weaker section & minority),Add-s/o.SHIV PRSAD MANDAL,AIRCEL MOBILE TOWER, Near jamuna jour pool, near ramjanki mandir,castair town,SARWAN-MAIN ROAD, ,DEOGHAR,DISTRICT-DEOGHAR, JHARKHAND-814112,INDIA . occupation- MSCCRRA study from SMUDE,SYNDICATE HOUSE ,MANIPAL KARNATAK, POST GRADUATE DIPLOMA IN HUMAN RIGHTS FROM INDIAN INSTITUTE OF HUMAN RIGHTS ,NEW DELHI (SESSION-2012-14)(ONE YEAR POST GRADUATE DIPLOMA IN HUMAN RIGHTS COMPLETE)& post graduate diploma in criminal justice and forensic science from Hyderabad university center of distance education(session 2012-13) BLOG - POVERTY SOLUTION IN INDIA,IN INDIA HINDU RELIGION INDIVIDUAL CASTES POVERTY REMOVE ,POWER(DABANG),BUSINESS(INDUSTRY) LAND OWNER ,GOVT TENDER ROLE OF LAWYER AND M.B.B.S/M.D/M.S BLOG DETAIL-concerned ,political,economical and social in reference INDIA ,HINDU RELIGION caste system social structure ,caste power(DABANG),business(INDUSTRY) and development. My content in INDIA like HINDU RELIGION complicated caste system ,caste power (DABANG),development or advancement or business(INDUSTRY) in social structure. In INDIA HINDU RELIGION any caste /INDIVIDUAL CASTES sufficient NUMBER of L.L.B/L.L.M and M.B.B.S/M.D/M.S degree or profession very big and very-very IMPORTANT role of advancement or development, power(DABANG) and business are in social structure.In reference of other profession officers and politicians very - very small role or huge difference COMPARISON than LAW and M.B.B.S/M.D/M.S HINDU RELIGION complicated caste structure of caste development,POWER and business. If individual castes have sufficient number of 10% lawyer M.B.B.S/M.D/M.S the casts benefit of 10% of sufficient number. Its important in other word say it,IN INDIA,HINDU RELIGION GENERAL CASTE (BRHAMAN,BHUMIHAR,RAJPUT,KAYASTH,KSHYATRIYA) or any other caste to now time do huge scale of business ,govt tender,land owner e.t.c .Have not possible of without sufficient no. of LAWYER and M.B.B.S /M.D/M.S degree of individual general castes, HINDU RELIGION,INDIA for the maintain of caste power, advancement /development like huge scale of business ,land owner and govt tender .Without sufficient no.of LAWYER and M.B.B.S/M.D/M.S degree HINDU RELIGION ,general caste/and other huge scale of business,INDIA( due to same of complicated HINDU RELIGION ,CASTE social structure in INDIA) have many factors /issue arises of huge scale business ,huge scale LAND OWNER ,GOVT. TENDER e.t.c.Its have to said very-very big problem or have not possible. Also it have to say in deep of collaboration of one caste to other caste, HINDU RELIGION ,INDIA have sufficient NUMBER of LAWYER and M.B.B.S /M.D/M.S. In some cases it have to seen . Increase of business but it have not increase of own caste power without sufficient no. of L.L.B/L.L.M and M.B.B.S/M.D/M.S degree In under of the self/own HINDU religion (minority CASTES ),INDIA of complicated caste structure face very -very basic problem of life concerned of other then development without sufficient NUMBER of lawyer and M.B.B.S/M.D/M.S DEGREE. Its have not any advantage of more people and its benefit of other profession like politicians and officers .Very-very small chances to join of politicians and officers (few number) two or three)rather then more peoples caste thousands to thousands. It also have to be seen census of India of HINDU RELIGION CASTE development in social structure with time. It have to be seen in INDIA HINDU RELIGION scenario minority caste have to huge benefit in some year join the sufficient NUMBER of lawyer and M.B.B.S/M.D/M.S degree more development like power business complicated caste social structure rather then S.C/S.T join the profession politicians and officers in long to long time /year in same conditions.Also they caste have good manage of land owner in caste participate already in past time land have not exist but acquire rather then S.C and S.T. . It have to understand on the concept of constitution of INDIA in political power increase (In political power hidden of economic power ) of backward caste in HINDU RELIGION reservation of politicians and officers. In the point of the view NORTH INDIA YADAV caste have sufficient NUMBER of L.L.B/L.L.M .Also KURMI caste in BIHAR/JHARKHAND have not sufficient NUMBER but good number of lawyers. Also have some number of M.B.B.S/M.D. NOTE-In the point of view L.L.B/L.L.M and M.B.B.S/M.D/M.S not meaning of only court and medicine practice( ONLY) but also have self business by person occupied the degree more to more effective /efficient due to key point /key master of caste power,business,land owner,govt. tender.But which caste have sufficient NUMBER of lawyer and M.B.B.S /M.D/M.S , by which caste persons LAWYER and M.B.B.S/M.D/M.S degree or professionals occupied have not done self/own business in the point of diplomatic view of hidden of power of doing business(INDUSTRY) NOTE- In the point of view B.TECH/M.TECH and M.B.A have not any role of caste POWER, development and business in HINDU religion,INDIA.But only like a simple job also in simple job arises many complicated issue like Industry demand ,complicated issue from powerful castes e.t.c.But it have not problem of HINDU RELIGION more peoples caste( not minority) , caste in INDIA. NORTTH INDIA YADAV caste have sufficient NUMBER of L.L.B/L.L.M .Also KURMI caste in BIHAR/JHARKHAND have not sufficient NUMBER but good number of lawyers. Also have some number of M.B.B.S/M.D. NOTE-In the point of view L.L.B/L.L.M and M.B.B.S/M.D/M.S not meaning of only court and medicine practice( ONLY) but also have self business by person occupied the degree more to more effective /efficient due to key point /key master of caste power,business,land owner,govt. tender.But which caste have sufficient NUMBER of lawyer and M.B.B.S /M.D/M.S , by which caste persons LAWYER and M.B.B.S/M.D/M.S degree or professionals occupied have not done self/own business in the point of diplomatic view of hidden of power of doing business(INDUSTRY) NOTE- In the point of view B.TECH/M.TECH and M.B.A have not any role of caste POWER, development and business in HINDU religion,INDIA.But only like a simple job also in simple job arises many complicated issue like Industry demand ,complicated issue from powerful castes e.t.c.But it have not problem of HINDU RELIGION more peoples caste( not minority) , caste in INDIA READ MY BLOG http://mantusatyam.blogspot.com/2013/09/in-ind

के द्वारा:

IN INDIA POVERTY SOLUTION AND BUSINESS(INDUSTRY) INDIVIDUAL CASTES HINDU RELIGION ,IN INDIA HINDU RELIGION ,INDIVIDUAL CASTES POVERTY REMOVE ,POWER(DPOVERTYABANG),BUSINESS(INDUSTRY) LAND OWNER ,GOVT TENDER VERY-VERY BIG ROLE OF INDIVIDUAL CASTES SUFFICIENT NUMBER LAWYER AND M.B.B.S/M.D/M.S DEGREE PROFFESSION BY MANTU KUMAR SATYAM,Religion-Hindu,Category-O.B.C (Weaker section & minority), caste-Sundi(O.B.C weaker section & minority),Add-s/o.SHIV PRSAD MANDAL,AIRCEL MOBILE TOWER, Near jamuna jour pool, near ramjanki mandir,castair town,SARWAN-MAIN ROAD, ,DEOGHAR,DISTRICT-DEOGHAR, JHARKHAND-814112,INDIA . occupation- MSCCRRA study from SMUDE,SYNDICATE HOUSE ,MANIPAL KARNATAK, POST GRADUATE DIPLOMA IN HUMAN RIGHTS FROM INDIAN INSTITUTE OF HUMAN RIGHTS ,NEW DELHI (SESSION-2012-14)(ONE YEAR POST GRADUATE DIPLOMA IN HUMAN RIGHTS COMPLETE)& post graduate diploma in criminal justice and forensic science from Hyderabad university center of distance education(session 2012-13) BLOG - POVERTY SOLUTION IN INDIA,IN INDIA HINDU RELIGION INDIVIDUAL CASTES POVERTY REMOVE ,POWER(DABANG),BUSINESS(INDUSTRY) LAND OWNER ,GOVT TENDER ROLE OF LAWYER AND M.B.B.S/M.D/M.S BLOG DETAIL-concerned ,political,economical and social in reference INDIA ,HINDU RELIGION caste system social structure ,caste power(DABANG),business(INDUSTRY) and development. My content in INDIA like HINDU RELIGION complicated caste system ,caste power (DABANG),development or advancement or business(INDUSTRY) in social structure. In INDIA HINDU RELIGION any caste /INDIVIDUAL CASTES sufficient NUMBER of L.L.B/L.L.M and M.B.B.S/M.D/M.S degree or profession very big and very-very IMPORTANT role of advancement or development, power(DABANG) and business are in social structure.In reference of other profession officers and politicians very - very small role or huge difference COMPARISON than LAW and M.B.B.S/M.D/M.S HINDU RELIGION complicated caste structure of caste development,POWER and business. If individual castes have sufficient number of 10% lawyer M.B.B.S/M.D/M.S the casts benefit of 10% of sufficient number. Its important in other word say it,IN INDIA,HINDU RELIGION GENERAL CASTE (BRHAMAN,BHUMIHAR,RAJPUT,KAYASTH,KSHYATRIYA) or any other caste to now time do huge scale of business ,govt tender,land owner e.t.c .Have not possible of without sufficient no. of LAWYER and M.B.B.S /M.D/M.S degree of individual general castes, HINDU RELIGION,INDIA for the maintain of caste power, advancement /development like huge scale of business ,land owner and govt tender .Without sufficient no.of LAWYER and M.B.B.S/M.D/M.S degree HINDU RELIGION ,general caste/and other huge scale of business,INDIA( due to same of complicated HINDU RELIGION ,CASTE social structure in INDIA) have many factors /issue arises of huge scale business ,huge scale LAND OWNER ,GOVT. TENDER e.t.c.Its have to said very-very big problem or have not possible. Also it have to say in deep of collaboration of one caste to other caste, HINDU RELIGION ,INDIA have sufficient NUMBER of LAWYER and M.B.B.S /M.D/M.S. In some cases it have to seen . Increase of business but it have not increase of own caste power without sufficient no. of L.L.B/L.L.M and M.B.B.S/M.D/M.S degree In under of the self/own HINDU religion (minority CASTES ),INDIA of complicated caste structure face very -very basic problem of life concerned of other then development without sufficient NUMBER of lawyer and M.B.B.S/M.D/M.S DEGREE. Its have not any advantage of more people and its benefit of other profession like politicians and officers .Very-very small chances to join of politicians and officers (few number) two or three)rather then more peoples caste thousands to thousands. It also have to be seen census of India of HINDU RELIGION CASTE development in social structure with time. It have to be seen in INDIA HINDU RELIGION scenario minority caste have to huge benefit in some year join the sufficient NUMBER of lawyer and M.B.B.S/M.D/M.S degree more development like power business complicated caste social structure rather then S.C/S.T join the profession politicians and officers in long to long time /year in same conditions.Also they caste have good manage of land owner in caste participate already in past time land have not exist but acquire rather then S.C and S.T. . It have to understand on the concept of constitution of INDIA in political power increase (In political power hidden of economic power ) of backward caste in HINDU RELIGION reservation of politicians and officers. In the point of the view NORTH INDIA YADAV caste have sufficient NUMBER of L.L.B/L.L.M .Also KURMI caste in BIHAR/JHARKHAND have not sufficient NUMBER but good number of lawyers. Also have some number of M.B.B.S/M.D. NOTE-In the point of view L.L.B/L.L.M and M.B.B.S/M.D/M.S not meaning of only court and medicine practice( ONLY) but also have self business by person occupied the degree more to more effective /efficient due to key point /key master of caste power,business,land owner,govt. tender.But which caste have sufficient NUMBER of lawyer and M.B.B.S /M.D/M.S , by which caste persons LAWYER and M.B.B.S/M.D/M.S degree or professionals occupied have not done self/own business in the point of diplomatic view of hidden of power of doing business(INDUSTRY) NOTE- In the point of view B.TECH/M.TECH and M.B.A have not any role of caste POWER, development and business in HINDU religion,INDIA.But only like a simple job also in simple job arises many complicated issue like Industry demand ,complicated issue from powerful castes e.t.c.But it have not problem of HINDU RELIGION more peoples caste( not minority) , caste in INDIA. NORTTH INDIA YADAV caste have sufficient NUMBER of L.L.B/L.L.M .Also KURMI caste in BIHAR/JHARKHAND have not sufficient NUMBER but good number of lawyers. Also have some number of M.B.B.S/M.D. NOTE-In the point of view L.L.B/L.L.M and M.B.B.S/M.D/M.S not meaning of only court and medicine practice( ONLY) but also have self business by person occupied the degree more to more effective /efficient due to key point /key master of caste power,business,land owner,govt. tender.But which caste have sufficient NUMBER of lawyer and M.B.B.S /M.D/M.S , by which caste persons LAWYER and M.B.B.S/M.D/M.S degree or professionals occupied have not done self/own business in the point of diplomatic view of hidden of power of doing business(INDUSTRY) NOTE- In the point of view B.TECH/M.TECH and M.B.A have not any role of caste POWER, development and business in HINDU religion,INDIA.But only like a simple job also in simple job arises many complicated issue like Industry demand ,complicated issue from powerful castes e.t.c.But it have not problem of HINDU RELIGION more peoples caste( not minority) , caste in INDIA.

के द्वारा:

सरहद ने फिर जख्म खाये हैं, देश के पाँच वीर पुंछ से शहीद होकर आए हैं, “ पाकिस्तान और आतंकवादियों की कायराना हरकत जैसे ” कई बयान एक साथ आए है, राजनेताओं से, भारत मे यह एक चलन है , पिछले काफी समय से , जिसे हर विदेशी और आतंकवादी आक्रमण के बाद, राज नेता करते आए है । इतिहास गवाह है, आक्रमणकारी कभी कायर नही कहलाते । कायर तो वो कहलाते हैं जो आक्रमण का मुंह तोड़ जबाब नहीं दे पाते । अगर ये आक्रमण कायरता है, तो पराक्रम क्या है ? पाकिस्तान का बचाव करना, खामोश रहना, या समर्पण करना, अगर यही सच है, तो ये पराक्रम की उल्टी पराकाष्ठा है, और बेहद गैर जिम्मेदाराना है, सच तो ये है कि ऐसे हमलों को कायराना कहना ही कायराना है। क्या हिंदुस्तान इतना कमजोर है ? असहाय है ? लाचार है ? पर दुनियाँ को संदेश तो यही गया है कि यह देश बहुत बदहाल हो गया है । पूरा विश्व जनता है कि पाक है नापाक आक्रमणकारी, और भारत है उतना ही कुख्यात वार्ताकारी । आखिर वार्ता क्यों हो और किसलिए ? अगर हो ... तो सिर्फ इसलिए कि बस .... बहुत हो गया अब बात नहीं हो सकती सीमा पर एक भी और हरकत बर्दाश्त नहीं हो सकती, अब पराक्रम दिखाने का वक्त आ गया है दुश्मन को करारा जबाब देने का वक्त आ गया है पता नहीं ये वोटो की राजनीति है, या शान्ति दूत दिखने का जोश, वे सीमा पर जवानों के सिर भी कलम कर ले जाते है हम फिर भी रहते है खामोश, इससे ज्यादा शर्मनाक स्थिति और कुछ नहीं हो सकती है, पर भारत की राजनीति सत्ता के लिए कुछ भी कर सकती है, एक राजनेता कहते है कि लोग सेना मे शहीद होने के लिए ही जाते है, और इसी की तनख्वाह पाते है, संवेदन शून्य इन नेताओं के बेटे, न तो सेना मे जाते है, और न ही शहीद होते है, वे चाहे देश मे पढे या विदेश मे , इंजीनियर हो या डाक्टर , बनते हैं सिर्फ वोटो के सौदागर, और लाशों पर पैर रख कर, सत्ता की सीढिया चढ जाते हैं , मंत्री हो जाते है शासक बन जाते हैं, आँसुओ से भीगी शहीदो की दहलीजों को और अधिक मर्माहत कर जाते हैं । गुस्से मे उबलते और वेवसी की आग मे जलते शहीदो के इन परिवारो को सांत्वना और सम्मान चाहिए , समूचे देश को इन परिवारों के आँसुओ का और इन शहीदो के बलिदानों का हिसाब चाहिए, ताकि ये बलिदान व्यर्थ न जाय और कभी कमी न हो जाय देश पर जान देने वालों की, और शहीदो के सम्मान की रक्षा करने वालों की । ******* शिव प्रकाश मिश्रा

के द्वारा:

के द्वारा:

सुन्दर लेख, आज मै एक ऐसी रचना लेकर आप सब के सामने उपस्थित हुआ हूँ, जिसे पढ़कर आप सब की आँखे नाम हो जायेगी. और यही हमारे देश की कड़वी सच्चाई भी है, इस कविता के माध्यम से मै ऋषभ शुक्ला, इस समाज का निर्दयी ही सही लेकिन है तो सच. आज हमारे समाज के लोग महिलाओ के प्रती वही पुरानी सोच रखते है जो वह हमेशा रखते आये है, और आगे भी ऐसी ही सोच रखने का इरादा है. गरीब माँ-बाप अपनी बेटियों को बोझ समझते है और वह संतान के रूप में एक बेटा चाहते है, और इसके लिए वह गर्भ में ही जाच के द्वारा उन्हें यदी पता चल गया की गर्भ में बच्ची है तो उसे इस दुनिया में आने से पहले ही मार देते है, उस नन्ही सी जान को जो इस निर्मम दुनिया में आने को बेताब रहती है, उसकी सभी इच्छाओ को भी मार देते है . मै इस कविता के माध्यम से उस छोटी गुडिया के दर्द को आप सब से मुखातिब करने का प्रयत्न कर रहा हूँ. कृपया मेरी गुजारिश है की आप सब इस लिंक को देखे और उसके बारे में कम से कम दो शब्द कहे. यदी कमेंट देने में कोई असुविधा हो तो उसे लाइक करे या वोट करे. http://rushabhshukla.jagranjunction.com/?p=25 शुक्रिया

के द्वारा: ऋषभ शुक्ला ऋषभ शुक्ला

के द्वारा:

बिलकुल सच कहा है कि आइआइटी, आइआइएम, एम्स और केंद्रीय विश्वविद्यालयों जैसे देश के चोटी के शिक्षण संस्थानों में भी दलित छात्रों के साथ भेदभाव होता हैं | गाँधी के चेले भूल गए हैं कि गाँधी ने सितम्बर १९३२ में पूना पैक्ट के समय डॉ० अम्बेडकर से क्या वादा किया था | याद करो गाँधी ने वादा किया था कि सदियों तक हिन्दुओं द्वारा दलितों पर ढहाए गए जुल्म और अत्याचार के लिए आजाद भारत में हिन्दू अपने किये का पश्चाताप करेंगे और छुआछुत जड़ से समाप्त करेंगे | गाँधी ने एक बार कहा था कि आजाद भारत में बकरी और शेर एक घाट पर पानी पियेंगे तो डॉ० अम्बेडकर ने गांघी से पूछा था कि तुम्हारा शेर मांसाहारी होगा या शाकाहारी ? गाँधी ने इस सवाल पर चुप्पी साध ली थी | वाह रे गाँधी और वाह रे गाँधी के चेलो ! गोरे लोगों से तो देश १९४७ में आजाद हो गया परन्तु सदियों से जुल्म -ज्यादती और अत्याचार करने वाले काले लोग आज भी अपने सदियों के गुण नहीं भूले | भारत देश को महान बनाने का सपना देखने वालो जरा सोचो कि जिस देश के करोडो लोग भूखे सोते हों ! जिस देश में करोडो लोगो के पास रहने के लिए झोपडी भी न हो ! तन ढकने के लिए कपडे न हो ! जिस देश में पत्थर की तो पूजा होती हो, पशु की पूजा होती हो, तथा पशु की टट्टी की भी पूजा होती हो और इन्सान के साथ पशु से भी बदतर सलूक किया जाता हो ! जिस देश में छुआछुत का रोग हर इन्सान में हो ! क्या वह देश महान हो सकता है ? धर्मेन्द्र प्रकाश, अध्यक्ष, भारतीय मूलनिवासी संगठन |

के द्वारा:

Dogali Niti -And no one is talking about. Mulayam Singh Yadav is having dogali niti (double stand) and no one is talking about. On one side he opposes FDI in retail while om the other side he announces support for the same government which is implementing it. That too on the same day and same time. If it is not a dogali niti then what it is. It is like saying something and doing something else. How do people support this type of dogala adami, is not understandable. Dogala adami is most dangerous. Even a bad man is better than this. He has a standard phrase. Whenever he want to support to congress due to some other reason, he says "I will support the government to keep communal forces away from power." He never tells the reason, because its not a reason, its a deal. An under-table deal. But this time his deal is made on the 'pait (stomack) of aam adami'. Politics should be on the issues. If you are strongly against a particular issue, you should never support the goivernment implementing it. In fact, Manmohan singh implemented it after getting assurance from Mulayam singh the he will support the government. It is because of him only FDI order could be isued. He can not fool people by mearly saying that he is against it. It is like indirectly supporting FDI while for show purpose he is opposing it. It is like " Mukh me ram bagal me chhuri". O! people of my great country and particularly of Utter Pradesh, do not support this type of dogala aadami as he has hidden 'Churri' to kill you. Everyone know that "Badi machhali, choto machhali ko kha jati hai'. Similarly, big foreign companies will eat away small businessman and shopkeepers. Let us deface dogala persons. Let us oppose FDI. Let us make strong movement against it. Forward it to as many people as possible. Jai small businessman and shopkeepers. Jai Hind. Sharma SK

के द्वारा:

आरक्षण न तो सवर्णों का त्याग है और न पश्चाताप और न ही मजबूरी | मजबूरी का नाम तो कभी महात्मा——हो ही नहीं सकता | क्योंकि महात्मा का लोग अर्थ समझते हैं महान आत्मा और जिसकी और इशारा है वह ——-महात्मा था ही नहीं | आरक्षण यदि सवर्णों का त्याग होता तो दलितों को यह हजारों साल पहले मिल गया होता | आरक्षण यदि सवर्णों का पश्चाताप होता, तो भी यह दलितों को हजारों साल पहले मिल गया होता आरक्षण यदि सवर्णों की मजबूरी होती तो भी यह दलितों को हजारों साल पहले मिल गया होता | आरक्षण यदि मजबूरी का नाम महात्मा——होता तो गाँधी इसका विरोध कभी नहीं करते ! चूँकि दलितों को आरक्षण तो १९३१ में ही अंग्रेजों ने दे दिया था | राजनैतिक आरक्षण तब दिया गया जब दलितों की बराबर की हिस्सेदारी की मांग डॉ बी आर अम्बेडकर ने अंग्रेजों से की थी और अंग्रेजों ने इसे लागु करने का मन भी बना लिया था | किन्तु तथाकथित गाँधी ने सितम्बर १९३२ में आमरण अनशन करके दलितों की हिस्सेदारी की मांग को दरकिनार करा दिया | आरक्षण का विरोध व् समर्थन करने वाले सभी को यह समझना जरूरी है की आखिर आरक्षण क्यों दिया गया ? शायद इस प्रश्न का उत्तर गिने -चुने लोग ही जानते होंगे | मेरे पास इसका उत्तर आज भी है किन्तु मैं इसका उत्तर इस लेख में नहीं देना चाहता | फिर भी ऊपर सुझाये गए मत से मैं सहमत नहीं हूँ क्योंकि जब तक इस देश में जाति व्यवश्था कायम रहेगी तब तक अछूतपन बना रहेगा और जब तक अछूतपन रहेगा तब तक बराबरी नहीं आ सकती ! फिर भी आरक्षण का विरोध करने वालों को याद रखना चाहिये कि केवल राजनैतिक महत्वाकांक्षा की खातिर झूंठ का सहारा क्यों लिया जा रहा है कि प्रमोशन में आरक्षण असवैधानिक है ? उनका यह कहना हास्यापद है कि प्रमोशन में आरक्षण मिलने से जूनियर, सीनियर हो जायेगा और सीनियर, जूनियर हो जायेगा | विदित रहे कि सरकारी नौकरियों में प्रमोशन चरित्र प्रविष्टी के आधार पर होता है अर्थात किसी दलित का प्रमोशन भी तभी होगा जब उसकी चरित्र प्रविष्टी अच्छी होंगी | फिर किसी सामान्य व्यक्ति की योग्यता कैसे प्रभावित हो सकती है ? प्रमोशन में आरक्षण श्री मोहनदास करमचंद गाँधी व् डॉ० भीमराव अम्बेडकर के बीच २३ सितम्बर १९३२ में हुए पूना पैक्ट के अनुसार दलितों का अधिकार है और यह अधिकार मिलना ही चाहिए | साथ ही एस० सी०/एस०टी० की भांति उच्च पदों पर पिछड़े वर्ग का पर्याप्त प्रतिनिधित्व न होने के कारण पिछड़े वर्ग का भी प्रमोशन में आरक्षण का प्राविधान होना चाहिए | प्रमोशन में आरक्षण का विरोध करने वालों को भी सदबुद्धि से दलितों के साथ साथ पिछड़ों को भी प्रमोशन में आरक्षण मिले, यही मांग करनी चाहिए | प्रमोशन में पिछड़े वर्ग को भी आरक्षण मिले इस मांग का पूरा दलित समाज समर्थन कर रहा है | यदि उपरोक्त मांग आरक्षण विरोधियों को अच्छी न लगे तो दूसरा विकल्प है कि देश की धन-धरती, शासन प्रशासन, सेना, न्यायपालिका, व्यापार और मीडिया पर काबिज लोग एक बार दलितों को देश की धन -धरती, शासन प्रशासन, सेना, न्यायपालिका, मीडिया और व्यापार में आबादी के अनुपात में बराबर की हिस्सेदारी दे दो | यदि आरक्षण विरोधियों को दूसरा विकल्प भी अच्छा नहीं लग पा रहा हो तो तीसरा विकल्प है कि फिर पूरे देश में अंतरजातीय विवाह अनिवार्य कर २० साल के अन्दर जाति नाम का समूल नाश कर जाति व्यवस्था ख़त्म कर समता मूलक समाज बना दो | शायद फिर दलितों को प्रमोशन में आरक्षण और नौकरियों में आरक्षण की कोई जरूरत नहीं पड़ेगी | यदि आरक्षण विरोधी उपरोक्त तीनो विकल्प में से कोई भी मानने को तैयार नहीं है तो फिर देश के मूलनिवासी दलितों और पिछड़ों को तीसरी आज़ादी की लड़ाई के लिए तैयार हो जाना चाहिए | -धर्मेन्द्र प्रकाश, अध्यक्ष, भारतीय मूलनिवासी संगठन |

के द्वारा:

आरक्षण न तो सवर्णों का त्याग है और न पश्चाताप और न ही मजबूरी | मजबूरी का नाम तो कभी महात्मा------हो ही नहीं सकता | क्योंकि महात्मा का लोग अर्थ समझते हैं महान आत्मा और जिसकी और इशारा है वह -------महात्मा था ही नहीं | आरक्षण यदि सवर्णों का त्याग होता तो दलितों को यह हजारों साल पहले मिल गया होता | आरक्षण यदि सवर्णों का पश्चाताप होता, तो भी यह दलितों को हजारों साल पहले मिल गया होता आरक्षण यदि सवर्णों की मजबूरी होती तो भी यह दलितों को हजारों साल पहले मिल गया होता | आरक्षण यदि मजबूरी का नाम महात्मा------होता तो गाँधी इसका विरोध कभी नहीं करते ! चूँकि दलितों को आरक्षण तो १९३१ में ही अंग्रेजों ने दे दिया था | राजनैतिक आरक्षण तब दिया गया जब दलितों की बराबर की हिस्सेदारी की मांग डॉ बी आर अम्बेडकर ने अंग्रेजों से की थी और अंग्रेजों ने इसे लागु करने का मन भी बना लिया था | किन्तु तथाकथित गाँधी ने सितम्बर १९३२ में आमरण अनशन करके दलितों की हिस्सेदारी की मांग को दरकिनार करा दिया | आरक्षण का विरोध व् समर्थन करने वाले सभी को यह समझना जरूरी है की आखिर आरक्षण क्यों दिया गया ? शायद इस प्रश्न का उत्तर गिने -चुने लोग ही जानते होंगे | मेरे पास इसका उत्तर आज भी है किन्तु मैं इसका उत्तर इस लेख में नहीं देना चाहता | फिर भी ऊपर सुझाये गए मत से मैं सहमत नहीं हूँ क्योंकि जब तक इस देश में जाति व्यवश्था कायम रहेगी तब तक अछूतपन बना रहेगा और जब तक अछूतपन रहेगा तब तक बराबरी नहीं आ सकती ! फिर भी आरक्षण का विरोध करने वालों को याद रखना चाहिये कि केवल राजनैतिक महत्वाकांक्षा की खातिर झूंठ का सहारा क्यों लिया जा रहा है कि प्रमोशन में आरक्षण असवैधानिक है ? उनका यह कहना हास्यापद है कि प्रमोशन में आरक्षण मिलने से जूनियर, सीनियर हो जायेगा और सीनियर, जूनियर हो जायेगा | विदित रहे कि सरकारी नौकरियों में प्रमोशन चरित्र प्रविष्टी के आधार पर होता है अर्थात किसी दलित का प्रमोशन भी तभी होगा जब उसकी चरित्र प्रविष्टी अच्छी होंगी | फिर किसी सामान्य व्यक्ति की योग्यता कैसे प्रभावित हो सकती है ? प्रमोशन में आरक्षण श्री मोहनदास करमचंद गाँधी व् डॉ० भीमराव अम्बेडकर के बीच २३ सितम्बर १९३२ में हुए पूना पैक्ट के अनुसार दलितों का अधिकार है और यह अधिकार मिलना ही चाहिए | साथ ही एस० सी०/एस०टी० की भांति उच्च पदों पर पिछड़े वर्ग का पर्याप्त प्रतिनिधित्व न होने के कारण पिछड़े वर्ग का भी प्रमोशन में आरक्षण का प्राविधान होना चाहिए | प्रमोशन में आरक्षण का विरोध करने वालों को भी सदबुद्धि से दलितों के साथ साथ पिछड़ों को भी प्रमोशन में आरक्षण मिले, यही मांग करनी चाहिए | प्रमोशन में पिछड़े वर्ग को भी आरक्षण मिले इस मांग का पूरा दलित समाज समर्थन कर रहा है | यदि उपरोक्त मांग आरक्षण विरोधियों को अच्छी न लगे तो दूसरा विकल्प है कि देश की धन-धरती, शासन प्रशासन, सेना, न्यायपालिका, व्यापार और मीडिया पर काबिज लोग एक बार दलितों को देश की धन -धरती, शासन प्रशासन, सेना, न्यायपालिका, मीडिया और व्यापार में आबादी के अनुपात में बराबर की हिस्सेदारी दे दो |   यदि आरक्षण विरोधियों को दूसरा विकल्प भी अच्छा नहीं लग पा रहा हो तो तीसरा विकल्प है कि फिर पूरे देश में अंतरजातीय विवाह अनिवार्य कर २० साल के अन्दर जाति नाम का समूल नाश कर जाति व्यवस्था ख़त्म कर समता मूलक समाज बना दो | शायद फिर दलितों को प्रमोशन में आरक्षण और नौकरियों में आरक्षण की कोई जरूरत नहीं पड़ेगी | यदि आरक्षण विरोधी उपरोक्त तीनो विकल्प में से कोई भी मानने को तैयार नहीं है तो फिर देश के मूलनिवासी दलितों और पिछड़ों को तीसरी आज़ादी की लड़ाई के लिए तैयार हो जाना चाहिए | -धर्मेन्द्र प्रकाश, अध्यक्ष, भारतीय मूलनिवासी संगठन |

के द्वारा:

आरक्षण न तो सवर्णों का त्याग है और न पश्चाताप और न ही मजबूरी | मजबूरी का नाम तो कभी महात्मा------हो ही नहीं सकता | क्योंकि महात्मा का लोग अर्थ समझते हैं महान आत्मा और जिसकी और इशारा है वह -------महात्मा था ही नहीं | आरक्षण यदि सवर्णों का त्याग होता तो दलितों को यह हजारों साल पहले मिल गया होता | आरक्षण यदि सवर्णों का पश्चाताप होता, तो भी यह दलितों को हजारों साल पहले मिल गया होता आरक्षण यदि सवर्णों की मजबूरी होती तो भी यह दलितों को हजारों साल पहले मिल गया होता | आरक्षण यदि मजबूरी का नाम महात्मा------होता तो गाँधी इसका विरोध कभी नहीं करते ! चूँकि दलितों को आरक्षण तो १९३१ में ही अंग्रेजों ने दे दिया था | राजनैतिक आरक्षण तब दिया गया जब दलितों की बराबर की हिस्सेदारी की मांग डॉ बी आर अम्बेडकर ने अंग्रेजों से की थी और अंग्रेजों ने इसे लागु करने का मन भी बना लिया था | किन्तु तथाकथित गाँधी ने सितम्बर १९३२ में आमरण अनशन करके दलितों की हिस्सेदारी की मांग को दरकिनार करा दिया | आरक्षण का विरोध व् समर्थन करने वाले सभी को यह समझना जरूरी है की आखिर आरक्षण क्यों दिया गया ? शायद इस प्रश्न का उत्तर गिने -चुने लोग ही जानते होंगे | मेरे पास इसका उत्तर आज भी है किन्तु मैं इसका उत्तर इस लेख में नहीं देना चाहता | फिर भी ऊपर सुझाये गए मत से मैं सहमत नहीं हूँ क्योंकि जब तक इस देश में जाति व्यवश्था कायम रहेगी तब तक अछूतपन बना रहेगा और जब तक अछूतपन रहेगा तब तक बराबरी नहीं आ सकती ! फिर भी आरक्षण का विरोध करने वालों को याद रखना चाहिये कि केवल राजनैतिक महत्वाकांक्षा की खातिर झूंठ का सहारा क्यों लिया जा रहा है कि प्रमोशन में आरक्षण असवैधानिक है ? उनका यह कहना हास्यापद है कि प्रमोशन में आरक्षण मिलने से जूनियर, सीनियर हो जायेगा और सीनियर, जूनियर हो जायेगा | विदित रहे कि सरकारी नौकरियों में प्रमोशन चरित्र प्रविष्टी के आधार पर होता है अर्थात किसी दलित का प्रमोशन भी तभी होगा जब उसकी चरित्र प्रविष्टी अच्छी होंगी | फिर किसी सामान्य व्यक्ति की योग्यता कैसे प्रभावित हो सकती है ? प्रमोशन में आरक्षण श्री मोहनदास करमचंद गाँधी व् डॉ० भीमराव अम्बेडकर के बीच २३ सितम्बर १९३२ में हुए पूना पैक्ट के अनुसार दलितों का अधिकार है और यह अधिकार मिलना ही चाहिए | साथ ही एस० सी०/एस०टी० की भांति उच्च पदों पर पिछड़े वर्ग का पर्याप्त प्रतिनिधित्व न होने के कारण पिछड़े वर्ग का भी प्रमोशन में आरक्षण का प्राविधान होना चाहिए | प्रमोशन में आरक्षण का विरोध करने वालों को भी सदबुद्धि से दलितों के साथ साथ पिछड़ों को भी प्रमोशन में आरक्षण मिले, यही मांग करनी चाहिए | प्रमोशन में पिछड़े वर्ग को भी आरक्षण मिले इस मांग का पूरा दलित समाज समर्थन कर रहा है | यदि उपरोक्त मांग आरक्षण विरोधियों को अच्छी न लगे तो दूसरा विकल्प है कि देश की धन-धरती, शासन प्रशासन, सेना, न्यायपालिका, व्यापार और मीडिया पर काबिज लोग एक बार दलितों को देश की धन -धरती, शासन प्रशासन, सेना, न्यायपालिका, मीडिया और व्यापार में आबादी के अनुपात में बराबर की हिस्सेदारी दे दो |   यदि आरक्षण विरोधियों को दूसरा विकल्प भी अच्छा नहीं लग पा रहा हो तो तीसरा विकल्प है कि फिर पूरे देश में अंतरजातीय विवाह अनिवार्य कर २० साल के अन्दर जाति नाम का समूल नाश कर जाति व्यवस्था ख़त्म कर समता मूलक समाज बना दो | शायद फिर दलितों को प्रमोशन में आरक्षण और नौकरियों में आरक्षण की कोई जरूरत नहीं पड़ेगी | यदि आरक्षण विरोधी उपरोक्त तीनो विकल्प में से कोई भी मानने को तैयार नहीं है तो फिर देश के मूलनिवासी दलितों और पिछड़ों को तीसरी आज़ादी की लड़ाई के लिए तैयार हो जाना चाहिए | -धर्मेन्द्र प्रकाश, अध्यक्ष, भारतीय मूलनिवासी संगठन |

के द्वारा:

आरक्षण न तो सवर्णों का त्याग है और न पश्चाताप और न ही मजबूरी | मजबूरी का नाम तो कभी महात्मा------हो ही नहीं सकता | क्योंकि महात्मा का लोग अर्थ समझते हैं महान आत्मा और जिसकी और इशारा है वह -------महात्मा था ही नहीं | आरक्षण यदि सवर्णों का त्याग होता तो दलितों को यह हजारों साल पहले मिल गया होता | आरक्षण यदि सवर्णों का पश्चाताप होता, तो भी यह दलितों को हजारों साल पहले मिल गया होता आरक्षण यदि सवर्णों की मजबूरी होती तो भी यह दलितों को हजारों साल पहले मिल गया होता | आरक्षण यदि मजबूरी का नाम महात्मा------होता तो गाँधी इसका विरोध कभी नहीं करते ! चूँकि दलितों को आरक्षण तो १९३१ में ही अंग्रेजों ने दे दिया था | राजनैतिक आरक्षण तब दिया गया जब दलितों की बराबर की हिस्सेदारी की मांग डॉ बी आर अम्बेडकर ने अंग्रेजों से की थी और अंग्रेजों ने इसे लागु करने का मन भी बना लिया था | किन्तु तथाकथित गाँधी ने सितम्बर १९३२ में आमरण अनशन करके दलितों की हिस्सेदारी की मांग को दरकिनार करा दिया | आरक्षण का विरोध व् समर्थन करने वाले सभी को यह समझना जरूरी है की आखिर आरक्षण क्यों दिया गया ? शायद इस प्रश्न का उत्तर गिने -चुने लोग ही जानते होंगे | मेरे पास इसका उत्तर आज भी है किन्तु मैं इसका उत्तर इस लेख में नहीं देना चाहता | फिर भी ऊपर सुझाये गए मत से मैं सहमत नहीं हूँ क्योंकि जब तक इस देश में जाति व्यवश्था कायम रहेगी तब तक अछूतपन बना रहेगा और जब तक अछूतपन रहेगा तब तक बराबरी नहीं आ सकती ! फिर भी आरक्षण का विरोध करने वालों को याद रखना चाहिये कि केवल राजनैतिक महत्वाकांक्षा की खातिर झूंठ का सहारा क्यों लिया जा रहा है कि प्रमोशन में आरक्षण असवैधानिक है ? उनका यह कहना हास्यापद है कि प्रमोशन में आरक्षण मिलने से जूनियर, सीनियर हो जायेगा और सीनियर, जूनियर हो जायेगा | विदित रहे कि सरकारी नौकरियों में प्रमोशन चरित्र प्रविष्टी के आधार पर होता है अर्थात किसी दलित का प्रमोशन भी तभी होगा जब उसकी चरित्र प्रविष्टी अच्छी होंगी | फिर किसी सामान्य व्यक्ति की योग्यता कैसे प्रभावित हो सकती है ? प्रमोशन में आरक्षण श्री मोहनदास करमचंद गाँधी व् डॉ० भीमराव अम्बेडकर के बीच २३ सितम्बर १९३२ में हुए पूना पैक्ट के अनुसार दलितों का अधिकार है और यह अधिकार मिलना ही चाहिए | साथ ही एस० सी०/एस०टी० की भांति उच्च पदों पर पिछड़े वर्ग का पर्याप्त प्रतिनिधित्व न होने के कारण पिछड़े वर्ग का भी प्रमोशन में आरक्षण का प्राविधान होना चाहिए | प्रमोशन में आरक्षण का विरोध करने वालों को भी सदबुद्धि से दलितों के साथ साथ पिछड़ों को भी प्रमोशन में आरक्षण मिले, यही मांग करनी चाहिए | प्रमोशन में पिछड़े वर्ग को भी आरक्षण मिले इस मांग का पूरा दलित समाज समर्थन कर रहा है | यदि उपरोक्त मांग आरक्षण विरोधियों को अच्छी न लगे तो दूसरा विकल्प है कि देश की धन-धरती, शासन प्रशासन, सेना, न्यायपालिका, व्यापार और मीडिया पर काबिज लोग एक बार दलितों को देश की धन -धरती, शासन प्रशासन, सेना, न्यायपालिका, मीडिया और व्यापार में आबादी के अनुपात में बराबर की हिस्सेदारी दे दो |   यदि आरक्षण विरोधियों को दूसरा विकल्प भी अच्छा नहीं लग पा रहा हो तो तीसरा विकल्प है कि फिर पूरे देश में अंतरजातीय विवाह अनिवार्य कर २० साल के अन्दर जाति नाम का समूल नाश कर जाति व्यवस्था ख़त्म कर समता मूलक समाज बना दो | शायद फिर दलितों को प्रमोशन में आरक्षण और नौकरियों में आरक्षण की कोई जरूरत नहीं पड़ेगी | यदि आरक्षण विरोधी उपरोक्त तीनो विकल्प में से कोई भी मानने को तैयार नहीं है तो फिर देश के मूलनिवासी दलितों और पिछड़ों को तीसरी आज़ादी की लड़ाई के लिए तैयार हो जाना चाहिए | -धर्मेन्द्र प्रकाश, अध्यक्ष, भारतीय मूलनिवासी संगठन |

के द्वारा:

आरक्षण न तो सवर्णों का त्याग है और न पश्चाताप और न ही मजबूरी | मजबूरी का नाम तो कभी महात्मा------हो ही नहीं सकता | क्योंकि महात्मा का लोग अर्थ समझते हैं महान आत्मा और जिसकी और इशारा है वह -------महात्मा था ही नहीं | आरक्षण यदि सवर्णों का त्याग होता तो दलितों को यह हजारों साल पहले मिल गया होता | आरक्षण यदि सवर्णों का पश्चाताप होता, तो भी यह दलितों को हजारों साल पहले मिल गया होता आरक्षण यदि सवर्णों की मजबूरी होती तो भी यह दलितों को हजारों साल पहले मिल गया होता | आरक्षण यदि मजबूरी का नाम महात्मा------होता तो गाँधी इसका विरोध कभी नहीं करते ! चूँकि दलितों को आरक्षण तो १९३१ में ही अंग्रेजों ने दे दिया था | राजनैतिक आरक्षण तब दिया गया जब दलितों की बराबर की हिस्सेदारी की मांग डॉ बी आर अम्बेडकर ने अंग्रेजों से की थी और अंग्रेजों ने इसे लागु करने का मन भी बना लिया था | किन्तु तथाकथित गाँधी ने सितम्बर १९३२ में आमरण अनशन करके दलितों की हिस्सेदारी की मांग को दरकिनार करा दिया | आरक्षण का विरोध व् समर्थन करने वाले सभी को यह समझना जरूरी है की आखिर आरक्षण क्यों दिया गया ? शायद इस प्रश्न का उत्तर गिने -चुने लोग ही जानते होंगे | मेरे पास इसका उत्तर आज भी है किन्तु मैं इसका उत्तर इस लेख में नहीं देना चाहता | फिर भी ऊपर सुझाये गए मत से मैं सहमत नहीं हूँ क्योंकि जब तक इस देश में जाति व्यवश्था कायम रहेगी तब तक अछूतपन बना रहेगा और जब तक अछूतपन रहेगा तब तक बराबरी नहीं आ सकती ! फिर भी आरक्षण का विरोध करने वालों को याद रखना चाहिये कि केवल राजनैतिक महत्वाकांक्षा की खातिर झूंठ का सहारा क्यों लिया जा रहा है कि प्रमोशन में आरक्षण असवैधानिक है ? उनका यह कहना हास्यापद है कि प्रमोशन में आरक्षण मिलने से जूनियर, सीनियर हो जायेगा और सीनियर, जूनियर हो जायेगा | विदित रहे कि सरकारी नौकरियों में प्रमोशन चरित्र प्रविष्टी के आधार पर होता है अर्थात किसी दलित का प्रमोशन भी तभी होगा जब उसकी चरित्र प्रविष्टी अच्छी होंगी | फिर किसी सामान्य व्यक्ति की योग्यता कैसे प्रभावित हो सकती है ? प्रमोशन में आरक्षण श्री मोहनदास करमचंद गाँधी व् डॉ० भीमराव अम्बेडकर के बीच २३ सितम्बर १९३२ में हुए पूना पैक्ट के अनुसार दलितों का अधिकार है और यह अधिकार मिलना ही चाहिए | साथ ही एस० सी०/एस०टी० की भांति उच्च पदों पर पिछड़े वर्ग का पर्याप्त प्रतिनिधित्व न होने के कारण पिछड़े वर्ग का भी प्रमोशन में आरक्षण का प्राविधान होना चाहिए | प्रमोशन में आरक्षण का विरोध करने वालों को भी सदबुद्धि से दलितों के साथ साथ पिछड़ों को भी प्रमोशन में आरक्षण मिले, यही मांग करनी चाहिए | प्रमोशन में पिछड़े वर्ग को भी आरक्षण मिले इस मांग का पूरा दलित समाज समर्थन कर रहा है | यदि उपरोक्त मांग आरक्षण विरोधियों को अच्छी न लगे तो दूसरा विकल्प है कि देश की धन-धरती, शासन प्रशासन, सेना, न्यायपालिका, व्यापार और मीडिया पर काबिज लोग एक बार दलितों को देश की धन -धरती, शासन प्रशासन, सेना, न्यायपालिका, मीडिया और व्यापार में आबादी के अनुपात में बराबर की हिस्सेदारी दे दो |   यदि आरक्षण विरोधियों को दूसरा विकल्प भी अच्छा नहीं लग पा रहा हो तो तीसरा विकल्प है कि फिर पूरे देश में अंतरजातीय विवाह अनिवार्य कर २० साल के अन्दर जाति नाम का समूल नाश कर जाति व्यवस्था ख़त्म कर समता मूलक समाज बना दो | शायद फिर दलितों को प्रमोशन में आरक्षण और नौकरियों में आरक्षण की कोई जरूरत नहीं पड़ेगी | यदि आरक्षण समर्थक उपरोक्त तीनो विकल्प में से कोई भी मानने को तैयार नहीं है तो फिर देश के मूलनिवासी दलितों और पिछड़ों को तीसरी आज़ादी की लड़ाई के लिए तैयार हो जाना चाहिए | -धर्मेन्द्र प्रकाश, अध्यक्ष, भारतीय मूलनिवासी संगठन |

के द्वारा:

मित्र भाजपा की गलत नीतिमोदी को भी ले डूबेंगी  भाजपा के वोटर सिर्फ और सिर्फ हिन्दू  थेकशमीर आदि मे हिन्दुओ के लगातार  उत्पीडन सेलोगो मे मायूसी थी साथ ही कांग्रेस की  गलत  नीति से तंग आ कर भाजपा की  ओर झुकाव हुआ पर भाजपा ने निराश किया  एक हफता पोप रखा 16 करोड खरचे मुसलमान राष्ट्रपति बनायाजिस पोलिसी से तंग थे  उसी पर   पिल पडे नौकरी उडादीमहकमेखत्मकर दिये ब्याजघटादियासरकारी जायदाद बेच दी  आयात खोल दिया पंजाब मे किसी कोमुआवजा नही मिला लोयल अफसर हरास हुए  कहते हैं  देस ने तरकी की की होगी हिन्दुओ को क्या मिला एक मोदी था जिसने हिन्दू स्वाभिमान को  जीवित रखाउसे अटल बुहारी कभी कलंक कहता तो कभी राज धरम निभाने को बेचारा अकेला लडा उस बुहारी की गलत नीति से भाजपा हार गईचाण्डाल चौकडीजसवन्त यसवन्त महाजन फरनाडीज  अडवानी ने सोचा हिन्दूतो गुलाम हो ही गये अब मुसलमानो को साधो हिन्दू ही बिदक  गये  अगर आपका कोई  भाजपा मित्र हो तो उसे बता देना  अडवानी को अलग से भेज  रहाहूं

के द्वारा:

मित्र भाजपा की गलत नीतिमोदी को भी ले डूबेंगी  भाजपा के वोटर सिर्फ और सिर्फ हिन्दू थे  कशमीर आदि मे हिन्दुओ के लगातार  उत्पीडन सेलोगो मे मायूसी थी साथ ही कांग्रेस की गलत  नीति से तंग आ कर भाजपा की  ओर झुकाव हुआ पर भाजपा ने निराश किया एक हफता पोप रखा 16 करोड खरचे  मुसलमान राष्ट्रपति बनायाजिस पोलिसी से तंग थे उसी पर   पिल पडे नौकरी उडादी महकमे खत्म कर दिये ब्याजघटादियासरकारी जायदाद बेच दी आयात खोल दिया पंजाब मे किसी कोमुआवजा नही मिला लोयल अफसर हरास हुए  कहते हैं देस ने तरकी की की होगी  हिन्दुओ को क्या मिला एक मोदी था जिसने हिन्दू स्वाभिमान को जीवित रखाउसे अटल बुहारी कभी कलंक  कहता तो कभी राज धरम निभाने को बेचारा अकेला लडाउस बुहारी की गलत नीति से भाजपा हार गईचाण्डाल चौकडीजसवन्त यसवन्त महाजन फरनाडीज अडवानी ने सोचा हिन्दूतो गुलाम हो ही गये अब मुसलमानो को साधो हिन्दू ही बिदक गये   अगर आपका कोई  भाजपा मित्र हो तो उसे बता देना  अडवानी को अलग से भेज  रहाहूं

के द्वारा:

के द्वारा:

माननीय श्री मोदी जी इस देश कि धड़कन और विकास पुरुष कि महान मिसाल है.कांग्रेस के लोग मोदी जी कि बढ़ती लोकप्रियता के कारण घबरा गई है उन्हे लगता है कि मोदी जी दिल्ली आ गये तो अपनी वाट लग जायेगी.। देश के सभी भाईयो से में अपील करता हु कि आप2014में जी तोड़ मेहनत करके बी.जे.पी. को अपने मकसद में सफ़ल बनाना है.आप यह मत सोचना कि मेरे एक वोट से क्या फ़र्क पड़ेगा.एक-एक वोट2014में बहुत किमती है.यहां लोकसभा चुनाव कि बात नही होगी अपनी इज्ज्त का सवाल है.नही तो आने वाली पिढ़ी का क्या हाल होगा आप सोच सकते है.आधे से ज्यादा इस देश को कांग्रेस ने बेच दिया है और साथ में धर्म कि वोट बैंक...क्या आपको लगता नही कि इस देश को कहां धकेल रही है?

के द्वारा:

पाकिस्तान की बुनियाद अंग्रेजों के इशारे पर और दार - उल - इस्लाम और जिहाद के फल्सफे पर की राखी गई थी | कैसे कत्ले-आम के बाद नंगा कर हिन्दू - सिख औरतों के जलूस निकाले गए थे | ' मै न भूलूंगा - मै न भूलूंगी | उस दिन पाकिस्तान का नापाक चेहरा सारी दुनियां के सामने था | जिस थाली में खाना उसी में छेद करना इस्लाम की फितरत है | क्या किसी भी इस्लामिक देश में मुक़म्मल लोकतंत्र और आजादी है | कहीं ट्यूनिसिया, लीबिया, सोमालिया, मिस्र, इराक, यमन, पाकिस्तान (पाक - स्थान) धू - धू कर जल रहे हैं और तो कहीं सीरिया में रोज - रोज इंसानों का खून बह रहा है | यह इस लिये क्यूंकि इस्लाम में ' जिसकी लाठी उसकी भैंस ' का असूल चलता है | हिन्दोस्तानी हो यां पाकिस्तानी, नेताओं को देश से क्या मतलब, उनके तो वोट बैंक महफूज रहना चाहिये | नेता तो दोनों देशों में एक सामान है कैसे भी हो सके राज और ताक़त उन्ही के हाथों में रहनी चाहिये | पाकिस्तान में तो नाम मात्र के प्रेजिडेंट और प्राइम मिनिस्टर हैं और पता नहीं कब आई एस आई धर दबोचे | मुल्लाओं की जुबान ( Islamic Ideology ) जहर उगलती है और आंतवादिकयों का आंतक | वहां हिजबुल मुजाहिद्दीन और जमात - उद दावा, लश्करेताईबा इधर हिन्दोतान में इंडियन मुजाहिद | आई एस आई के हाथ में तलवार और इधर हिन्दोस्तानी की पुलिस और खुफिया एजेंसियों के हाथ में ढाल और की नेताओं की नीतियों से पीठ पीछे बंधे हाथ | हाँ दोनों देशों में कुछ बचा है तो उनके सुप्रीम कोर्ट परन्तु इनके भी दायरे सीमित है | कभी - कभी तो ऐसा लगता है की इनके भी हाथ कठपुतलियों की तरह कानून की डोरियों से बंधे हुए हैं यां नेताओं द्वारा लगाये गए न्यायिक सक्रियता ( judicial activism ) के इल्जाम और हो - हल्ला | सुप्रीम कोर्ट तो दोनों देशो की आखरी उम्मीद रह गए हैं नहीं तो गणतंत्र, सेकुलरिज्म और समाजवाद को तो दिवाला निकल चुका है | दोनों देशों की जनता की पीठ भ्रष्टाचार, महंगाई और अपराधों के बोझ से टूट रही है, परन्तु दोनों देशों के नेतओं के कान में जूं भी नहीं रेंगती उनको तो भ्रष्टाचार और राजनीतिक दंदे से फुर्सत ही नहीं औरफ फिर क्रिकट के धन्धे का लालच कैसे छोड़ दें | इसके अलावा वोह हर वक़्त सोचते रहते हैं कि कैसे जनता -अवाम का ध्यान समस्याओं से हटा कर दूसरी तरफ लगा दिया जाये | तो क्रिकेट में हुआ दो तरह का फ़ायदा यानि आम के आम गुठलियों के दाम | हिन्दोस्तान की सेन्ट्रल ब्यूरो आफ इन्वेस्टिगेशन को तो आम जुबान में लोग कांग्रेस ब्यूरो आफ इन्वेस्टिगेशन यां सरकारी ब्यूरो आफ इन्वेस्टिगेशन कहने लगे हैं | ' कुछ तो लोग कहेंगे लोगो का काम है कहना, छोडो बेकार की बातों में कही बीत न जाये रैना ' रैना का मतलब यहाँ राज शासन करने का वक़्त अर्थात ' PERIOD OF RULE ' है | एक बार राजगद्दी हाथ आ जाये फिर कोई परवाह नहीं | संया बये बलवान अब डर काहे का | कांग्रेस के राज में पिछले साल दिसम्बर में जयपुर से १४ में से ११ सिमी ( स्टुडेंट इस्लामिक मूवमेंट ऑफ़ इंडिया ) के अपराधियों को छोड़ दिया, क्यूंकि कांग्रेस कि राजस्थान सरकार पर मुसलमान और मुल्लाओ का ऐसा राजनीतिक दबाव था, कि एंटी टेरेरिस्ट स्कुईड वहां की होम मिनिस्ट्री से मुकदमा चलाने कि इज़ाज़त न ले , ताकि कांग्रेसी नेताओं का मुस्लिम वोट बैंक बकरार रहे और उनकी बाद्शायत कायम रहे | अगर उग्रवादियों की सहायता के लिये जेहादियों को शह मिलती है तो मिले इससे राजनेताओं को क्या फर्क पड़ता है बल्कि उनके तो वोटों की तो पौं - बारह होगी | इसी वोट बैंक की राजनीति - पोलिसी के अन्तर्गत अभी -अभी उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेशजी, जिनके नाम का मतलब अखिल ईश है और अब वोह उत्तर प्रदेश के इश्वर हैं जो चाहेंगे करेंगे, ने समाजवादी पार्टी का समाजवाद लाने के लिये अपनी पार्टी के मंत्रियों के खिलाफ संगीन अपराधी मामले वापिस ले लिये | है न चोर - चोर मुसेरे भाई - भाई | पाकिस्तान कुछ भी करे आखिर हैं तो उसी थाली के चट्टे -बट्टे जिसके हिन्दोस्तानी नेता हैं | फौजी, पुलिसवाले और लोग मरें तो मरें, हमें क्या हानि हम तो हैं चोर - चोर मुसेरे भाई - भाई, ' घूमेंगे, फिरेगे, ऐश करेंगे और क्रिकट का हर तरह से फ़ायदा उठायेंगे | जनता की यादाश्त बहुत छोटी होती है | जो चला गया उसे भूल जा | जा अपनी हसरतों से, आंसू बहा के सो जा | फिर कुछ याद रह भी गया तो क्रिकट के लम्हे राजनितिक क्रिकट को भूला देंगे |

के द्वारा: ASK ASK

पिछड़ा वर्ग आयोग भी सर्कार का एक विभाग है उसकी स्थापना भी सर्कार द्वार की गयी है अतः कोई कारन नहीं होना चाहिए की सर्कार इन पहलुओं की अनदेखी करे और केवल चुनावी लाभ के लिए धर्म के आधार पर किसी एक समुदाय को आरक्छन देने का वायदा करे सर्कार ने असल में संविधान का पालन नहीं किया यहाँ तक सुप्रीम कोर्ट के दखल देने के बावजूद सलमान खुशीद जैसे कांग्रेसी नेता मुस्लिमो को यूपी चुनाव के दौरान रिझाने के लिए उनका वोट पाने के लिए इस तरह का असंवैधानिक तरीका अपनाया और जनता तथा खुद मुस्लिम वर्ग ने उनके इस वायदे को झूठा समझते हुए वे समाजवादी पार्टी को वोट देकर जीता दिए क्या आनेवाले लोकसभा चुनाव के आने तक भी कांग्रेस इस बात को नहीं समझेगी लगता कुछ ऐसा ही है मुस्लिम का समर्थन करना धर्म निरापेक्छ्ता है और हिन्दू की बात करना सांप्रदायिक होना है यह कांग्रेस और बीजेपी विरोधी पार्टियों का एक राजनितिक हथकंडा है इसे मुस्लिम भी समझते हैं और जरुरत है बीजेपी अपनी पार्टी में ज्यादा से ज्यादा मुस्लिमों को नेता के रूप में प्रोजेक्ट करे यदि वह अपनी सांप्रदायिक कहलाने वाली छबि से निजत पाना चाहती है .

के द्वारा: ashokkumardubey ashokkumardubey

नरेंदर मोदी जी आज भारतीय राजनीती के मुख्य स्तंम्भ हैं. कुछ लोग उनमे देश का भविष्य देखते हैं, तो कुछ उनके आने की आहट से ही भयभीत हैं, वास्तव में नरेंदर जी ने गुजरात का जिस प्रकार से विकास किया है, जनहितकारी कार्य संस्कृति विकसित की है, उससे देश की वर्तमान स्थिति से परेसान नागरिको में आशा का संचार हुआ है . अपनी बात को निडरता और प्रखरता से रखने की मोदी जी की शैली ने युवाओ को आकर्षित किया है. लेकिन उनकी यही बातें वोट के सौदागरों को परेसान कर रही हैं, और उन्हें अपनी रोज़ी-रोटी छिनती दिख रही है और हताशा में अनर्गल प्रलाप कर रहे है. मोदी विरोध में ये लोग सभी सीमाए पार कर रहे है, लेकिन देश की जनता ने अपना मन बना लिया है. उन्हें तरह-तरह के प्रमाणपत्र लिए घूम रहे विदुसको की परवाह नहीं है,जो विकाश गुजरात में हुआ, जिसे सारे विश्व ने सराहा, वही इस देश के प्रत्येक नागरिक का सपना है, क्योंकि विकाश होता है, तो वो जाती-पंथ का भेद किये बिना सबको प्रकाशित करता है, इसलिए एक ही विकल्प --नरेंदर मोदी.

के द्वारा:

आमिर जी आपका शो देखा और आपका यह लेख पड़ा देखकर अच्छा लगा किसी ने इस मुद्दे को positive तरीके से उठाया समझ नहीं आता हमारी मानसिकता इतनी असी कसे हो सकती है एक तरफ हम १८ साल के लोगो को देश का fuctur चुनने का हक देते है पर हम उन्हें उनका fucture चुनने की आज़ादी नहीं दे सकते है माँ बाप अपने बचे की ख़ुशी के लिए ज़मीन आसमा एक कर देते है उन्हें वो सब देने की कोशिश करते है जो वो उनसे मांगते है पर क्यों वही माँ बाप जब बचे मन का जीवनसाथी चुनते है तो उनके सबसे बड़े दुश्मन बन जाते है हम क्यों नहीं सम्जहते समाज परम्पराए हमारे भले के लिए बनायीं गयी थी ये हमारे लिए है हम इनके लिए नहीं वो परम्परा जो हमे प्रगति के पथ से हटा कर विनाश की और ले जयेर कभी सही नहीं हो सकती परिवर्तन जीवन का शाश्वत नीयम है और ये नीयम परम्पराव पर भी लागु होता है जसे ठहरा हुआ पानी बदबू मरने लगता है वसे ही जो परम्पराए समय के साथ नहीं बदलती वो भी बदबू करने लगती है और देश और समाज को बीमार कर देती है ये हमारे हाथ में है हम बदलवा चाहते है या देश को इसी तरह बीमार हालत में छोड़ देना ,,,,,,,,,,,,,,,,,

के द्वारा: pragati pragati

आदरनिये आमिर जी , आपकी हर एक बात ठीक पर इसे कोई समझना नहीं चाहता आपका शो देख के कहते है उनके बारे में जो उस शो में आये और समझाने की कोशिश की उसके लिए कि ये यहाँ समझाने आया है आमिर जी के कहने पर ये खुद अपने बच्चो के वक़्त वही करेगा जो हम कर रहे है शुक्र है आपके लिए कुछ नहीं बोला चुप चाप देखते रहे और एक सच्चाई से मई आपको अवगत करा दू सिर्फ बड़े ही नहीं बल्कि कुछ पढ़े लिखे नौजवान भी इसको समर्थन दे रहे है पता नहीं उनकी बुध्धि को क्या होगया जो सही गलत नहीं देख पा रहे वो तो शिक्षित है पर किसी काम के नहीं समझ नहीं आता इन लोगो को सच्चाई कैसे दिखाए और अगर दिख भी जाती है तो हिम्मत नहीं है इनमे सच का सामना करने की जो लोग जो रिश्तेदार कभी कम नहीं आते उनसे कोई लेना देना नहीं उनका इतना दर उनकी इतनी फ़िक्र क्यों है क्यों इंसान में सच का सामना करने की हिम्मत नहीं उन्हें अनुभव है जिंदगी का सही गलत की परख नहीं है उसे लागु करने की हिम्मत नहीं है क्यों ? क्यों वो रिश्तेदारों को खुश करने में लगे रहते है अपने बच्चो को नहीं? क्यों उनकी सोच सिर्फ लोगो को नज़रो को देखती है अपने बच्चो की आँखों को नहीं? वो माँ - बाप अपने बच्चो की जिंदगी तो दाव पर लगा देते है पर रिश्तेदारों को नहीं कह सकते की हम अपने बच्चो की ख़ुशी के लिए है क्यों वो सब कुछ लोगो की मर्जी से करते है उनका खुद का कोई फैसला क्यों नहीं होता ? क्यों वो कपडे भी ये सोच कर पहनते है की लोग क्या कहेंगे क्यों वो अपने जीवन के तजुर्बे के बावजूद खुद की पसंद का ड्रेस भी नहीं पहन सकते???? और अपने बच्चो से भी यही उम्मीद करते है की वो भी दुसरो की मर्जी से जिए आपने कोशिश कर ली समझाने की पर मैंने देखा जिसे उन सबने देख के सुन के बैठ गए यही भी नहीं कहा की ये सही होसकता है कैसे समझाये उन्हें और कोनसा तरीका अपनाये की ये सही गलत का फर्क करना सिख जाये आपको नहीं लगता खुद खुदा को आना पड़ेगा? मुझे तो यही लगता है ये किसी से नहीं समझेंगे. समझ नहीं आता कब लोग इस जात पात और धर्म मजहब की बीमारी से आज़ाद होंगे कब वो दिन आएगा सब जब सब मिल कर जियेंगे सबके साथ जियेंगे बिना किसी भेद भाव के. न जाने कब होगी ऐसी सेहर

के द्वारा: MEENU MEENU

जाहिद खान ने अल्पसंख्यक आरक्छन का समर्थन करते हुए विरोधाभासी दलील दी है. वैसे भी इस मसले में कांग्रेस नीत केंद्र सरकार देश को बाँटने का वाही खतरनाक खेल खेल रही है, जैसा अंग्रेजो ने खेला, और भारतमाता के टुकड़े हो गए. यदि आर्थिक आधार पर आरक्छन की बात होती है तो क्या हिन्दू समाज की तथकथित कथित अगड़ी जातियों में सभी अमीर हैं? यदि नहीं तो उन को आरक्छन क्यों नहीं ? क्या हिन्दू होना उनका अपराध है ? यदि सामाजिक पिछड़े पन की बात की जाती है, तो जिस समाज ने ७०० वर्ष तक इस देश पर कब्ज़ा जमाये रखा, देश का विभाजन कराया, देश के कानून से अलग विशेष कानून की जिद कर सामाजिक सौहार्दको तार-तार करने की कोशिश कर रहा है, वो उत्पीडित या निरीह तो नहीं हो सकता. रही बात मुस्लिमो में पिछड़ी जातियों के होने की, तो ऐसा कहकर लेखक पूरे इस्लाम को ही नकार रहा है, क्योंकि इस्लाम तो जाती विहीन समाज होने का दम भरता है, ऐसे में यदि वहां जाती या अगड़ा-पिछड़ा है तो कैसा इस्लाम ? यदि हिंदुत्व से अलग होकर भी कुछ लोगो को भेदभाव सहन करना पड़ रहा है, तो उन्हें अपने मूल धर्म में आकर घर वापिसी करनी चाहिए.संविधान मेकेवल हिन्दू समाज को ही जाती प्रथा से पीड़ित मानकर निम्न जातियों के लिए आरक्छन की व्यवस्था है. जाती प्रथा के नाम पर हिंदुत्व को अपमानित और कमजोर करने वाले यदि अपने यहाँ भी भेदभाव स्वीकार करते है, तो हिन्दू समाज से माफ़ी मांगकर घर वापस आयें.

के द्वारा:

आज देश में जो राजनितिक माहौल है उसमे बिपक्छ की भूमिका समाप्तप्राय ही दिखलाई पड़ रहा है ऐसे में जो २०१३ में चुनाव की कल्पना की जा रही थी वह तो ख़तम समझा जाना चाहिए क्यूंकि आज देश की जनता कमर तोड़ महंगाई से जूझ रही है और सर्कार इसके प्रति कोई कदम उठाने को तैयार नहीं है वर्तमान वित्तमंत्री की आर्थिक निति यही बयां कर रही की महंगाई और बढ़ सकती है और जनता भी ले दे कर चुप चाप बैठी दिखलाई पड़ रही है अतः यह सर्कार अपना कार्यकाल ५ साल का पूरा जरुर करेगी क्यूंकि कोई ठोस विरोध नहीं है नहीं जनता की तरफ से न ही बिपक्छी पार्टियों की तरफ से और मुख्य बिपक्छी दल बीजेपी तो अंतर्कलह से जूझ रही है .अगले चुनाव में छेत्रिय पार्टियों का प्रदर्शन ही ज्यादा मजबूत और संख्या बल में भी अपनी पहचान दर्ज करेगी हाँ उनका एकजुट होना एक मुश्किल बात है लेकिन अगर कांग्रेस का विरोध पूरे देश में उभरेगा जो की आशा की जा सकती है तो दोनों ही राष्ट्रिय पार्टियों का प्रदर्शन अगले चुनाव में अच्छा होने की सम्भावना नजर नहीं आती अतः मेरे विचार से अगले चुनाव में चुनाव पूर्ब गठ बंधन होना मुमकिन नहीं लगता हाँ चुनाव बाद समीकरण जरुर बनने की सम्भावना है और छेत्रिय पार्टियाँ अगर एक तीसरे मोर्चे के रूप में उभर कर आती है तो एक कामन मिनमम प्रोग्राम के तहत सर्कार को कुछ स्थिरता दे सकते हैं लेकिन अभी ऐसा भविष्यवाणी करना जल्दबाजी कही जाएगी

के द्वारा: ashokkumardubey ashokkumardubey

खाली!! मेरा नाम मेलिस्सा है मैं लंबा, अच्छी लग रही है, संपूर्ण शरीर आंकड़ा और सेक्सी हूँ. मैं अपने प्रोफ़ाइल देखा और आपसे संपर्क करने के लिए खुश था, मुझे आशा है कि आप सच्चे प्यार, ईमानदार और देखभाल व्यक्ति है कि मैं 4 देख रहा है हो जाएगा, और मैं कुछ खास करने के लिए आप मेरे बारे में बताना है, तो मुझे अपने ईमेल के माध्यम से सीधे संपर्क करें पर पता (annanmelissa@hotmail.com) इतना है कि मैं भी आप के लिए मेरी तस्वीर भेज सकते हैं सीधे. का संबंध है मेलिसा Hallo!!! My name is Melissa I am tall ,good looking, perfect body figure and sexy. I saw your profile and was delighted to contact you, I hope you will be the true loving, honest and caring person that I have been looking 4, And I have something special to tell you about me, So please contact me directly through my email address at (annanmelissa@hotmail.com) so that I can also send my picture directly to you. regards Melissa

के द्वारा: melissa melissa

खाली!! मेरा नाम मेलिस्सा है मैं लंबा, अच्छी लग रही है, संपूर्ण शरीर आंकड़ा और सेक्सी हूँ. मैं अपने प्रोफ़ाइल देखा और आपसे संपर्क करने के लिए खुश था, मुझे आशा है कि आप सच्चे प्यार, ईमानदार और देखभाल व्यक्ति है कि मैं 4 देख रहा है हो जाएगा, और मैं कुछ खास करने के लिए आप मेरे बारे में बताना है, तो मुझे अपने ईमेल के माध्यम से सीधे संपर्क करें पर पता (annanmelissa@hotmail.com) इतना है कि मैं भी आप के लिए मेरी तस्वीर भेज सकते हैं सीधे. का संबंध है मेलिसा Hallo!!! My name is Melissa I am tall ,good looking, perfect body figure and sexy. I saw your profile and was delighted to contact you, I hope you will be the true loving, honest and caring person that I have been looking 4, And I have something special to tell you about me, So please contact me directly through my email address at (annanmelissa@hotmail.com) so that I can also send my picture directly to you. regards Melissa

के द्वारा: melissa melissa

खाली!! मेरा नाम मेलिस्सा है मैं लंबा, अच्छी लग रही है, संपूर्ण शरीर आंकड़ा और सेक्सी हूँ. मैं अपने प्रोफ़ाइल देखा और आपसे संपर्क करने के लिए खुश था, मुझे आशा है कि आप सच्चे प्यार, ईमानदार और देखभाल व्यक्ति है कि मैं 4 देख रहा है हो जाएगा, और मैं कुछ खास करने के लिए आप मेरे बारे में बताना है, तो मुझे अपने ईमेल के माध्यम से सीधे संपर्क करें पर पता (annanmelissa@hotmail.com) इतना है कि मैं भी आप के लिए मेरी तस्वीर भेज सकते हैं सीधे. का संबंध है मेलिसा Hallo!!! My name is Melissa I am tall ,good looking, perfect body figure and sexy. I saw your profile and was delighted to contact you, I hope you will be the true loving, honest and caring person that I have been looking 4, And I have something special to tell you about me, So please contact me directly through my email address at (annanmelissa@hotmail.com) so that I can also send my picture directly to you. regards Melissa

के द्वारा: melissa melissa

खाली!! मेरा नाम मेलिस्सा है मैं लंबा, अच्छी लग रही है, संपूर्ण शरीर आंकड़ा और सेक्सी हूँ. मैं अपने प्रोफ़ाइल देखा और आपसे संपर्क करने के लिए खुश था, मुझे आशा है कि आप सच्चे प्यार, ईमानदार और देखभाल व्यक्ति है कि मैं 4 देख रहा है हो जाएगा, और मैं कुछ खास करने के लिए आप मेरे बारे में बताना है, तो मुझे अपने ईमेल के माध्यम से सीधे संपर्क करें पर पता (annanmelissa@hotmail.com) इतना है कि मैं भी आप के लिए मेरी तस्वीर भेज सकते हैं सीधे. का संबंध है मेलिसा Hallo!!! My name is Melissa I am tall ,good looking, perfect body figure and sexy. I saw your profile and was delighted to contact you, I hope you will be the true loving, honest and caring person that I have been looking 4, And I have something special to tell you about me, So please contact me directly through my email address at (annanmelissa@hotmail.com) so that I can also send my picture directly to you. regards Melissa

के द्वारा: melissa melissa

खाली!! मेरा नाम मेलिस्सा है मैं लंबा, अच्छी लग रही है, संपूर्ण शरीर आंकड़ा और सेक्सी हूँ. मैं अपने प्रोफ़ाइल देखा और आपसे संपर्क करने के लिए खुश था, मुझे आशा है कि आप सच्चे प्यार, ईमानदार और देखभाल व्यक्ति है कि मैं 4 देख रहा है हो जाएगा, और मैं कुछ खास करने के लिए आप मेरे बारे में बताना है, तो मुझे अपने ईमेल के माध्यम से सीधे संपर्क करें पर पता (annanmelissa@hotmail.com) इतना है कि मैं भी आप के लिए मेरी तस्वीर भेज सकते हैं सीधे. का संबंध है मेलिसा Hallo!!! My name is Melissa I am tall ,good looking, perfect body figure and sexy. I saw your profile and was delighted to contact you, I hope you will be the true loving, honest and caring person that I have been looking 4, And I have something special to tell you about me, So please contact me directly through my email address at (annanmelissa@hotmail.com) so that I can also send my picture directly to you. regards Melissa

के द्वारा: melissa melissa

खाली!! मेरा नाम मेलिस्सा है मैं लंबा, अच्छी लग रही है, संपूर्ण शरीर आंकड़ा और सेक्सी हूँ. मैं अपने प्रोफ़ाइल देखा और आपसे संपर्क करने के लिए खुश था, मुझे आशा है कि आप सच्चे प्यार, ईमानदार और देखभाल व्यक्ति है कि मैं 4 देख रहा है हो जाएगा, और मैं कुछ खास करने के लिए आप मेरे बारे में बताना है, तो मुझे अपने ईमेल के माध्यम से सीधे संपर्क करें पर पता (annanmelissa@hotmail.com) इतना है कि मैं भी आप के लिए मेरी तस्वीर भेज सकते हैं सीधे. का संबंध है मेलिसा Hallo!!! My name is Melissa I am tall ,good looking, perfect body figure and sexy. I saw your profile and was delighted to contact you, I hope you will be the true loving, honest and caring person that I have been looking 4, And I have something special to tell you about me, So please contact me directly through my email address at (annanmelissa@hotmail.com) so that I can also send my picture directly to you. regards Melissa

के द्वारा: melissa melissa

खाली!! मेरा नाम मेलिस्सा है मैं लंबा, अच्छी लग रही है, संपूर्ण शरीर आंकड़ा और सेक्सी हूँ. मैं अपने प्रोफ़ाइल देखा और आपसे संपर्क करने के लिए खुश था, मुझे आशा है कि आप सच्चे प्यार, ईमानदार और देखभाल व्यक्ति है कि मैं 4 देख रहा है हो जाएगा, और मैं कुछ खास करने के लिए आप मेरे बारे में बताना है, तो मुझे अपने ईमेल के माध्यम से सीधे संपर्क करें पर पता (annanmelissa@hotmail.com) इतना है कि मैं भी आप के लिए मेरी तस्वीर भेज सकते हैं सीधे. का संबंध है मेलिसा Hallo!!! My name is Melissa I am tall ,good looking, perfect body figure and sexy. I saw your profile and was delighted to contact you, I hope you will be the true loving, honest and caring person that I have been looking 4, And I have something special to tell you about me, So please contact me directly through my email address at (annanmelissa@hotmail.com) so that I can also send my picture directly to you. regards Melissa

के द्वारा: melissa melissa

खाली!! मेरा नाम मेलिस्सा है मैं लंबा, अच्छी लग रही है, संपूर्ण शरीर आंकड़ा और सेक्सी हूँ. मैं अपने प्रोफ़ाइल देखा और आपसे संपर्क करने के लिए खुश था, मुझे आशा है कि आप सच्चे प्यार, ईमानदार और देखभाल व्यक्ति है कि मैं 4 देख रहा है हो जाएगा, और मैं कुछ खास करने के लिए आप मेरे बारे में बताना है, तो मुझे अपने ईमेल के माध्यम से सीधे संपर्क करें पर पता (annanmelissa@hotmail.com) इतना है कि मैं भी आप के लिए मेरी तस्वीर भेज सकते हैं सीधे. का संबंध है मेलिसा Hallo!!! My name is Melissa I am tall ,good looking, perfect body figure and sexy. I saw your profile and was delighted to contact you, I hope you will be the true loving, honest and caring person that I have been looking 4, And I have something special to tell you about me, So please contact me directly through my email address at (annanmelissa@hotmail.com) so that I can also send my picture directly to you. regards Melissa

के द्वारा: melissa melissa

खाली!! मेरा नाम मेलिस्सा है मैं लंबा, अच्छी लग रही है, संपूर्ण शरीर आंकड़ा और सेक्सी हूँ. मैं अपने प्रोफ़ाइल देखा और आपसे संपर्क करने के लिए खुश था, मुझे आशा है कि आप सच्चे प्यार, ईमानदार और देखभाल व्यक्ति है कि मैं 4 देख रहा है हो जाएगा, और मैं कुछ खास करने के लिए आप मेरे बारे में बताना है, तो मुझे अपने ईमेल के माध्यम से सीधे संपर्क करें पर पता (annanmelissa@hotmail.com) इतना है कि मैं भी आप के लिए मेरी तस्वीर भेज सकते हैं सीधे. का संबंध है मेलिसा Hallo!!! My name is Melissa I am tall ,good looking, perfect body figure and sexy. I saw your profile and was delighted to contact you, I hope you will be the true loving, honest and caring person that I have been looking 4, And I have something special to tell you about me, So please contact me directly through my email address at (annanmelissa@hotmail.com) so that I can also send my picture directly to you. regards Melissa

के द्वारा: melissa melissa

खाली!! मेरा नाम मेलिस्सा है मैं लंबा, अच्छी लग रही है, संपूर्ण शरीर आंकड़ा और सेक्सी हूँ. मैं अपने प्रोफ़ाइल देखा और आपसे संपर्क करने के लिए खुश था, मुझे आशा है कि आप सच्चे प्यार, ईमानदार और देखभाल व्यक्ति है कि मैं 4 देख रहा है हो जाएगा, और मैं कुछ खास करने के लिए आप मेरे बारे में बताना है, तो मुझे अपने ईमेल के माध्यम से सीधे संपर्क करें पर पता (annanmelissa@hotmail.com) इतना है कि मैं भी आप के लिए मेरी तस्वीर भेज सकते हैं सीधे. का संबंध है मेलिसा Hallo!!! My name is Melissa I am tall ,good looking, perfect body figure and sexy. I saw your profile and was delighted to contact you, I hope you will be the true loving, honest and caring person that I have been looking 4, And I have something special to tell you about me, So please contact me directly through my email address at (annanmelissa@hotmail.com) so that I can also send my picture directly to you. regards Melissa

के द्वारा: melissa melissa

खाली!! मेरा नाम मेलिस्सा है मैं लंबा, अच्छी लग रही है, संपूर्ण शरीर आंकड़ा और सेक्सी हूँ. मैं अपने प्रोफ़ाइल देखा और आपसे संपर्क करने के लिए खुश था, मुझे आशा है कि आप सच्चे प्यार, ईमानदार और देखभाल व्यक्ति है कि मैं 4 देख रहा है हो जाएगा, और मैं कुछ खास करने के लिए आप मेरे बारे में बताना है, तो मुझे अपने ईमेल के माध्यम से सीधे संपर्क करें पर पता (annanmelissa@hotmail.com) इतना है कि मैं भी आप के लिए मेरी तस्वीर भेज सकते हैं सीधे. का संबंध है मेलिसा Hallo!!! My name is Melissa I am tall ,good looking, perfect body figure and sexy. I saw your profile and was delighted to contact you, I hope you will be the true loving, honest and caring person that I have been looking 4, And I have something special to tell you about me, So please contact me directly through my email address at (annanmelissa@hotmail.com) so that I can also send my picture directly to you. regards Melissa

के द्वारा: melissa melissa

खाली!! मेरा नाम मेलिस्सा है मैं लंबा, अच्छी लग रही है, संपूर्ण शरीर आंकड़ा और सेक्सी हूँ. मैं अपने प्रोफ़ाइल देखा और आपसे संपर्क करने के लिए खुश था, मुझे आशा है कि आप सच्चे प्यार, ईमानदार और देखभाल व्यक्ति है कि मैं 4 देख रहा है हो जाएगा, और मैं कुछ खास करने के लिए आप मेरे बारे में बताना है, तो मुझे अपने ईमेल के माध्यम से सीधे संपर्क करें पर पता (annanmelissa@hotmail.com) इतना है कि मैं भी आप के लिए मेरी तस्वीर भेज सकते हैं सीधे. का संबंध है मेलिसा Hallo!!! My name is Melissa I am tall ,good looking, perfect body figure and sexy. I saw your profile and was delighted to contact you, I hope you will be the true loving, honest and caring person that I have been looking 4, And I have something special to tell you about me, So please contact me directly through my email address at (annanmelissa@hotmail.com) so that I can also send my picture directly to you. regards Melissa

के द्वारा: melissa melissa

खाली!! मेरा नाम मेलिस्सा है मैं लंबा, अच्छी लग रही है, संपूर्ण शरीर आंकड़ा और सेक्सी हूँ. मैं अपने प्रोफ़ाइल देखा और आपसे संपर्क करने के लिए खुश था, मुझे आशा है कि आप सच्चे प्यार, ईमानदार और देखभाल व्यक्ति है कि मैं 4 देख रहा है हो जाएगा, और मैं कुछ खास करने के लिए आप मेरे बारे में बताना है, तो मुझे अपने ईमेल के माध्यम से सीधे संपर्क करें पर पता (annanmelissa@hotmail.com) इतना है कि मैं भी आप के लिए मेरी तस्वीर भेज सकते हैं सीधे. का संबंध है मेलिसा Hallo!!! My name is Melissa I am tall ,good looking, perfect body figure and sexy. I saw your profile and was delighted to contact you, I hope you will be the true loving, honest and caring person that I have been looking 4, And I have something special to tell you about me, So please contact me directly through my email address at (annanmelissa@hotmail.com) so that I can also send my picture directly to you. regards Melissa

के द्वारा: melissa melissa

खाली!! मेरा नाम मेलिस्सा है मैं लंबा, अच्छी लग रही है, संपूर्ण शरीर आंकड़ा और सेक्सी हूँ. मैं अपने प्रोफ़ाइल देखा और आपसे संपर्क करने के लिए खुश था, मुझे आशा है कि आप सच्चे प्यार, ईमानदार और देखभाल व्यक्ति है कि मैं 4 देख रहा है हो जाएगा, और मैं कुछ खास करने के लिए आप मेरे बारे में बताना है, तो मुझे अपने ईमेल के माध्यम से सीधे संपर्क करें पर पता (annanmelissa@hotmail.com) इतना है कि मैं भी आप के लिए मेरी तस्वीर भेज सकते हैं सीधे. का संबंध है मेलिसा Hallo!!! My name is Melissa I am tall ,good looking, perfect body figure and sexy. I saw your profile and was delighted to contact you, I hope you will be the true loving, honest and caring person that I have been looking 4, And I have something special to tell you about me, So please contact me directly through my email address at (annanmelissa@hotmail.com) so that I can also send my picture directly to you. regards Melissa

के द्वारा: melissa melissa

खाली!! मेरा नाम मेलिस्सा है मैं लंबा, अच्छी लग रही है, संपूर्ण शरीर आंकड़ा और सेक्सी हूँ. मैं अपने प्रोफ़ाइल देखा और आपसे संपर्क करने के लिए खुश था, मुझे आशा है कि आप सच्चे प्यार, ईमानदार और देखभाल व्यक्ति है कि मैं 4 देख रहा है हो जाएगा, और मैं कुछ खास करने के लिए आप मेरे बारे में बताना है, तो मुझे अपने ईमेल के माध्यम से सीधे संपर्क करें पर पता (annanmelissa@hotmail.com) इतना है कि मैं भी आप के लिए मेरी तस्वीर भेज सकते हैं सीधे. का संबंध है मेलिसा Hallo!!! My name is Melissa I am tall ,good looking, perfect body figure and sexy. I saw your profile and was delighted to contact you, I hope you will be the true loving, honest and caring person that I have been looking 4, And I have something special to tell you about me, So please contact me directly through my email address at (annanmelissa@hotmail.com) so that I can also send my picture directly to you. regards Melissa

के द्वारा: melissa melissa

खाली!! मेरा नाम मेलिस्सा है मैं लंबा, अच्छी लग रही है, संपूर्ण शरीर आंकड़ा और सेक्सी हूँ. मैं अपने प्रोफ़ाइल देखा और आपसे संपर्क करने के लिए खुश था, मुझे आशा है कि आप सच्चे प्यार, ईमानदार और देखभाल व्यक्ति है कि मैं 4 देख रहा है हो जाएगा, और मैं कुछ खास करने के लिए आप मेरे बारे में बताना है, तो मुझे अपने ईमेल के माध्यम से सीधे संपर्क करें पर पता (annanmelissa@hotmail.com) इतना है कि मैं भी आप के लिए मेरी तस्वीर भेज सकते हैं सीधे. का संबंध है मेलिसा Hallo!!! My name is Melissa I am tall ,good looking, perfect body figure and sexy. I saw your profile and was delighted to contact you, I hope you will be the true loving, honest and caring person that I have been looking 4, And I have something special to tell you about me, So please contact me directly through my email address at (annanmelissa@hotmail.com) so that I can also send my picture directly to you. regards Melissa

के द्वारा: melissa melissa

खाली!! मेरा नाम मेलिस्सा है मैं लंबा, अच्छी लग रही है, संपूर्ण शरीर आंकड़ा और सेक्सी हूँ. मैं अपने प्रोफ़ाइल देखा और आपसे संपर्क करने के लिए खुश था, मुझे आशा है कि आप सच्चे प्यार, ईमानदार और देखभाल व्यक्ति है कि मैं 4 देख रहा है हो जाएगा, और मैं कुछ खास करने के लिए आप मेरे बारे में बताना है, तो मुझे अपने ईमेल के माध्यम से सीधे संपर्क करें पर पता (annanmelissa@hotmail.com) इतना है कि मैं भी आप के लिए मेरी तस्वीर भेज सकते हैं सीधे. का संबंध है मेलिसा Hallo!!! My name is Melissa I am tall ,good looking, perfect body figure and sexy. I saw your profile and was delighted to contact you, I hope you will be the true loving, honest and caring person that I have been looking 4, And I have something special to tell you about me, So please contact me directly through my email address at (annanmelissa@hotmail.com) so that I can also send my picture directly to you. regards Melissa

के द्वारा: melissa melissa

खाली!! मेरा नाम मेलिस्सा है मैं लंबा, अच्छी लग रही है, संपूर्ण शरीर आंकड़ा और सेक्सी हूँ. मैं अपने प्रोफ़ाइल देखा और आपसे संपर्क करने के लिए खुश था, मुझे आशा है कि आप सच्चे प्यार, ईमानदार और देखभाल व्यक्ति है कि मैं 4 देख रहा है हो जाएगा, और मैं कुछ खास करने के लिए आप मेरे बारे में बताना है, तो मुझे अपने ईमेल के माध्यम से सीधे संपर्क करें पर पता (annanmelissa@hotmail.com) इतना है कि मैं भी आप के लिए मेरी तस्वीर भेज सकते हैं सीधे. का संबंध है मेलिसा Hallo!!! My name is Melissa I am tall ,good looking, perfect body figure and sexy. I saw your profile and was delighted to contact you, I hope you will be the true loving, honest and caring person that I have been looking 4, And I have something special to tell you about me, So please contact me directly through my email address at (annanmelissa@hotmail.com) so that I can also send my picture directly to you. regards Melissa

के द्वारा: melissa melissa

खाली!! मेरा नाम मेलिस्सा है मैं लंबा, अच्छी लग रही है, संपूर्ण शरीर आंकड़ा और सेक्सी हूँ. मैं अपने प्रोफ़ाइल देखा और आपसे संपर्क करने के लिए खुश था, मुझे आशा है कि आप सच्चे प्यार, ईमानदार और देखभाल व्यक्ति है कि मैं 4 देख रहा है हो जाएगा, और मैं कुछ खास करने के लिए आप मेरे बारे में बताना है, तो मुझे अपने ईमेल के माध्यम से सीधे संपर्क करें पर पता (annanmelissa@hotmail.com) इतना है कि मैं भी आप के लिए मेरी तस्वीर भेज सकते हैं सीधे. का संबंध है मेलिसा Hallo!!! My name is Melissa I am tall ,good looking, perfect body figure and sexy. I saw your profile and was delighted to contact you, I hope you will be the true loving, honest and caring person that I have been looking 4, And I have something special to tell you about me, So please contact me directly through my email address at (annanmelissa@hotmail.com) so that I can also send my picture directly to you. regards Melissa

के द्वारा: melissa melissa

खाली!! मेरा नाम मेलिस्सा है मैं लंबा, अच्छी लग रही है, संपूर्ण शरीर आंकड़ा और सेक्सी हूँ. मैं अपने प्रोफ़ाइल देखा और आपसे संपर्क करने के लिए खुश था, मुझे आशा है कि आप सच्चे प्यार, ईमानदार और देखभाल व्यक्ति है कि मैं 4 देख रहा है हो जाएगा, और मैं कुछ खास करने के लिए आप मेरे बारे में बताना है, तो मुझे अपने ईमेल के माध्यम से सीधे संपर्क करें पर पता (annanmelissa@hotmail.com) इतना है कि मैं भी आप के लिए मेरी तस्वीर भेज सकते हैं सीधे. का संबंध है मेलिसा Hallo!!! My name is Melissa I am tall ,good looking, perfect body figure and sexy. I saw your profile and was delighted to contact you, I hope you will be the true loving, honest and caring person that I have been looking 4, And I have something special to tell you about me, So please contact me directly through my email address at (annanmelissa@hotmail.com) so that I can also send my picture directly to you. regards Melissa

के द्वारा: melissa melissa

खाली!! मेरा नाम मेलिस्सा है मैं लंबा, अच्छी लग रही है, संपूर्ण शरीर आंकड़ा और सेक्सी हूँ. मैं अपने प्रोफ़ाइल देखा और आपसे संपर्क करने के लिए खुश था, मुझे आशा है कि आप सच्चे प्यार, ईमानदार और देखभाल व्यक्ति है कि मैं 4 देख रहा है हो जाएगा, और मैं कुछ खास करने के लिए आप मेरे बारे में बताना है, तो मुझे अपने ईमेल के माध्यम से सीधे संपर्क करें पर पता (annanmelissa@hotmail.com) इतना है कि मैं भी आप के लिए मेरी तस्वीर भेज सकते हैं सीधे. का संबंध है मेलिसा Hallo!!! My name is Melissa I am tall ,good looking, perfect body figure and sexy. I saw your profile and was delighted to contact you, I hope you will be the true loving, honest and caring person that I have been looking 4, And I have something special to tell you about me, So please contact me directly through my email address at (annanmelissa@hotmail.com) so that I can also send my picture directly to you. regards Melissa

के द्वारा:

खाली!! मेरा नाम मेलिस्सा है मैं लंबा, अच्छी लग रही है, संपूर्ण शरीर आंकड़ा और सेक्सी हूँ. मैं अपने प्रोफ़ाइल देखा और आपसे संपर्क करने के लिए खुश था, मुझे आशा है कि आप सच्चे प्यार, ईमानदार और देखभाल व्यक्ति है कि मैं 4 देख रहा है हो जाएगा, और मैं कुछ खास करने के लिए आप मेरे बारे में बताना है, तो मुझे अपने ईमेल के माध्यम से सीधे संपर्क करें पर पता (annanmelissa@hotmail.com) इतना है कि मैं भी आप के लिए मेरी तस्वीर भेज सकते हैं सीधे. का संबंध है मेलिसा Hallo!!! My name is Melissa I am tall ,good looking, perfect body figure and sexy. I saw your profile and was delighted to contact you, I hope you will be the true loving, honest and caring person that I have been looking 4, And I have something special to tell you about me, So please contact me directly through my email address at (annanmelissa@hotmail.com) so that I can also send my picture directly to you. regards Melissa

के द्वारा:

खाली!! मेरा नाम मेलिस्सा है मैं लंबा, अच्छी लग रही है, संपूर्ण शरीर आंकड़ा और सेक्सी हूँ. मैं अपने प्रोफ़ाइल देखा और आपसे संपर्क करने के लिए खुश था, मुझे आशा है कि आप सच्चे प्यार, ईमानदार और देखभाल व्यक्ति है कि मैं 4 देख रहा है हो जाएगा, और मैं कुछ खास करने के लिए आप मेरे बारे में बताना है, तो मुझे अपने ईमेल के माध्यम से सीधे संपर्क करें पर पता (annanmelissa@hotmail.com) इतना है कि मैं भी आप के लिए मेरी तस्वीर भेज सकते हैं सीधे. का संबंध है मेलिसा Hallo!!! My name is Melissa I am tall ,good looking, perfect body figure and sexy. I saw your profile and was delighted to contact you, I hope you will be the true loving, honest and caring person that I have been looking 4, And I have something special to tell you about me, So please contact me directly through my email address at (annanmelissa@hotmail.com) so that I can also send my picture directly to you. regards Melissa

के द्वारा:

के द्वारा: vikasmehta vikasmehta

के द्वारा: vikasmehta vikasmehta

आदरणीय रघुवंशी जी सादर प्रणाम आपने अपने लेख में जो बातें कही हैं वो अक्षरशः सत्य हैं. परन्तु ये बात सिर्फ एक जगह की नहीं है. वसुधैव कुटुंबकम को अपना आदर्श मानने वाले हिन्दू आज हर जगह चाहे वो देश कोई भी हो, (भारत,पाकिस्तान,मलेशिया इत्यादि) प्रताड़ित हो रहे हैं. हमें सर्वप्रथम विचार करना होगा की आखिर इसका मूल कारण क्या है? आज 'हिन्दू' शब्द जैसे छूत की बीमारी हो गया है. जिसके सामने भी ये शब्द आता है वो ऐसे छिटकता है जैसे उसके सामने कोई एड्स ग्रस्त व्यक्ति आ गया हो. आज 'हिन्दू' शब्द पिछड़ेपन और साम्प्रदायिकता का पर्याय हो चुका है. हिन्दू धर्म पर 'जातिवाद' नामक हथौड़े से इतने प्रहार हो चुके हैं की इसके सभी अंग (विभिन्न जातियां) टुकड़े-टुकड़े हो कर बिखर चुके हैं. लोग जातियों के नाम पर तो अन्याय के खिलाफ आवाज उठाने के लिए संगठित हो जाते हैं परन्तु 'हिन्दू' के नाम पर कभी एक नहीं होते. कई तरह के कुतर्कों से हिन्दू धर्म की प्रामाणिकता पर ही प्रश्नचिन्ह लगाने की कुचेष्टा की जाती है. जब किसी देश में आतंकी हमला होता है तो भारत सरकार बड़ी तत्परता से उसके विरुद्ध निंदा सन्देश जारी करती है. क्या ऐसी हिन्दू प्रताड़ना की घटनाओं पर मानवता के नाते उसका फर्ज नहीं बनता की वो अपने स्तर से जो बन पड़े करे? क्या ऐसी घटनाओं को सिर्फ इसलिए उस देश विशेष का आतंरिक मामला बताया जाता है क्यों की वहां शोषण हिन्दुओं का होता है. ऑस्ट्रेलिया में पकडे गए दो युवकों के पक्ष में तो भारत सरकार ने बड़ी सक्रियता दिखाई थी. फिर हिन्दुओं के मामले में क्या हो जाता है? चलिए सरकार की बात छोडिये आज हम खुद कितने जागरूक हैं इस मामले में? भारत के संविधान में ये स्पष्ट प्रावधान है की कोई भी ऐसा कार्य नहीं होना चाहिए जिससे किसी धर्म विशेष की भावनाएं आहत हों. टेलीविजन पर हमेशा ऐसे विज्ञापन आते हैं जिनमें हिन्दू देवी-देवताओं पर फूहड़ तरीके से व्यंग-मजाक किया जाता है. ऐसी हास्य रचनाओं की आज बड़ी लोकप्रियता होती है जिसमें भगवान पर (हिन्दू धर्म के) जी भर के उटपटांग कमेंट्स होते हैं. ये रचनाएँ हर अख़बार, सोशल साइट्स (जिनमें जागरण जंक्शन भी शामिल है) , साप्ताहिक पत्रिकाओं में मिल जाएँगी. किसी अन्य धर्म के साथ ऐसा करना संभव है? करना चाहिए भी नहीं. हमारी संस्कृति कभी भी इसकी आज्ञा नहीं देती. मैं तो वही कह रहा हूँ जो हम और आप रोज देखते हैं. मेरा उद्देश्य किसी धर्म का अपमान करना नहीं है. मैं सिर्फ हिन्दुओं के लिए वही गरिमा वही सम्मान चाहता हूँ जो होनी चाहिए. http://kg70.jagranjunction.com

के द्वारा:

विज्ञान में भारत के पीछे रहने का सबसे बड़ा कारण है , "Platform" का नहीं मिलना | Platform से मेरा मतलब है की हमारे देश में प्रतिभा तो बहुत है लेकिन उस प्रतिभा को सबके सामने नहीं लाया जा सकता और उसका सही उपयोग ही नहीं किया जा सकता | ये सब कुछ सिर्फ कहने के लिए है की हम सभी जगह सभी को बराबर मोका देते है | इस बात का प्रमाण ये है की कुछ समय पहले हमने अख़बार में पड़ा था की एक व्यक्ति ने अपने घर पर ही सायकिल से चलने वाली मोटर बना ली क्यों की उस गांव में बिजली नहीं थी | यहाँ ये खबर इस तरह से थी की " आवश्यकता ही अविष्कार की जननी है " , किन्तु अगर हम इसी बात को दूसरी तरह सोचे तो हो सकता है की इस तरह का ख्याल किसी ऐसे व्यक्ति के मन में काफी साल पहले ही आ गया हो जिसके पास सायकिल ही नहीं थी और इसी वजह से वो न तो इस बात को कही prove कर सकता था और न ही इसे बना सकता था | मतलब साफ़ है इस तरह का अविष्कार काफी समय पहले ही हो गया होता अगर उस व्यक्ति के पास suitable offer होता | ये तो सिर्फ एक उदाहरण था ऐसे कितने ही case अभी भी है | मेरा इन सबसे कहने का मतलब सिर्फ इतना है की भारत में talent की कोई कमी नहीं है, यहाँ तक की भारत में ऐसे भी लोग है जो भारत को कुछ ही समय में world में हर क्षेत्र में top position पर पंहुचा सकते हैं बस जरुरत है तो उन्हें खुले में मौका देने की | मै खुद भी ऐसे ही किसी मौके की तलाश कर रहा हू जो मुझे किसी भी क्षेत्र मै मिल जाये तो वहां से INDIA को top position पर ले जाने की जिम्मेदारी मेरी होगी | और रही बात विज्ञान की तो हर महीने एक नया invention होगा | धन्यवाद ! आपने मुझे लिखने का मौका दिया |

के द्वारा:

कांग्रेस की उत्तरप्रदेश की हार और सपा की जीत की एक ही सच्चाई है वोह है बेरोजगारी भत्ता और लैपटॉप का वादा | और दुसरे यह के लोगों को बहुजन समाज पार्टी का विकल्प चाहिए था| उतार प्रदेश में सिर्फ तीन चरण की मतदान के बाद ही से बेरोजगारी भत्ता के लिए कुछ सेवायोजन कार्यालय में पंजीयन हेतु एक अफवाह की तौर पर लाइन लगनी शुरू हो गयी जिसकी हवा अन्य जग्रहों पर फ़ैल गयी लोगों को यह लगा की सपा की सीट हो चुके चरणों के चुनाव में निकल रही है बस इसका लाभ पश्चिमी उत्तर प्रदेश में भी मिला| लोगो ने भी अपने वोट ख़राब न करते हुए जितने वाली पार्टी को वोट किया| अगर जनता ने सपा को पांच वर्षों का समय दिया है तो यह लोकतंत्र के लिए बहुत अच्छा है इसी तरह का जनमत आना ही चाहिए और सपा को लोकतंत्र और कार्यपालिका की मर्यादा का ख़याल रखते हुए पिछले लोकतंत्र के कार्यों को पीछे छोड़ते हुए कुछ मिशाल बन सके नहीं तो जनता दुसरे नेशनल पार्टियों को ही तवज्जह देगी | सरफराज आलम सोनभद्र उत्तरप्रदेश

के द्वारा:

के द्वारा: test4hemen test4hemen

इस देश में कांग्रेस हीं एक ऐसी पार्टी है जिस पार्टी ने सबसे ज्यादा सत्ता का लाभ उठाया है क्यूंकि ज्यादा सालों तक इसी पार्टी का राज रहा है, इस देश में और निस्संदेह कांग्रेस ने सार्वजानिक पैसों से अपनी पार्टी का प्रचार प्रसार किया है इनके लिए देश हित से ज्यादा पार्टी हित ही ज्यादा जरुरी लगता है चुनाव आयोग जितना ही आचार संहिता की दुहाई दे कांग्रेस सबसे पहली पार्टी इस देश की है जो चुनाव आयोग की बिलकुल परवाह नहीं करती यह इस पार्टी का चरित्र है मेरे विचार से सभी योजनाओं सड़कों भवनों के उद्घाटन या जनता को समर्पण के समय उस कार्य को पूरा करनेवाले इंजिनीअर और ठेकेदारों का नाम होना चाहिए जिससे उनके कार्य की गुणवत्ता सार्वजानिक हो और आगे वे काम देने के लायक हैं या नहीं यह सरकार को मालूम चले यही एक निस्पक्छ तरीका है भविष्य में इसका अनुपालन करने का सरकार आश्वासन दे किसी को कोई विवाद करने का अवसर नहीं मिलेगा और साथ हीं इस देश का ढेर सारा पैसा ऐसे वाहियात कार्यों पर जो खर्च होतारहा है वह रूक सकेगा और वह पैसा किसी लाभकारी योजना को पूरा करने के काम आएगा मायावती द्वारा मूर्तियाँ बनवाना इसी तरह की एक झूठी स्पर्धा ही है उन्हें भी लगा जब गाँधी नेहरु परिवार की मूर्तियाँ चौराहों पर लगी है तो क्यूँ नहीं माननीय कांशी राम और बहन मायावती की मूर्तियाँ लगायी जाएँ इससे अपने देश का धन बर्बाद होता है और एक गलत परंपरा को चलते रहने का बहाना मिलता है जो की एक जनविरोधी निति है इससे किसी का कोई लाभ नहीं होनेवाला हाँ धन की बर्बादी जरुर होगी

के द्वारा: ashokkumardubey ashokkumardubey

अन्ना साहब घिर गए है. कुछ चतुर सियाने लोगों को अपना उलू साधने एक सीधा सरल इकॉन चाहिए था अन्ना साहब ने अपने सच्चे आंदोलनों से आज के युग में गांधीजी की याद दिला ही दी थी. बस इन लोगों ने अन्ना साहब को शीशे में उतार लिया. आयकर विभाग से भागे हुए तथा जन हित याचिकाओं के धुरंधर seetingbaaz लोगों ने अपने हितों के लिए एक सीधे सादे असली गाँधी-2 का नजयाज फायदा उठाने का कार्य किया था. शायद जनता इसे जल्दी ही भांप ली और इनकी काठ की हांड़ी दोबारा चूल्हे पर चढ़ने से रही. केजरिवालजी और भूषण जी को सीता मैया की तरह अग्नि परीक्षा देनी ही चाहिए या फिर होलिका की तरह... इतना हंगामा मचा. अब तो दुसरे जज साहब ने भी अपना दुखड़ा रो दिया फिट भी भूषण साहब चुप है.

के द्वारा: merehisaabse merehisaabse

चिदंबरम साहब की सबसे बड़ी कमी है : १. वे दुसरे आदमी को आदमी ही नहीं समझते है , बल्कि गधा समझते है. २. सीधे सीधे चोरी का माल अपना बता कर होशिअरी दिखाते है. कुछ पुराना माल निकला कुछ विदेशों से आयातित किया और नया आईडिया पेश कर दिया. फिर भी NCTC के विरोध का कोई औचित्य नहीं है. आज हमारे देश में जो आतंकवादी घटनाये हो रही है उसका एक कारन हमारी विवश कानून व्यव्यस्था ही है ऊपर से हर दल की अपनी अपनी मजबूरी किस आचरण को समर्थन दे किसे नहीं . देश और जनता के बारे तो सोचना ही दूभर. तो ऐसा कोई भी उपाय आये जिससे ऐसे अपराध एक ही जगह एक ही कण्ट्रोल से जांच के दायरे में आये उसका स्वागत होना ही चाहिए. कोई दल आज सत्ता में तो कल कोई दूसरा होगा. परन्तु अगर अपराधी यूँ ही मस्त घुमाते रहे तो न देश बचेगा न नेता. जनता का क्या वह या तो आजाद रहेगी नहीं तो ग़ुलाम रहेगी.

के द्वारा: merehisaabse merehisaabse

एन के सिंह आपने बड़ा ही सही चित्रण किया है भारतीय मिडिया के काम करने के तरीके के बारे में आज इलोक्ट्रोनिक मिडिया के युग में किसी भी महत्वपूर्ण जानकारी को जन जन तक पहुचाने के लिए इससे बेहतरीन और कारगर उपाय और कोई दूसरा नहीं कहा जा सकता पर मेरे विचार से केमिकल खाद के बजाय जैविक खाद के प्रयोग को बढ़ावा दिया जाये और उसे राष्ट्रिय चैनल एवं छेत्रिय चैनलों द्वारा ब्यापक प्राथमिकता दी जाये तो खेती में काम करनेवाले किसानो का ज्यादा भला होगा और केमिकल खाद पर निर्भरता भी कम होगा जिसे आयात भी करना पड़ता है और हमारी खेती लायक जमीने भी दिनोदिन बंजर होती जा रही हैं मतलब सबसे महत्वपूर्ण तो इलोक्ट्रोनिक मिडिया का गाँव गाँव तक पहुचना और सार्थक एवं लाभकारी कार्यकर्मो का प्रसारण ही मूल रूप से उपाय है बिग्यापनो का सहारा लेकर हम जन जागरण का काम नहीं कर सकते क्यूंकि मुक्त ब्योपार एवं खुले बाजार में जो बिकता है वही दिखाया जाता है इसमें सरकारी चैनल एवं कार्यकर्म ही कुछ कर सकते है . अगर राष्ट्रिय प्रसारणों में इसका समावेश किया जाये तो

के द्वारा:

के द्वारा:

कुलदीप नयएर ने मीडिया की स्वतंत्रता की हिमातात की है , मीडिया स्वायत्त हो, पर अपने दायित्व की अनदेखी न करे. अपुस्ट सूचनाओ के आधार पर मीडिया किसी को भी दोषी मानकर उसके विरुद्ध निंदा ABHIYAN आरंभ कर देता है और बाद में यदि अपने को गलत पाता है तो छोटा सा माफीनामा छाप देता है. रास्ट्रवादी संगठनो के विरुद्ध ऐसे अभियानों में आई . अस . आइ. के AGENT गुलाम नबी फाई के मेहमान रहे कुलदीप नैयेर स्वयं शामिल रहते है. मीडिया की स्वतंत्रता की आड़ में आतंकियो का महिमामंडन SAHAN नहीं किया जा सकता. कारगिल युद्ध में एलेक्टोनिक मीडिया के कुछ लोगो की वजह से हमने अपने ३ बहादुर सैनिको को KHOYA था , हमे यह नहीं भूलना चाहिए. स्वतंत्रता दायित्व बोध के साथ ही होनी चाहिए.. .

के द्वारा:

महोदय, बड़े दुःख की बात है कि बालकों का निःशुल्क और अनिवार्य शिक्षा का अधिकार अधिनियम 2009 दिनांक 1-4-2010 से पूरे देश में लागू है किन्तु उत्तर प्रदेश में कम्प्यूटर शिक्षा हेतु यह आज तक नहीं लागू है जबकि कम्प्यूटर विषय कक्षा 6 से 8 तक के विद्यार्थियों के लिए अनिवार्य है।उत्तर प्रदेश ही नहीं बल्कि पूरे देश में कम्प्यूटर शिक्षा पूरी तरह अरबों, खरबोें रूपये के भ्रष्टाचार, अराजकता, कम्प्यूटर शिक्षकों के शोषण तथा सरकारी लूट को समर्पित है। बालकों का निःशुल्क और अनिवार्य शिक्षा का अधिकार अधिनियम 2009 की धारा 38 के अनुसार उत्तर प्रदेश निःशुल्क और अनिवार्य शिक्षा का अधिकार नियमावली 2011 बनायी गयी जिसकी धारा 18 ;1द्ध के ;खद्ध में यह स्पष्ट उल्लेख है कि विद्यालय किसी व्यक्ति अथवा व्यक्तियों के समूह या संगठन के लाभ या किन्हीं अन्य व्यक्तियों के लाभ हेतु संचालित नहीं है। फिर भी कम्पनियों को लाभ पहुॅंचाने के उद्देश्य से सरकारों द्वारा कम्पनियों को कक्षा 6,7 व 8 की कम्प्यूटर शिक्षा ठेके पर दे दी गयी। अनुबन्ध के अनुरूप This Agreement shall be governed by the law of India बालकों का निःशुल्क और अनिवार्य शिक्षा का अधिकार अधिनियम 2009 लागू होते ही स्वतः ही शून्य होकर समाप्त हो जाता है। उत्तर प्रदेश निःशुल्क और अनिवार्य शिक्षा का अधिकार नियमावली 2011 धारा 23;3द्ध के बिन्दु 18 जो शिक्षक जिस विद्यालय में शिक्षण कार्य कर रहा है उस शिक्षक पर वही वेतन, भत्ते एवं सेवा शर्ते लागू होंगी और ऐसी सेवा नियमावली से शासित होंगी जैसा कि उस विद्यालय के अन्य शिक्षकों पर लागू होती है। बड़े दुःख की बात है कि उत्तर प्रदेश में कानून एवं लोकतंत्र का राज खत्म करके कम्पनियों को लाभ पहुॅंचाने के उद्देश्य से प्रदेश में बालकों का निःशुल्क और अनिवार्य शिक्षा का अधिकार अधिनियम 2009 की धाराओं का पालन नहीं किया जा रहा है तथा छात्रों और कम्प्यूटर अध्यापकों का शोषण करके सरकार के पैसे की लूट की जा रही है। आज सभी राजनैतिक पार्टियॉ छात्रों को टेबलेट, लैपटॉप, रोजगार व शिक्षा देने की बात कर रहीं है।यहॉं यह भी विचारणीय है कि छात्रों को टेबलेट, लैपटॉप के बारे में शिक्षा कौन देगा जब कि निरन्तर कम्प्यूटर शिक्षक बेरोजगार होता जा रहा है? युवकों की बेरोजगारी कैसे दूर होगी? अब प्रश्न यह उठता है कि सरकार बनाने वाली पार्टियॉं इस मुद्दे को कितनी गम्भीरता से लेती हैं? प्रश्न यह भी उठता है कि लोकतंत्र के चौथे स्तम्भ के रूप मंे प्रेस और मीडिया इस मुद्दे को कितनी गम्भीरता से लेते है? क्यों कि कम्प्यूटर शिक्षकों ने पत्र और साक्ष्यों के माध्यम से इस तरफ प्रमुख राजनैतिक पार्टियों, प्रेस एवं मीडिया का ध्यान आकर्षित करने का प्रयास किया है। हम आशा करते है कि इस मुद्दे पर आप अपनी राय देंगे।

के द्वारा:

महोदय, बड़े दुःख की बात है कि बालकों का निःशुल्क और अनिवार्य शिक्षा का अधिकार अधिनियम 2009 दिनांक 1-4-2010 से पूरे देश में लागू है किन्तु उत्तर प्रदेश में कम्प्यूटर शिक्षा हेतु यह आज तक नहीं लागू है जबकि कम्प्यूटर विषय कक्षा 6 से 8 तक के विद्यार्थियों के लिए अनिवार्य है।उत्तर प्रदेश ही नहीं बल्कि पूरे देश में कम्प्यूटर शिक्षा पूरी तरह अरबों, खरबोें रूपये के भ्रष्टाचार, अराजकता, कम्प्यूटर शिक्षकों के शोषण तथा सरकारी लूट को समर्पित है। बालकों का निःशुल्क और अनिवार्य शिक्षा का अधिकार अधिनियम 2009 की धारा 38 के अनुसार उत्तर प्रदेश निःशुल्क और अनिवार्य शिक्षा का अधिकार नियमावली 2011 बनायी गयी जिसकी धारा 18 ;1द्ध के ;खद्ध में यह स्पष्ट उल्लेख है कि विद्यालय किसी व्यक्ति अथवा व्यक्तियों के समूह या संगठन के लाभ या किन्हीं अन्य व्यक्तियों के लाभ हेतु संचालित नहीं है। फिर भी कम्पनियों को लाभ पहुॅंचाने के उद्देश्य से सरकारों द्वारा कम्पनियों को कक्षा 6,7 व 8 की कम्प्यूटर शिक्षा ठेके पर दे दी गयी। अनुबन्ध के अनुरूप This Agreement shall be governed by the law of India बालकों का निःशुल्क और अनिवार्य शिक्षा का अधिकार अधिनियम 2009 लागू होते ही स्वतः ही शून्य होकर समाप्त हो जाता है। उत्तर प्रदेश निःशुल्क और अनिवार्य शिक्षा का अधिकार नियमावली 2011 धारा 23;3द्ध के बिन्दु 18 जो शिक्षक जिस विद्यालय में शिक्षण कार्य कर रहा है उस शिक्षक पर वही वेतन, भत्ते एवं सेवा शर्ते लागू होंगी और ऐसी सेवा नियमावली से शासित होंगी जैसा कि उस विद्यालय के अन्य शिक्षकों पर लागू होती है। बड़े दुःख की बात है कि उत्तर प्रदेश में कानून एवं लोकतंत्र का राज खत्म करके कम्पनियों को लाभ पहुॅंचाने के उद्देश्य से प्रदेश में बालकों का निःशुल्क और अनिवार्य शिक्षा का अधिकार अधिनियम 2009 की धाराओं का पालन नहीं किया जा रहा है तथा छात्रों और कम्प्यूटर अध्यापकों का शोषण करके सरकार के पैसे की लूट की जा रही है। आज सभी राजनैतिक पार्टियॉ छात्रों को टेबलेट, लैपटॉप, रोजगार व शिक्षा देने की बात कर रहीं है।यहॉं यह भी विचारणीय है कि छात्रों को टेबलेट, लैपटॉप के बारे में शिक्षा कौन देगा जब कि निरन्तर कम्प्यूटर शिक्षक बेरोजगार होता जा रहा है? युवकों की बेरोजगारी कैसे दूर होगी? अब प्रश्न यह उठता है कि सरकार बनाने वाली पार्टियॉं इस मुद्दे को कितनी गम्भीरता से लेती हैं? प्रश्न यह भी उठता है कि लोकतंत्र के चौथे स्तम्भ के रूप मंे प्रेस और मीडिया इस मुद्दे को कितनी गम्भीरता से लेते है? क्यों कि कम्प्यूटर शिक्षकों ने पत्र और साक्ष्यों के माध्यम से इस तरफ प्रमुख राजनैतिक पार्टियों, प्रेस एवं मीडिया का ध्यान आकर्षित करने का प्रयास किया है। हम आशा करते है कि इस मुद्दे पर आप अपनी राय देंगे।

के द्वारा:

चुनौती ईसाइयत नहीं और न ही कोई विशेष धर्म है. यदि हमारे सामने कोई चुनैती है तो वो है हमारे अन्दर पनपने वाले इर्ष्या, लोभ, असंतोष और स्वार्थ जैसे भावनाए जो धर्म और परम्परा के आड़ में पनपती है. हमारा हिन्दू धर्म वसुधैव कुटुम्बकम की बात करता है वही दूसरी तरफ हम खुद के साथ-साथ अपने घरों, समाज और देश को विचारों, अपना-पराया, जाति और सीमाओं में बांध दिए है. इस समस्या से हम आज ही से नहीं अपितु आदि कल से जूझ रहें है परिणामस्वरुप अनेक धर्मों के साथ-साथ विचारों और मतों का उदभव हुआ. कारण स्पष्ट है कि हमें हर बार ही हमारी मनोवृतियों को धर्म और समुदाय का बल मिलाता गया और हम हर बार ही अपनी वाली करते गए. अतः किसी धर्म विशेष पर टिपण्णी करने से पहले यदि हम अपने कमियों पे नज़र डालें तो बेहतर होगा. वैसे आप आकड़ों का अच्छा इस्तेमाल कर लेते है पर यदि इन आकड़ों के पीछे छुपे तथ्यों पर हम गौर करते तो हमारे भारतीय समाज में आज असमानता के साथ-साथ धर्म परिवर्तन जैसी समस्याएं नहीं रहती...

के द्वारा: अलीन अलीन

जब तक चोर, लुटेरे, अनपढ़, गंवार, गुंडे, डकैत इस देश का बागडोर अपने हाथों में ले रक्खा है कुछ नहीं हो सकता है | आरक्षण ने देश का सत्यानाश कर दिया है गधों घोड़ों को सरकारी संस्थानों, जहाँ पर R&D हो सकता है नौकरी मिल जाती है और मेधावी लोग पीछे रह जाते है | हिन्दुस्तान में Private Organizations तो जल्दी से जल्दी पैसा कमाने के फिराक में लगा होता है विदेशों जैसा नहीं जहां R&D पर और Technology Up-gradation के लिए दिल खोलकर पैसा खर्च किया जाता है | SONY, Panasonic, Samsung, LG आदि अपने मुनाफे का १० से १२% R&D और Technology Up-gradation पर खर्चा करता है | हिन्दुस्तान में कंपनियां मुस्किल से २% भी खर्च नहीं करती | सरकारी संस्थानों में कोई काम नहीं होता है, पैसे का भरपूर दुरपयोग होता है, HAL को देखिए २५ सालों से LCA बना रहा है लेकिन आभी तक जीरो बटा सन्नाटा, कारण हरामखोरी, चोरी और आरक्षण के तहत भारती हुए गधे जैसे इन्जिनीराओं की भरमार | इस दशा में इस देश की ऐसी ही दुर्दशा होगी | विद्वानों, ईमानदार, देश भक्तों की सरकार हो आरक्षण समाप्त हो तभी कुछ हो सकता है अन्यथा यह देश या तो फिर गुलाम होगा या महा पिछड़ों में शामिल हो जाएगा | वन्दे मातरम

के द्वारा:

के द्वारा:

यहाँ की घटिया शिक्षा व्यवस्था इसके लिए जिम्मेदार है.... और आदमी की अपने passion के पीछे जाने के बजाय पैसे की पीछे भागने प्रव्रत्ति इसके लिए जिम्मेदार है.... आज भी हम technical production में लगभग zero हैं... बचपन जिस तरह की शिक्षा दी जाएगी ....उसी तरह का उत्पाद भी हमें मिलेगा... आज भी अच्छी quality के इंजिनियर रिसर्च या production के बजाय managemnet में जाना चाहते हैं जहाँ उन्हें अच्छा salary package मिलता है... सरकार को भी इंजिनियर की महत्ता को समझना चाहिए.... रिसर्च और production को बढ़ावा देना चाहिए... इस क्षेत्र में आरक्षण को पूरी तरह से समाप्त कर के केवल योग्य लोगों को आकर्षित करना चाहिए..... आज भी हम तकनिकी क्षेत्र में यूरोप या अमेरिका या फिर कोरियन, जापानी कंपनी को अनुसरण करते है... दुर्भाग्य है ..देश का.......... अभी जिस तरह से शिक्षा यहाँ के छात्र -छात्रा पा रहे है उससे स्थिति कोई सुधरने वाली नहीं है.... PhD या उच्च शिक्षा में आरक्षण को पूरी तरह से समाप्त करना चाहिए...ये जब तक नहीं होगा तब तक स्थिति सुधरने वाली नहीं है... पैसा खर्चा करके कुछ नहीं होगा जब तक योग्य व्यक्ति उधर आकर्षित नहीं होंगे.... सरकार की vote बाजी नीति quality के बजाय quantity को तरजीह देती है.. इसलिए देश हर मामले में पीछे है.. चाहे वो तकनिकी/ विज्ञानं हो खेल .....

के द्वारा:

यहाँ की घटिया शिक्षा व्यवस्था इसके लिए जिम्मेदार है.... और आदमी की अपने passion के पीछे जाने के बजाय पैसे की पीछे भागने प्रव्रत्ति इसके लिए जिम्मेदार है.... आज भी हम technical production में लगभग zero हैं... बचपन जिस तरह की शिक्षा दी जाएगी ....उसी तरह का उत्पाद भी हमें मिलेगा... आज भी अच्छी quality के इंजिनियर रिसर्च या production के बजाय managemnet में जाना चाहते हैं जहाँ उन्हें अच्छा salary package मिलता है... सरकार को भी इंजिनियर की महत्ता को समझना चाहिए.... रिसर्च और production लो बढ़ावा देना चाहिए... इस क्षेत्र में आरक्षण को पूरी तरह से समाप्त कर के केवल योग्य लोगों को आकर्षित करना चाहिए..... आजी भी हम तकनिकी क्षेत्र में यूरोप या अमेरिका या फिर कोरियन, जापानी कंपनी को अनुसरण करते है... दुर्भाग्य है ..देश का..........

के द्वारा:

भाई सिद्धार्थ जी नमस्कार उत्तर प्रदेश की ४० प्रतिशत जनता गाँव में निवास करती है और उन्हें जाती से निकालना काफी मुस्किल है | क्यों की कुछ लोग ऐसे हैं जिन्हें जातिगत राजनीती करने के अलावा कुछ और नहीं आता है और वोह उसी पर यकीन रखता है विकास की बात कोई नहीं करता है| आजादी से पहले अंग्रेजो की गुलामी थी और अब जातिगत समीकरण में उलझ कर पूंजीपतियों के गुलाम बने हैं| चुनाव आते ही सभी रास्ट्रीय पार्टी के दिग्गज नेता भी बेशर्मी से विकास की बात न कर जातिगत समीकरण की बात करते नज़र आये | तो कई पार्टियों को मुस्लिमों को रिझाते हुए देखा गया | लेकिन सवाल यह है की बसपा में बीतें सत्र में इतने मुस्लिम विधायक चुनाव जीत कर विधान में गए और फिर भी मुस्लिमों की विकास की बात नहीं कर पाए यही हाल सपा का भी था ऐसे में कैसे कहा जाए की बसपा और सपा मुस्लिमों की हिमायती पार्टी है | इस लिए धर्मं को छोड़ कर विकास की बात करें | क्यों की सदन में पहुँचने पर सभी की बोलती बंद रहती है इसलिए हर ५ साल पर पार्टियों को बदल कर चुना जाना चाहिए | करप्ट तो अधिकांश है पर सभी ने ५-५ साल सत्ता का सुख भोगा अब एक बार ५ साल के लिए कांग्रेस को परखना चाहिए और उसे भी ५ साला इम्तेहान में पास होने का एक मौका देना चाहिए | सरफराज आलम सोनभद्र उत्तर प्रदेश

के द्वारा:

जय हो राष्ट्रीय शर्म की मनमोहन की मोहनी बातों का कोई जवाब नहीं. जनाब..कुपोषण को उन्होंने राष्ट्रीय शर्म ही करार दिया..भइया अब आप घबड़ाइगा नहीं, जब देश के मुखिया मनमोहन जी भ्रष्ट्राचार को राष्ट्रीय शर्म करार दें या काला धन को भी राष्ट्रीय शर्म के दायरे में ला दें। हम तो कहते हैं कि भइया देश की जितनी भी समस्याए हैं, उन्हें धीरे-धीरे करके राष्ट्रीय शर्म करार दिया जाना चाहिए। देश की आबादी बढ़ी है। इसे तो बहुत पहले ही राष्ट्रीय शर्म घोषित कर दिया जाना चाहिए था। भूख से मरने को भी राष्ट्रीय शर्म घोषित कर दिया जाता तो मुझे लगता है कि गरीबों से निजात मिल जाता। भ्रष्टाचार को राष्ट्रीय शर्म घोषित कर अन्ना टीम को आसानी से पटखनी दे सकते हैं। कालाधन को राष्ट्रीय शर्म घोषित कर स्वामी रामदेव को पटखनी देने में सफल हो सकते हैं। एक बार मुझसे किसी ने कहा कि देश के नेताओं को(प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को नहीं ) शर्म नहीं आती। हमने कहा कि भला उन्हें शर्म क्यों आयेगी.. शर्म की बात भी होगी तो उसमें वे आप से कहेंगे शर्म कर लीजिए। वाह जनाब..हमें आपकों देश के नेता का सम्मान तो करना चाहिए न.. नेता भी क्यों न कहें..आपका नेता है तो शर्म कौन करेगा…लडि़ये नहीं… आप कहेंगे कि नेता क्यों नहीं शर्म करता…भाई साहब.शर्म तो वह करेगा, जिसे शर्म आयेगी..जहां से बेशर्म भी शरमा कर चली जाय..वहां पर शर्म आखिर क्या करेगा…राष्ट्र को महज देश में देखना हमें लगता है कि राष्ट्र के साथ धोखा है..हमारी सभ्यता, संस्कृति, संस्कार आदि पूरे विश्व में जहां कहीं भी है।वहां- वहां राष्ट्र है। राष्ट्रीय शर्म कहके हमें भी अपने दायित्व से मुक्ति ले लेनी चाहिए। मनमोहन जी की बातों का सम्मान रखना है तो जय हो राष्ट्रीय शर्म की…

के द्वारा: pramod chaubey pramod chaubey

जय हो राष्ट्रीय शर्म कीमनमोहन की मोहनी बातों का कोई जवाब नहीं. जनाब..कुपोषण को उन्होंने राष्ट्रीय शर्म ही करार दिया..भइया अब आप घबड़ाइगा नहीं, जब देश के मुखिया मनमोहन जी भ्रष्ट्राचार को राष्ट्रीय शर्म करार दें या काला धन को भी राष्ट्रीय शर्म के दायरे में ला दें। हम तो कहते हैं कि भइया देश की जितनी भी समस्याए हैं, उन्हें धीरे-धीरे करके राष्ट्रीय शर्म करार दिया जाना चाहिए। देश की आबादी बढ़ी है। इसे तो बहुत पहले ही राष्ट्रीय शर्म घोषित कर दिया जाना चाहिए था। भूख से मरने को भी राष्ट्रीय शर्म घोषित कर दिया जाता तो मुझे लगता है कि गरीबों से निजात मिल जाता। भ्रष्टाचार को राष्ट्रीय शर्म घोषित कर अन्ना टीम को आसानी से पटखनी दे सकते हैं। कालाधन को राष्ट्रीय शर्म घोषित कर स्वामी रामदेव को पटखनी देने में सफल हो सकते हैं। एक बार मुझसे किसी ने कहा कि देश के नेताओं को(प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को नहीं) शर्म नहीं आती। हमने कहा कि भला उन्हें शर्म क्यों आयेगी..शर्म की बात भी होगी तो उसमें वे आप से कहेंगे शर्म कर लीजिए। वाह जनाब..हमें आपकों देश के नेता का सम्मान तो करना चाहिए न..नेता भी क्यों न कहें..आपका नेता है तो शर्म कौन करेगा...लडि़ये नहीं...आप कहेंगे कि नेता क्यों नहीं शर्म करता...भाई साहब.शर्म तो वह करेगा,जिसे शर्म आयेगी..जहां से बेशर्म भी शरमा कर चली जाय..वहां पर शर्म आखिर क्या करेगा...राष्ट्र को महज देश में देखना हमें लगता है कि राष्ट्र के साथ धोखा है..हमारी सभ्यता, संस्कृति, संस्कार आदि पूरे विश्व में जहां कहीं भी है।वहां- वहां राष्ट्र है। राष्ट्रीय शर्म कहके हमें भी अपने दायित्व से मुक्ति ले लेनी चाहिए। मनमोहन जी की बातों का सम्मान रखना है तो जय हो राष्ट्रीय शर्म की...   

के द्वारा: pramod chaubey pramod chaubey

के द्वारा: anuragshukla anuragshukla

क्या गज़ब की प्रतिक्रया है,साधुवाद उन महाशय को ।पता नहीं ईमानदारी का अर्थ लोग घूस न लेना ही क्यों लेते है ?क्या ईमानदारी के अन्तर्गत सही दायित्वबोध नहीं आता है। ऐसी कौन सी मजबूरी है जिसके कारण माननीय मनमोहन सिंह कुर्सी छोड़ नहीं पा रहे है ,किसके लिए वे कुर्सी पर चिपके हुए है- सेवा-भाव या। फिर कांग्रेस और सोनिया के लिए ।जिस किसी के लिए भी चिपके हुए हो-इतिहास शायद उन्हे न केवल बेहद कमज़ोर प्रधानमंत्री के रूप में ,बल्कि बेहद निकम्मा,नालायक और िकंकर्तव्यविमूढ़-जैसा प्रधानमंत्री केरूप में याद करेगा ।प्रधानमंत्री बनकर मनमोहन सिहं नेअपनी बनी बनायी शाख को गर्त में मिला दिया ।विश्लेषक ।

के द्वारा: vishleshak vishleshak

सरकार हमेशा यही दिखने की कोशिश करती है की उसका हर काम पारदर्शी है .......पर सच कुछ और ही है आइये आपको सफ़ेद पोश अपराध का एक उदहारण दिखाते है .......देश के पांच राज्यों में चुनाव होने जा रहे है .ज्यादातर उमीदवार पार्टियो से ही लड़ते है और पार्टी को ज्यादातर भारतीय वर्षो से जानते है .........पर देश में कोई भी चुनाव लड़ सकता है ..लोकतंत्र में इसकी छूट है ...........सबसे पहले देखिये जमानत की फीस .....१०००० दस हज़ार रुपये यानि मोंटेक सिंह अहलुवालिया के अनुसार शहरी व्यक्ति को रोज ३२ रुपये और देहाती व्यक्ति को २८ रुपये चाहिए ....मतलब साफ़ है कि शहरी व्यक्ति के पास ३२*३६५=११६८० रुपये वार्षिक होते है और ग्रामीण क्षेत्र के व्यक्ति के पास २८*३६५=१०२२० वार्षिक यानि देहस में शहर और ग्रामीण क्षेत्र में रहने वाला चुनाव लड़ ही नही सकता क्यों कि १०००० कि रकम वो कहा से लायेगा ....तो फिर कौन लोग इस प्रजातांत्रिक देश में चुनाव लड़ सकते है .जिनके पास पैसा हो .ऐसे में भ्रष्टाचार बढ़ना स्वाभाविक है क्योकि चुनाव लड़ने के लिए १०००० रुपये जमानत और पुरे चुनाव का खर्चा १६ लाख रुपये अधिकारिक रूप से खर्च करने के लिए एक आम आदमी कहा से पैसे लायेगा ?????????या तो सिर्फ अमीर आदमी चुनाव लड़े या फिर वो किसी पार्टी के आगे भिखारी कि तरह खड़ा रहे और अपनी पार्टी के हर जायज़ और नाजायज़ कामो में सहयोग करे क्योकि इतना पैसा पार्टी ही दे सकती है .या फिर एक आम आदमी घूसखोर, लुटेरा , अन्तंक्वादी गतविधियो में सम्मिलित होकर इतना पैसा बटोरे ............क्या एक आम आदमी १६ लाख रुपये चुनाव में लगा सकता है ......पार्टी पैसा कहा से लती है , कहने कि जरूरत नही है .जिस देश में लोग बिना खाने के मर जाते है ..बिना इलाज के दम तोड़ देते है ...पैसे के कारण पढाई नही कर पाते है ..लडकियो को गलत काम के लिए उकसाया जाता है ..उसी देश में धनपति पार्टियो को अनुदान और सहायता राशि देते है ताकि वो चुनाव में लड़ सके और पार्टी अपना काम कर सके ...क्या इस तरह के अनुदान पर आपको विश्वास आ सकता है ????????क्या वास्तव में धनकुबेर सिर्फ इस लिए पैसा दे रहे है ताकि पार्टी खड़ी रहे या फिर उनके गलत उद्देश्य कहा से पूरे हो सकते है , ये धन कुबेरों को पता है ,इसी लिए बिना सोचे समझे वो अंधे कि तरह पार्टियो को सहायता पहुचाते है ....जबकि एक नवजात बच्चा बिना ढूध के इस देश में मर जाता है ..........इतनी कडवी सच्चाई के बाद भी ना तो देश में ईमानदार लोगो की कमी है और ना ही भर्ष्टाचार के खिलाफ लड़ने वालो की कमी है ....और लोगो को लगता है अभी भी भर्ष्टाचार के दर्द से सभी उबरना चाहते है ..यही कारण है कि ना जाने कितने भारतीय किसी भी पार्टी से ना जुड़ने के बाद भी निर्दलिये उम्मीदवार के रूप में चुनाव लड़ने का साहस जुटा रहे है ...अब फिर देखिये सफ़ेद पोश अपराध का करिश्मा , पार्टियो के पास चुनाव चिन्ह बराबर रहता है और देश कि जनता उनके चुनाव चिन्ह से परचित रहते है ....लोग व्यक्ति से ज्यादा चुनाव चिन्ह से परिचित रहते है और यही कारण है कि पार्टी का दबदबा चुनाव में बना रहता है लेकिन जो निर्दलिये लड़ते है उनके पास ना तो पार्टी होती है और ना ही चुनाव चिन्ह ....एक उदहारण से आप शायद समझ पाएंगे, उत्तर प्रदेश के लखनऊ १७५ कैंट क्षेत्र में चुनाव १९ फ़रवरी को है , नामांकन की अंतिम तिथि १ फ़रवरी है ....नामाकन वापस लेने की तिथि ४ फ़रवरी है .इसके बाद कम से कम २-३ दिन लग जायेंगे चुनाव चिन्ह निर्धारित होने में यानि तारीख हो जाएगी ८ या ९ फ़रवरी .........४८ घंटे पहले चुनाव प्रचार बंद हो जाता है यानि १७ तारीख के बाद प्रचार नही होगा ......९ से १६ के बीच बचे दिन कुल ७??????क्या ७ दिन में एक निर्दलिये उम्मीदवार अपने क्षेत्र के लोगो को अपना चुनाव चिन्ह बता पायेगा , जब कि बैलेट पेपर या मशीन पर चुनाव चिन्ह ही होते है .अब जब चुनाव चिन्ह ही लोगो को नही पता होगा तो वो वोट किसे डालेंगे और क्या भ्रष्टाचार मिटायेंगे.और इस से साफ़ जाहिर है ही सरकार कभी भी निर्दलिये lo गो के जितने के पक्ष में नही रही .और यह सफ़ेद पोश अपराध हमें नही दिखाई देता है ...................सरकार को चाहिए कि उमीदवार जो चाहे वही चुनाव चिन्ह दे दे और फिर आज तो साइबर का जमाना है ......वह से पता चल जायेगा कि कही दो लोगो को तो एक चुनाव चिन्ह नही मिल गया ....यह है हमारे लोक तंर के चुनाव की हकीकत ,जिस पर ना तो हम सोचना चाहते है और ना ही आवाज़ उठाना ...या यह भ्रष्टाचार नही है ........क्या आम आदमी के लिए विधान सभा और संसद का रास्ता वास्तव में जाता है ..अपने अधिकारों को पहचानिए और अखिल भारतीय अधिकार संगठन यही चाहता है कि सभी भारतीय अधिकारों का असली मतलब जाने और एक अपराध और मानवाधिकार उल्लंघन मुक्त समाज का निर्माण करे .....अखिल भारतीय अधिकार संगठन

के द्वारा: allindianrightsorganization allindianrightsorganization

चेतावनी : जागो मतदाता जागो ,,,,,,,,,,,,,,,,, सरकार अमेरिका के कहने पर चल रही है . अमेरिका भारत को अनुदान देकर ,,,, मनरेगा जैसी योजनाओ को चलवाकर भारत को अपंग बना रहा है. १. मजदूर घर बैठे पैसे लेते है बिना काम किये, जिससे मजदूर की काम करने की आदत छूट रही है. २. खद्य सुरक्षा बिल लाकर ,,,,,,,,,,,लोगो को फ्री खाना मिलेगा या फिर कम पैसे में मिलेगा जिससे जो लोग खाने के लिए काम करते है वह भी कामचोर हो जायेंगे . निष्कर्ष : भारत को कामचोर निकम्मा बनाकर अमेरिका की गुलामी करने के लिए मजबूर करना JANLOKPAL का समर्थन न करने वाली पार्टी सपा और बसपा ने भी वोटिंग में भाग न लेकर सरकार के लोकपाल बिल को अप्रत्यक्ष रूप से समर्थन दिया है . अतः : सभी मतदाताओ से अनुरोध है की वो सही नेता चुने .

के द्वारा:

नमस्कार सर, मे संविधान का ज्ञाता तो नहीं परन्तु जितना भी जानता हू, उस मोटे- मोटे आधार पर कह सकता हूँ कि सरकार ने संविधान कि कई बार धज्जियाँ उड़ा रखी है और ऐसी कई घटनाये सिर्फ मीडिया के वाद -परिवाद मे रहकर खतम हो जाती है.  अब प्रश्न यह आता है कि अगर कोई असंवेधानिक घटना होती है तो संविधान मे इसके लिए क्या व्यस्था है. अगर व्यस्था है तो वह क्रियान्वित क्यों नहीं होती . और अगर नहीं है तो क्यों नहीं है. यदि संविधान किंचित बिन्दुओ पर मौन है तो उसका मतलब ये तो नहीं होना चाहिए कि मूल संवेधानिक या जन भावनाओं का मखोल बना दिया जाय.  कभी कभी लगता है कि सरकारे संविधान से नहीं बल्कि स्वविधान से चलाती है.  जिसकी  लाठी उसकी भैंस....

के द्वारा: digvijaytrivedi digvijaytrivedi

SADE CHAR PRTISHAT ARKSHAN K MAYNE Bharat k svindhan ne jati vishesh ko vishesh hetu se prshray de kar nokri aadi me arkshan de kar jeevan satr sudharne ka sambhv pryatn kiya. Jitni bhi arkshit vrg ki soochi h wo sb jati adharit h. Sikh,jain,isai,bodh.muslim aadi ne svany ko dhram pe adharit alpsnkhyak vrg ke antrgat adhisoochit karwaya hua h. Ataiv arkshn jatigat h n alpsnkhyk vrg dharm adharit h. Alpsnkhyk vrg ki kya paribhasha h-ye aaj tak anutrit h. Dnga-fsad, bnd-andoln aadi ki bhasha smjhne wali kendr srkar ne haryana me jato ko ek mhine tak chle arkshan andoln me 270 cr.ke lgbhg hani uthane,railway ko lgbhg 250 cr.ki chpat lgwane tatha khedar power plant ki koyla apoorti thapp hone ke karan poore ek mahine tak pardeshwasiyon ko bandhk avstha me rahne ko majboor krne ke bavjood bhi unke liye arkshn ka pravdhan nhi kiya n itna sb krne pe bhi na hi rajsthan ke gujjaro ke arkshn andoln ko kuchh diya. Muslmano ne to aisa kuchh bhi nhi kiya fir bhi unko arkshn chandi ki thali me kyon pros kar diya gya. Jat n gujjro ki trah svindhan me snshodhan ki duhai tatha majboori bhi aade nhi aayi. Fir svindhan ki avhelna krte hue dharm ko jati wale koshthk me dal kar arkshan dene ki ghoshna krne se purv kya svindhan ki anumti li gyi ydi nhi to savindhan ke sath rajnitik khilwad krne wali vayvstha asvandhanic h. Iska mukhar virodh har satr par anivarya h kyonki ye bhartiya smaj ki sahishnuta pe khatre ki ghanti h."usoolon pe agar aanch aaye,to takrana jaroori h,jo jinda ho agar to jinda nazar aana bhi jaroori h."--rajesh dutt

के द्वारा:

के द्वारा: test4hemen test4hemen

आरक्षण का आधार बदले सरकार :: आरक्षण से किसी को भी कोई एतराज नही है. लेकिन यदि सरकार आरक्षण के आधार को बदल दे तो इससे ओऊर भी लोगो का फायदा हो जाएगा.. यदि आरक्षण का आधार गरीबी या निर्धनता हो जाए तो देश के बहुत से जरूरतमंद परिवार के लोग लाभान्वित हो जायेंगे. साथ ही आरक्षण नाम से लोगों में फैली भ्रान्ति भी दूर हो जायेगी. सरकार का उद्देश्य भी पूरा हो जाएगा गरीब ओउर निरधन लोगों का विकास करके.गरीबी हटाओ का दीर्घकालीन राजनीतिक नारा भी सफलता की सीधी चढने लगेगा. कोई छोटा होगा न कोई बड़ा. जात-पांत, ऊंच-नीच, धर्म , सम्प्रदाय के विवादों से भी देश मुक्ती पा जायेगा . क्या इस व्यापक सोच पर सरकार व् सभी राजनीतिक दल एवं नीति निर्धारक जनहित व् देशहित में अपने सभी स्वार्थी मापदंड़ो से ऊपर उठकर विचार करने का प्रयास करेंगे ? इससे सरकार का हर नया बिल भी शुद्ध हो जाएगा ओउर देश का हर दिल भी. क्योकि किसी को कोई एतराज ही नही होगा. ….शकुंतला महेश नेनावा, १८२, इन्द्रपुरी कोलोनी , इंदौर. (म.प्र)

के द्वारा:

तुषार गांधी ने कहा, ' हजारे का अनशन इसलिए अलग है क्योंकि बापू का अनशन किसी शत्रु को मित्र में बदलने के लिए था , वहीं अन्ना का अनशन शत्रु के खिलाफ है। यह एक तरह से ' मैं बनाम तुम ' का मामला है। ' मैं तुषार से पूछना चाहता हूँ की अगर मोहन चंद करम चंद घंधिजी ने जब पूना में श्री भीम राव आंबेडकर को झुकाने के लिए जो कुछ किया था वो जायज था तो अन्ना जी जो कर रहे वो कहाँ गलत है वो भी तो सरकार के समान्तर सरकार चलते थे तो अगर अन्ना एक प्रयास कर रहे हैं तो क्या गलत है . मैं न तो तुषार से और न ही इस लेख के रचना कर से संतुस्ट हूँ दोनों आपनी जगह सही थे और है आज के समय में, मैं अन्ना जी का ही समर्थन करूंगा!!!!!!! क्योंकि आज के समय में कपिल सिब्बल पी. चिताम्बरम जैसे नेता भी हैं जिनका बस चले तो गोली मार दे पहले ऐसा नहीं था

के द्वारा:

जनाब ताहिर भाई मेरे ख्याल से अब यह नाटक बंद हो जाना चाहिए क्यों की हमारे देश में मुस्लिम नेता भी अपनी पार्टी के साथ चिपक कर राजनीती करते नज़र आ रहे हैं और अभी इतनी जल्दी इनकी आदत में सुधार आने वाली नहीं है| चुनाव आते ही सब आरक्षण की भीख देने लगते हैं| कभी किसी सरकार ने यह देखा है की कितने अल्पसंख्यकों आर्थिक दृष्टी से पीछे हैं और जब उसके पास धन ही नहीं है तो वोह आरक्षण लेकर खाए गा क्या| और रही बात अल्पसंख्यकों की तो ये शब्द तो बहाना है मुस्लिम सिर्फ निशाना है और इनसे कुछ नहीं होने वाला है | अभी तो सभी नेता आरक्षण को छोड़ कर अन्ना के जाल में फंसे हैं, उस पर से कांग्रेस तो जान बुझ कर अपने पैर में कुल्हाड़ी मार रही है| नेता सभी बनना चाहते है चैनल पर बयान सभी देना चाहते हैं पर बोलना सिर्फ एक ही दो को आता है बस आती है तो बेशर्मी | सरफराज आलम सोनभद्र उत्तर प्रदेश

के द्वारा:

लोर्ड देसाई जैसे लोग ही तो वास्तव में विदेशी पुजीपतियो की दलाली करते नज़र आते है,इन्हें यहाँ के छोटी जोत के किसानो और मामूली पूजी के किराना व्यापारियो कोई सहानुभूत नहीं है उनके बारे में जीतनी उपेक्चापुर्द सोच अपने लेख में दिया है उसी से स्पष्ट है क़ि देसाई जी क्योलोर्ड की पदवी पाए हुए है जब वालमार्ट के कुल कर्मचारियो की तादाद २१ लाख है जो पूरी दुनिया में कार्यरत है तो हिंदुस्तान के लोगो को एक करोड़ का सब्जबाग दिखने का क्या तुक है एक तरफ मनमोहन-सोनिया की जोड़ी जब ऍफ़.दी.आइ. के समर्थन में धोती खोल समर्थन में लगे है अमेरिका में बराक ओबामा लोकल व्यापारियो से सामान खरीदने की सिफारिश कर रहे है क्यों? इस बारे में देसाई टाइप लोग आम जनता को भ्रमित कार्य में लगाये गए है .एक तरफ सरकार स्यम सहायता समूह, और बेरोजगारों को अन्य यज्नाओ द्वारा छोटे--मोटे व्यापर के लिए अनुदान इत्यादि से रोजगार देने का खाका बनती है और दूसरी तरफ करोडो खुदरा व्यापारियो के पेट पर लत मरने का काम कराती दिखती है. इसी बात से स्पष्ट हो जाता है क़ि हमारे नीत नियंता बगैर ईस्ट इंडिया कम्पनी के अमेरिका के दबाव में आर्थिक गुलामी का एहसास कराती प्रतीत होती है. देसाई की तरह पूजीवादी दलालों से सावधान रहने की जरुरत है ये लोग अपनी विक्टोरिया की चापलूसी में किसी हद तक जा सकते है. आखिर क्या बात है क़ि जब ऍफ़.डी.आइ. के स्थगित होने पर खुसी का माहौल है तो पुजीपतियो के संघटन द्वारा विधवा विलाप जरी है इन बेशर्मो को जो गरीबो और मजदूरो का शोषण कर सैकड़ो प्रतिशत मुनाफा लूट कर किसानो के हितो के नाम पर देश को धोखा दे सम्रजियो के हित चिंतन में दुबले हुए जा रहे है. सेज के नाम,कर्ज के नाम और इसी तरह की जनविरोधी नीतिओ से किसानो की अत्महत्या से जी नहीं भरा क़ि अब एक बार फिर किसानो की चिंता के नाम पर आत्महत्याओ के दलदल में धकेल रहे है.

के द्वारा:

Balbir punj ki is baat par hume sochna hoga-“kya kaaran hai ki is desh mein jahan kahin bhi musalman alpasankhyak hain, wo kanoon aur vyavastha ke saath pratibadha hone ka daawa karte hain, kintu jahan kahin bhi wo bahusankhya mein aate hain, shariyat hi unke liye sanwidhaan ban jaata hai?” Musalmanon ki sabse badi samasya aadhunik shiksha ka abhaaw hona hai, jab tak wo adhunik arthon mein shikshit nahi honge, saare aarakshan bekaar hain. Sirf aarakshan ki badolat kya aap kisi ashikshit ko sarkari ya private seva main pahuncha sakte hain? Shaayad is sawal ka uttar un logon ke paas bhi nahi hai jo arakshan lagoo karne ki baat kar rahe hai, yahi wajah hai ki aaj bhi SC/ST ki isthiti main koi khaas fark nahi aaya hai. Hume yeh baat yaad rakhni hogi ki-“ultimately education explores new horizons”. Saath hi jansankhya niyantran ke bare mein bhi socha hoga kyoki is par niyantran kiye bina wo apni aarthik isthiti ko nahi sudhar kar paayenge chahe sarkar kitni hi sahayta na kar le. Hinduon ki behtar aarthik isthiti ka yeh ek mahatwapurna karan hai ki wo apni arthi isthiti ki anusar hi pariwar niyojan karte hain. Yahan par dharm ki aad nahi banana chahiye kyonki dharm manushya ke vikaas main sahayak hota ha baadak nahi. Akhirkar hinduon main bhi yahi dharna hai ki “bacche bhagwan ke den hote hain par hindu apni dhara ko adhunik samaj ki jarurat se jodne main kamyaab rahe. Yahan par hume sarkari unche padon par kaam kar rahe muslimon ko bhi dekhan chayine jo apne drishtikon main badlaw lane ki wajah se aaj 21 sadi se kadam se kadam mila kar chal rahe hain. “Bharat ke missile man”/ “Bharat Ratna” aur “Bharat ke sabse vishwasniya aadmi” Abdul Kalam Sir, musalman hi hain lekin kisi aarakhsan ke mohtaaj to nahi..aise bharat ranta ko mera shat shat naman….

के द्वारा:

सतीश जी आपने एक मह्त्व्पुर्द विषय उठाया है. निश्चित ही लोगो की संविधान में आस्था घटी है लेकिन इसकी वजह मात्र यही नहीं है वरन इसके निर्माड में ही खामी है. पहला तो यह कि संविधान सभा का चुनाव प्रत्यक्च मतदान द्वारा नहीं वरन १५% विशिष्ठ लोगो द्वारा हुआ था आम जनता की कोई भागीदारी नहीं थी ओउर न तो इसे आम जनता से स्वीकृत कराया गया. संविधान सभा का मुस्लिम लीग और देसी रियासत के प्रतिनिधिओ द्वारा बहिस्कार किया गया था. इसीलिए समाज में वही कचहरी पेशकर मुन्सी,दरोगा, सिपाही वही सी.आर.पी.सी.ठीक वैसे ही कानून दरोगा जी की जेब में रहता है जो दफाए महात्मा गाँधी पर लगाई गई वही छत्तीस गढ़ में डॉ.सेन के खिलाफ भी लगाई गई. कोई कैसे मानले कि हमारा संविधान गैरबराबरी मिटने वाला है. संविधान के संदर्भ में पोश की यह कविता कितनी प्रासंगिक है यह पुस्तक मर चुकी है इसे मत पढ़े इसके शब्दों में मौत की ढंधक है और एक एक पृष्ठ जिंदगी के आखिरी पल जैसा भयानक यह पुस्तक जब बनी थी तो मै एक पशु था सोया हुआ पशु--- और जब मै जगा तो मेरे इन्सान बनने तक यह पुस्तक मर चुकी थी अब यदि इस पुस्तक को पढोगे तो पशु बन जाओगे सोये हुए पशु.

के द्वारा:

भाई आप के विचार शत प्रतिशत सही है लेकिन उसके साथ एक बड़ी वजह यह भी है की शासन की नीतियाँ | जिक दिन अनिवार्य शिक्षा अधिकार कानून के तहत प्रधान अध्यापक की जिम्मेदारी तय हो जाईगी उस दिन से ७० प्रतिशत हालत में सुधार आ जाएगा,अगर किसी भी बच्चे साधारण जोड़-घटाव या गुणा-भाग के प्रश्न हल नहीं कर पाते तो सबसे पहले उस विद्द्यालय के स्टाफ की संख्या देखि जाए उसके बाद बच्चे की उपस्थिति देखि जाय उसके बाद अगर उसमे प्रधानाध्यापक जीमेदार मिलता है तो पहले उसका ट्रांसफर किया जाए| और दुसरा कारण सभी बच्चे को छात्रिवित्ति बांटी जाए और साथ में मध्यान भोजन जिसमे प्रधानाध्यापक/इन्चार्जे बच्चे की हाजिरी ना होते हुए भी लगाते हैं, यह हालत कई प्रदेश की है विशेष कर उत्तर प्रदेश की | जब भी कोई आला अधिकारी या मानवाधिकार की टीम अनुसर्वन में आती है तो उन्हें ऐ बी आर सी / बी आर सी द्वारा चुने विद्यालय में ले जाया जता है | उत्तर प्रदेश में तो शासन द्वारा अध्यापक से विद्यालय बनवाया जा रहा है क्यों की उनपर आसानी से दबाव बना कर उसमे कमाई की जा सकती है | शिक्षा की गुणवत्ता के मसले पर बनी क्रेमर-मुरलीधरन समिति को शायद यह सब पता नहीं है और पता भी हो जाए तो और क्या अगर उसमे कुछ बदलाव होता है तो बड़े अधिकारियों को कैसे लाभ पहुंचेगा | तनवीर खान सोनभद्र उत्तर प्रदेश

के द्वारा:

आदरणीय महेश जी आप के सोच तो ठीक है पर एक बात तो है की अगर जन्लोक्पाल पास होता है तो सिर्फ कांग्रेस ही नहीं बल्कि भ्रष्टाचार के मामले पकडे जाने वाले सभी नेताओं, चाहे वोह किसी भी पार्टी के हों जेल तो जाना तय है संघ और भाजपा का जान बुझ कर यह कहना की अन्ना टीम मेरा समर्थन ले रही है और भाजपा उनका सहयोग कर रही है तो यह गलत है, हाँ एक बात जरूर है वह ये की भाजपा सिर्फ इसका राजनितीक लाभ लेने के मकसद से सब कुछ करा रही है| और रही बात कांग्रेस का विरोध करने की तो कांग्रेस के बड़े नेताओं की बयान बाजी और निति से जो लोग कांग्रेस से जुड़े भी थे वोह भी अब उससे दूर हो रहे हैं| रही बात विकास की तो कांग्रेस ही नहीं सभी पार्टियां चुनाव आते ही योजना और धन की नदियाँ बहाने लगते हैं ४ साल तक सोये रहते हैं | वैसे शीतकालीन सत्र से पहले नेताओं के अपने अपने संसद में उठाने वाले सवालों के सुर निकलने लगे हैं इससे यह तो तय है की यदि कांग्रेस बिल लाती भी है पहले से जन लोकपाल बिल का खुले तौर पर समर्थन करने वाली भाजपा शीतकालीन सत्र में एकतरफा समर्थन करती भी है तो कुछ साजिश के तहत छोटी पार्टियां, निर्दल, कुछ ऐसा कदम जरूर उठाएंगे की किसी तरह जन्लोक्पाल बिल अटक जाए| और इससे भाजपा और अन्य पार्टियों का अप्रत्यक्ष रूप से लाभ तो होगा और कांग्रेस का ना चाहते हुए भी भारी नुक्सान होना तय है | लोकपाल बिल का विरोध करने वाली पार्टियों में बी एस पी, जे दी यू , रास्ट्रीय जनता दल, मनसे , त्रिमुल कांग्रेस जैसे पार्टियां हो सकती हैं सरफराज आलम सोनभद्र उत्तर प्रदेश

के द्वारा: sarfrazobra16 sarfrazobra16

भार्गव जी ऐसा प्रतीत होता है कि आप ब्रह्म्दवादी मानसिकता से ग्रसित है नहीं तो नहीं तो काशीराम का नाम लेते तो सत्ता की चाभी दलितों को हासिल होने के बाद ही दलितों का भला होगा रहा सवाल मुर्तियो और पार्को का तो क्या आप इस बात की गिनती बता सकते है कि नहरू गाँधी परिवार के नाम कितनी योजनाए और पार्को,मुर्तियो हवाई अड्डो का नाम है ओउर्सका जिक्र क्योनही किया जाता क्या सिर्फ नेहरू खानदान ने ही आजादी के लिए समर्पित रहा बाकि कांग्रेस के बड़े नेताओ के नाम आधे से अधिक कांग्रेस के लोगो को नहीं मालूम आज के बच्चो को क्यों नहीं बताया जाता कि नेहरू,गाँधी खानदान के अलावा भी लोगो ने कुरबानिया दी है? क्या सुभाष चन्द्र बोस,भगत सिंह ,सुखदेव ,राजगुरु और चन्द्र शेखर आजाद कोगो ने अपने देश के किये और नौजवानों को प्रेरित करने के लिए अपने प्राणों की आहुति दी थी? क्या डॉ.अम्बेडकर का योगदान देश की एकता के लिए गाँधी के झूठे आश्वासनों पर दलितों के लिए अलग दलिस्तान की माग त्याग दी थी और उन्हें धोखा दिया गया ?इसके बाद किसी ब्राह्मणवादी मानसिकता से ग्रसित हो उनके लिए क्या किया? क्या वे संजय गाँधी से भी गए गुजरे राजनेता थे कि उनका स्मारक तो है लेकिन सुभाष चन्द्र बोस,भगत सिंह का कही स्मारक नहीं है ? क्या यह भी झूठ है कि आजादी की लड़ाई के बाद देश को विभाजित करने की साजिश के तहत हिंदुस्तान भेजे गए थे और उसमे वो कामयाब मात्र इसलिए हो गए क्योकि नेहरू लोर्ड माउन्ट बटन की बीबी के मोहजाल में फस कर बटवारे पर राजी होगये थे और गाँधी को उसी ज़माने में दूध की मख्खी की तरह किनारे कर दिए गए थे? आजादी के ६३ वर्षो बाद भी दलितों के सम्मान और सशक्तिकरण क्या और कितना किया गया. सवाल मुर्तियो का नहीं है नहीं तो इन महाप्रभुओ ने उनके नाम पर स्विस बांको को लबालब भर दिया. आज आप जैसे बहुत लोग बेचैन है कि इन्हें इतना मत सर चढाओ नहीं तो हमारे मवेशियो की खल कौन उतरेगा, इनकी बहन,बेटियो को कौन नोचेगा और कैसे,हमारी बेगारी कौन करेगा? आप लोग दलितों के उत्थान और स्शाक्तिकर्ण के लिए चिंतित होने की आवश्यकता करने की आवश्यकता नहीं वे तो भूखे पेट रहने की आदत है और रहा सवाल सशक्तिकरण का तो उन्हें सम्मान चाहिए दलित महापुरुषों का तो उन्हें अब मायावती के चलते उन्हें भी ज्ञात हो रहा है कि बिजली पासी भी रजा थे और झलकारी बाई तथा उदादेवी भी उनलोगों में ही थे आज उन्हें भी आभास हो रहा है कि अब किसी भी सवर्ण के आने से चारपाई छोड़ने की आवश्यकता नहीं हमारे बच्चे भी दूल्हा बन घोड़े से बारात लेकर जा सकता है, बेगारी क्या पैसा देने के बाद भी जबरदस्ती कोई नशी कर सकता. इन्ही सब बातो से दलितों के लिए चिंतित है. आप लोगो की चिंता की बात इसलिए भार्गव जी टाईप लोगो की चिंता की वजह बुध्धिस्म नहीं मनु महाराज के संघिताओ का अवमूल्यन है वरना कही एक शताब्दी पूर्व स्वामी विवेकानंद की भविष्यवाणी कही सच न हो जाय की एक शताब्दी बाद हिंदुस्तान में दलितों का राज्य होगा. आखिर इस विधवा विलाप नहीं होता.क्या मायावती ने कोई कार्य बगैर विधान सभा द्वारा पारित प्रस्ताव के किया है? वही दिल्ली में ७०००० करोड़ रुपये कॉमन वेल्थ गेम के नाम पर लूटे गए और मात्र कलमाड़ी को जेल भेज कर छुट्टी आ कर कभी देखिये इसका उत्कृष्टता का नमूना देखने को मिलेगा आखिर इसमे क्या बुराई है अगेर इन स्मारकों को पर्यटन के लिहाज से ही सही जरा गौर से देखी तो आप को महसूस होगा कि इस टक्कर की खूबसूरती पुरे उत्तर भारत में आजादी के बाद बने दर्शनीय स्थानों में मात्र अक्चाराद्हम मंदिर से की जा सकती है. आप लोगोप से विनम्र निवेदन है कि आधे गिलास पानी को दुसरे निगाह से भी देखने का प्रयास करेगे तो यह देश हित में होगा. रहा सवाल बुध्धिज्म का तो आखे खोल कर देखे आज चीन ,जापान,इन्दोनेशित्य कहा और कहा मनुमहराज के वंसज जहा है वह मात्र शोषण ,सामाजिक विखंडन जो आज माओवाद की भी प्रमुख वजहों में सबसे महत्वपूर्ण वजह है और अंत में डॉ. भीमराव अम्बेटकर के संविधान सभा में २५ जनवरी १९५० के महत्यपूर्ण भाषण का अंस भी प्रासंगिक हो जतय है 'कल हम एक ऐसे युग में प्रवेश करने जा रहे है जहा हम एक व्यक्ति एक मत को स्वीकार करेगे परन्तु आर्थिक और सामाजिक वजहों से इससे इनकार कर रहे होगे जीतनी जल्दी हो सके हमें जीवन के इन अंतरविरोधो को समाप्त करना होगा नहीं तो हसी के बंचित लोग इस लोकतान्त्रिक ढाचे को उखड फेकेगे जिसे हम लोगो ने इनती कुरबानिया दे कर हासिल की है/

के द्वारा:

बाजपेयी जी इस समय उत्तर प्रदेश में सिक्षा का राजनीतिकरण और व्यावसायीकरण दोनों हो रहा है और हुआ है इसका जीता जागता नजीर, दो दिन पूर्व ही उत्तर प्रदेश हाई कोर्ट द्वारा दिए गए , एक ही शासनादेश पर दो अलग अलग निति अपनाए गयी है इसमें कोर्ट और सर्कार दोनों मिल कर बी टी सी २००४ के प्रसिक्षनार्थियों के साथ राजनीतिकरण और व्यावसायीकरण दोनों किया है | इससे तो साफ़ है की जन्लोक्पाल के दाएरे में न्यायपालिका को भी हर हालत में आना चाहिए, और पुरे उत्तर प्रदेश के २००४ बी टी सी प्रसिक्षनार्थियों को इस का समर्थन करना चाहिए| और आने वाले चुनाव में इसका हिसाब भी चुकाना होगा | और यही नहीं इसके अलावा और भी ऐसे नजीर हैं जिससे यह पता चलता है की न्यायपालिका सत्ता पक्ष से प्रभावित होकर फैसले देती है | सत्ता पक्ष अपने सम्मान और प्रतिष्ठा के लिए सिक्षा और बेरोजगार युवको के भविष्य के साथ राजनीति कर रही है| हम उन सभी उत्तर प्रदेश के २००४ बी टी सी प्रसिक्षनार्थियों से आग्रह करते हैं की भविष्य के साथ खिलवाड़ करने वालों को चुनाव में किसी तरह का समर्थन न करें | उत्तर प्रदेश सरकार सदैव चुनाव के समय ही शिक्षकों की भरती प्रक्रिया शुरू कराती है जिसकी प्रक्रिया सरकार गठन होने के बाद तक चलती है | सत्ता पक्ष को यह समझना चाहिए की अब आज का युआ इतना भी नासमझ नहीं है| वाजपेयी जी उत्तर प्रदेश की राजनीती में जातिगत भावनाओं से खिलवाड़ किया जाता है इस लिए आगामी पांच क्या १० वर्षों में भी उत्तर प्रदेश की राजनीती में बदलाव आना वाला नहीं, हाँ एक बात है के अगर चुनाव में वोटिंग में पार्टियों की सिम्बल के साथ अगर इनमे से कोई नहीं का भी सिम्बल हो तो राजनेताओं को समझ आ जाए | सरफराज आलम सोनभद्र उत्तर प्रदेश

के द्वारा:

मायावती के उत्तर प्रदेश के विभाजन पर सबको दिक्कत क्य्नो हो रही है समझ मे नहीं आता है / विभाजन मायावती कर रही है तो गलत /और यही विभाजन कोई अन्य पार्टी कर ती तो वो बहुत अच्हा होता / मायावती यदि राज्य विभाजन मे सफल होती है भविष्य मे यह बात ख़तम हो जावेगी की भारत की राजनीती खासकर कांग्रेस और भारतीय जनता पार्टी की उत्तर प्रदेश से तय हो सकेगी / बुंदलखंड सहित नए प्रस्तावित राज्यों मे अगले कुछ सालो मे राज्य इस्तारिय पार्टी सत्ता सम्हालेगी / केंद्र की राजनीती मे जो महत्व सोउथ का है वहि महत्त्व उत्तर के इन छोटे राज्यों का हो जावेगा / मायावती का विभाजन कांग्रेस को सही पाठ सिखायगा /(आदि गुरु )

के द्वारा:

सत्ता के सौदागर जनता को बांटने का काम अच्छी तरह जानते और करते हैं. आपस में ये सभी दल बनते हुए भले ही लगते हों पर ये इनका मंतव्य होता है की जनता कभी भी एकजुट न हो और बंटकर रहे जिससे वोटों के अधिकतम बंटवारे के बाद भी इनके फायदे की गुंजाइश रहे. दरअसल व्यवस्था यह होनी चाहिए की शत प्रतिशत मतदान हो और आधे से अधिक मत प्राप्त करने वाले ही सरकार बनाने में सक्षम हों. पर इन्होने तो गठबंधन की राजनीति इसी लिए शुरू की ताकि ये सत्ता में साझेदारी करें और फिर उसमे दबाव की राजनीति करते हुए सरकार को ब्लैकमेल कर सके. राज्य के बटवारे की बात करके ये फिर अपना उल्लू सीधा करना चाहते हैं. इन्हें उसके लाभ या हानि से कुछ भी लेना देना नहीं है. जनता को इस चाल को समझ कर वैसा ही जवाब भी देना चाहिए. कोई भी दल यदि बंटवारे की बात करता है या उसे समर्थन देता है तो जनता को यह चाहिए की वह ऐसे नेताओं और दलों को सबक ज़रूर दें.

के द्वारा: krishna gopal sinha krishna gopal sinha

निर्धन समाज पार्टी का घोस्णा पत्र पन्जिक्रित करेन्सी सन्सार से निर्धनन्ता, भ्रिस्टाचार, अपराध तथा आलस्य का जड से विनाश करने का एक मूल मन्त्र है! ईससे सम्पूर्ण सन्सार का विकास होगा . लेकिन ईसे दुनिया के समस्त देशौ को स्वीकार करना पडेगा तथा पन्जिक्रित पुन्जी को परिचलन मे लाना पडेगा तभी भुख्मरी, गरीबी,भ्रिसटाचार, अपराध व आलश्य से छुट्कारा पाया जा सकता है. लोकपाल, लोकायुक्त या कडे से भी कडा कानून पुरी तरह से समाज से करप्शन व क्राईम को समाप्त नही कर सकता. ईसे रोकने हेतु दुनिया के किसि न किसि देश को आगे आ कर पन्जिक्रित पुन्जी के परिचालन को शुरू करना पडेगा. करन्शी का परिवर्तित रुप " नोट कि जगह पर बॆक से जारी की गयी करन्सी पर खाता धारक नाम व नम्बर को लिख कर ्नोट के प्रचलन से मात्र सन्चालन के द्वारा करप्शन व अपराध से एक साथ छुट्कारा मिल जायेगा. १९९३ मे उत्तर प्रदेश मे जन्मी निर्धन समाज पाट्री ने सभी प्रन्तौ मे होने वाले लोकसभा चुनाव मे अपने प्रत्यासी उतारने का निर्णय लिया है. सरकार बनते ही देश से रुपये के परिचलन को निरस्त कर रजिस्टर्ड करन्सी लागू करेगी. काला धन के वापस लाने वालो पर कोयी मुकदमा नही चलेगा और ना हि कोयी टैक्स वसूला जयेगा. पार्टी ने घोस्णा पत्र मे पन्जिक्रित पुन्जी के प्रचलन को सरकार बनते ही लागू करने का वादा किया तथा वर्तमान मे चल रहे रुपये को बन्द कर बैन्क के द्वारा सीधे खाता धारक के डीमन्ड के अनुसार करन्सी जारी कर देश से करपशन व अपराध मुक्त शासन की स्थापना करने का निर्णय लिया है. पार्टी के रास्ट्रीय कैम कार्यालय ईलिस बाजार, कानपुर महानागर, उत्तर प्रदेश मे पार्टी के रास्ट्रीय पमूख ईकवाल सिद्दीकी उप्स्थिति मे पार्टी की रास्ट्रीय समिति के समस्त सदस्यॊ ने एक स्वर मे पार्टी के घोसणा पत्र जारी कर विधान सभा के चुनाव मे पाचो प्रान्तो मे प्रत्यासी उतारने का निर्णय लेते हुऎ महारास्ट्र के सन्योजक श्री उदय बागणे, उत्तराखण्ड के श्री य़शवन्त सिन्ह नेगी, झारखन्ड के श्री नीरज कछवाहा, ऒडिसा के श्री आनिरुध्द स्वाई, आन्ध्र प्रदेश के डा. नरेन्द्र भल्ला व लकछमन राव को प्रदेश स्तर पर समितिया’ बनाने का निर्धेस दिया. रूपया समाज मे ब्याप्त समस्त बिमारियो का कारण है. रूपये के रूप को परिवर्तित कर समाज मे अराजकता, भ्रिस्टाचा्री, भय, चोरी, डकैती, लूट व आलस्य को जड से मिटाया जायेगा. युरो, डालर, पोण्ड्स, लीरा, दिनार, टका, येन आदि के रूप को भी बदल जाने से समस्त विश्व को ईन बिमारियो को निजात दिलाया जा सकता. निर्धन समाज पाट्री के एक सुत्रीय मुद्दे को सन्सार मे अन्तर रास्ट्रीय पहिचान मिल रही है. वीरेन्द्र तोमर, रास्ट्रीय महा सचिव ३७/४२, गिलिश बज़ार, कानपुर निर्धन समाज पार्टी, उत्तर प्रदेश, भारत, E-mail: nirdhansamajparty@gmail.com, Mobile :+91-94154 78524

के द्वारा:

निर्धन समाज पार्टी का घोस्णा पत्र पन्जिक्रित करेन्सी सन्सार से निर्धनन्ता, भ्रिस्टाचार, अपराध तथा आलस्य का जड से विनाश करने का एक मूल मन्त्र है! ईससे सम्पूर्ण सन्सार का विकास होगा . लेकिन ईसे दुनिया के समस्त देशौ को स्वीकार करना पडेगा तथा पन्जिक्रित पुन्जी को परिचलन मे लाना पडेगा तभी भुख्मरी, गरीबी,भ्रिसटाचार, अपराध व आलश्य से छुट्कारा पाया जा सकता है. लोकपाल, लोकायुक्त या कडे से भी कडा कानून पुरी तरह से समाज से करप्शन व क्राईम को समाप्त नही कर सकता. ईसे रोकने हेतु दुनिया के किसि न किसि देश को आगे आ कर पन्जिक्रित पुन्जी के परिचालन को शुरू करना पडेगा. करन्शी का परिवर्तित रुप " नोट कि जगह पर बॆक से जारी की गयी करन्सी पर खाता धारक नाम व नम्बर को लिख कर ्नोट के प्रचलन से मात्र सन्चालन के द्वारा करप्शन व अपराध से एक साथ छुट्कारा मिल जायेगा. १९९३ मे उत्तर प्रदेश मे जन्मी निर्धन समाज पाट्री ने सभी प्रन्तौ मे होने वाले लोकसभा चुनाव मे अपने प्रत्यासी उतारने का निर्णय लिया है. सरकार बनते ही देश से रुपये के परिचलन को निरस्त कर रजिस्टर्ड करन्सी लागू करेगी. काला धन के वापस लाने वालो पर कोयी मुकदमा नही चलेगा और ना हि कोयी टैक्स वसूला जयेगा. पार्टी ने घोस्णा पत्र मे पन्जिक्रित पुन्जी के प्रचलन को सरकार बनते ही लागू करने का वादा किया तथा वर्तमान मे चल रहे रुपये को बन्द कर बैन्क के द्वारा सीधे खाता धारक के डीमन्ड के अनुसार करन्सी जारी कर देश से करपशन व अपराध मुक्त शासन की स्थापना करने का निर्णय लिया है. पार्टी के रास्ट्रीय कैम कार्यालय ईलिस बाजार, कानपुर महानागर, उत्तर प्रदेश मे पार्टी के रास्ट्रीय पमूख ईकवाल सिद्दीकी उप्स्थिति मे पार्टी की रास्ट्रीय समिति के समस्त सदस्यॊ ने एक स्वर मे पार्टी के घोसणा पत्र जारी कर विधान सभा के चुनाव मे पाचो प्रान्तो मे प्रत्यासी उतारने का निर्णय लेते हुऎ महारास्ट्र के सन्योजक श्री उदय बागणे, उत्तराखण्ड के श्री य़शवन्त सिन्ह नेगी, झारखन्ड के श्री नीरज कछवाहा, ऒडिसा के श्री आनिरुध्द स्वाई, आन्ध्र प्रदेश के डा. नरेन्द्र भल्ला व लकछमन राव को प्रदेश स्तर पर समितिया’ बनाने का निर्धेस दिया. रूपया समाज मे ब्याप्त समस्त बिमारियो का कारण है. रूपये के रूप को परिवर्तित कर समाज मे अराजकता, भ्रिस्टाचा्री, भय, चोरी, डकैती, लूट व आलस्य को जड से मिटाया जायेगा. युरो, डालर, पोण्ड्स, लीरा, दिनार, टका, येन आदि के रूप को भी बदल जाने से समस्त विश्व को ईन बिमारियो को निजात दिलाया जा सकता. निर्धन समाज पाट्री के एक सुत्रीय मुद्दे को सन्सार मे अन्तर रास्ट्रीय पहिचान मिल रही है. वीरेन्द्र तोमर, रास्ट्रीय महा सचिव ३७/४२, गिलिश बज़ार, कानपुर निर्धन समाज पार्टी, उत्तर प्रदेश, भारत, E-mail: nirdhansamajparty@gmail.com, Mobile :+91-94154 78524

के द्वारा:

सूर्य प्रकाश सर नमस्कार | देश की असहाय जनता को आप की बात से सहमत होना चाहिए, पर देश में यह विचार दो खेमे में बाँट चुका है एक वोह जो अपने फर्जीवाड़े के बल पर पूंजीपतियों की जमात मी शामिल होना चाहते हैं , दुसरे वोह जो अपने कराहती जिंदगी को संघर्स करते हुए कोसते रहते हैं, वैसे लोग सन ५२ से सरकार के नीतियों में बदलाव में आस लगाए हुए हैं और आज जब परिवर्तन की बयार चल निकली है तो गलत धारणाओं वाले पूंजीवादी लोग इसका हर संभव तरीके से विरोध कर रहे हैं| और रही बात अन्ना टीम की तो दुनिया में इंसान पैदा हुआ है तो छोटी मोती गलतियां स्वाभाविक है, हर वेयक्ति में इगो होता है, इसी इगो का कांग्रेस लाभ लेकर फूट डालना चाह रही है | ऐसे एस्थितियों में इसका मतलब तो यह नहीं की कोई जनलोक पाल बिल का समर्थन ना करे | मेरा माना है की आर टी आई जब सर्कार और भ्रस्त अधिकारियों की मुसीबत बन सकती है तो जन्लोक्पाल तो ७० प्रतिशत अपना काम कर ही देगा, और रही बात ३० प्रतिशत तो वोह जनता अपने आप समझ ले गी | पर ऐसा होने वाला नहीं है| उत्तर प्रदेश सर्कार में बसिक सिक्षा परिषद् में तो अधिकाँश प्रार्थना पत्र की रिसीविंग ही नहीं देते हैं और विरोध करने पर कारवाही करने कराने की धमकी देते हैं | बिधवा के नाम पर फर्जी पेट्रोल पम्प, फर्जी जमीन बैनामा, फर्जी हैण्ड पम्प बोरिंग, तालाब खोदाई, २०० फिट की बोरिंग को ५०० फिट दिखाना, राशन की काला बाजारी, केरोसन तेल की काला बाजारी, गरीबों की सहायता राशी, सिक्षा विभाग में हेरा फेरी, सरकारी नौकरियों में हेरा फेरी जैसे अन्य मामलों में कैसे धांधली होगी हो सकेगी| और कन्मोदी, कलमाड़ी, और तिहार जेल में आराम फरमा मंत्रियों को जमानत कैसे मिलेगी| गवाहों और सुबूतों को मिटाने आसान ना होगा| और जन्लोक्पाल बिल का सिस्टेमेटिक ढंग से पास ना होने का विरोध वही लोग कर रहे हैं जो भ्रस्त हैं | रही बात पार्टियों की तो संसद सत्र में तो सब अपने रंग दिखाने लगेंगे| तब कांग्रेस भी चाह कर जन्लोक्पाल बिल नहीं पास करवा पायेगी| क्यों की यह भारत की राजनितिक परम्परा है| संसद में लिक से हट कर बहस करना, कुर्सी तोडना, माइक फेकना| अगर कांग्रेस सर्कार शुरूआती दिनों में लोकपाल बिल प्रस्ताव लाती है तो कुछ हो सकता है, वरना बाद में भगवन भरोसे | अन्ना विरोधी आन्दोलन तो जब तक संसद सत्र समाप्त नहीं होता तब तक चलता रहेगा| उसके बाद देश की जनता स्वम ही फैसला ले ले लेगी, यह पुब्लिक सब कुछ जानती है | सरफराज आलम सोनभद्र, उत्तर प्रदेश

के द्वारा:

आपके आलेख का सबसे सुन्दर पक्ष किरण बेदी के कृत्य का विश्लेषण नहीं, बल्कि आपका कन्फ़ेशन है, जो प्राय: भ्रष्टाचार की दीमक से खोखले हो चुके हमारे नैतिक मूल्यों के आईने जैसा लगता है । भ्रष्टाचार शब्द का अर्थ आज आमतौर पर गलत तरीक़े से या अवैध पैसे बनाने तक ही सीमित रह गया है, परन्तु वस्तुत: तो किसी भी प्रकार के भ्रष्ट+आचरण की संधि ही भ्रष्टाचार है ! इस दृष्टिकोण से देखा जाय, तो यहां किरण बेदी निर्दोष ही साबित होंगी, क्योंकि कुष्ठ रोगियों की सेवा करने वाले एक न एक दिन कुष्ठ के कीटाणुओं के संपर्क में आ ही जाते हैं । अच्छा हो कि इस गुलिस्तान के हर दरख्त, हर शाख पर बैठा प्रत्येक उल्लू अब छिद्रान्वेषण की बजाय इस रोग के कीटाणुओं के संहार पर ही अपना ध्यान केंद्रित करना सीख ले । ‘हम सुधरेंगे, जग सुधरेगा’ के सिद्धान्त पर अमल करना सीख ले । साधुवाद !

के द्वारा:

दिक्षित सहब नकस्कार जब हिन्दु धर्म पर चोट करनी है तो इतिहास का हवला दे कर विधर्मी लोग अपनी बात रखते है । जब की दूनिया के कोई धर्म की किताबें इतिहास के तर्क को पार नही कर सकती । मानने वालों को बस मानना ही होता है । हिन्दु धर्म विधर्मियों की आंख की किरकिरी बना हुआ है तो वो तो चोट मारते रहेंगे । जब रामसेतु की बात आई तो रामायण को ईसी इतिहास नकार दिया था । कह दिया था की राम पैदा ही नही हुये थे, मात्र कल्पना है । आज वो ही दोगले इतिहासकार बता रहे की राम थे और वो सीता के भाई थे, पति नही । आपने कहा -- कुछ शिक्षक व इतिहासकार इसे पाठ्यक्रम में जोड़ने की मांग पर अड़े हैं।-- ये हिन्दु थोडे है । ईसाई है सब ।

के द्वारा: bharodiya bharodiya

लक्ष्मिकान्ताजी, आपका यह ब्लाग पढ़ कर अच्छा लगा की एक राजनीतिग्य भी ऐसे मजबूर लोगों के प्रति इतना संवेदनशील हो सकता है क्योंकि आम लोगों में (public perception) नेताओं के प्रति जो धारणाएं हैं वे बहुत निगेटिव हो चली है. इसे चाहे अन्ना इफ्फेक्ट कहें या कुछ भी पर मंत्रियों के प्रति जनता का सोच एक भ्रष्ट और संवेदना रहित व्यक्ति की छवि वाला है. खैर अंडर ट्रायल वाली समस्या अति-मानवीय और हृदय-विदारक तस्वीर है जो आपने बहुत अच्छे ढंग से प्रस्तुत की है. मैंने भी अतीत में इस पर काफी लिखा था . मेरे एक मित्र हैं जिन्होंने तिहाड़ में कई ऐसे लोगों की बेल खुद मुचलका दे कर करवाई. इन जमानत याफ्ता कैदियों को अपने प्रतिष्ठान में नौकरी भी दी. उनके अनुभव के अनुसार वे लोग बहुत अछे व ईमानदार कर्मचारी साबित हुए. पर ऐसे कितने लोग हैं जो इन मजबूरों की इस प्रकार सहायता कर सकें. इसका निदान तो आप जैसे विचारशील राजनीतिज्ञों को कानून के माध्यम से ही करना होगा. आप जीते जागते लोगों को कैसे इस प्रकार जेलों में सड़ने मरने देंगे - यह तो हमारे लोकतंत्र के लिए बहुत ही शर्मनाक बात है. इसका हल खोजना जरूरी है और वो भी जल्दी.

के द्वारा: O P PAREEK O P PAREEK

जन लोक पाल कांग्रेस के गले की हड्डी बन गया है, जिसे वह न तो निगल पा रही है और न ही उगल पा रही है। अन्ना टीम की खामियां ढूढ़ने में जुटी कांग्रेस के सामने कोई विकल्प नहीं मिल पा रहा है। भ्रष्टाचार के खिलाफ अन्ना की टीम का समर्थन देना अन्य दलों की स्वेच्छा नहीं कही जा सकती है परन्तु कांग्रेस को गद्दी तक दुबारा पहुंचने से रोकने के लिए अन्ना के साथ खड़ा होना उनकी मजबूरी है। जनता से भला कौन नहीं डरता। जनता को बरगलाने का प्रयास अन्तिम दम तक भ्रष्टाचारी करेंगे।विपक्षी एकता के ध्वंस होने पर ही कांग्रेस फायदा ले सकती है। क्यों नहीं भ्रष्टाचार के खात्मे की अपनी घोषणा को कांग्रेस अमल में लाती है। जब उसने यूपीए के कई मंत्रियों को भ्रष्टाचार के मामले में जेल जाने से नहीं रोकी तो अब क्यों थर्रा रही है। भला तो इसी में है कि जन लोक पाल बिल को पास कराकर विपक्षियों के हथकण्डों पर विराम लगा देती।   

के द्वारा: pramod chaubey pramod chaubey

आदरणीय डाक्टर शिव कुमार राय जी, सादर प्रणाम आपके लिखे आलेख को पढ़कर उत्तर भारतीयों संग हुए दुर्व्यहार के दर्द एक बार फिर उभऱ गये। निश्चय ही पूरा देश एक है परन्तु उन मीडिया वालों पर तो सम्मान जनक अंकुश लगे, जिन्होंने ऐसे मुठ्ठीभर लोगों को पर्याप्त जगह देना अपना अधिकार समझ लिया है। हमारी यानी मीडियाकर्मियों की भूमिका पर सवाल उठने वाजिब लगते हैं। एक तस्वीर विभिन्न अखबारों में छपी थी, जिसमें आटो चालक को मूंह बांधें हुए कुछ लोगों  द्वारा मारते-पीटते दिखाया गया था। मूंह बांधकर किसी को मारते-पीटते समय  मीडियाकर्मियों का पहुंचना स्वाभाविक था या प्रायोजित था। इस पर हमारे जैसे पाठकों  को जरूर शक होता है। पत्रकारिता क्या यहीं है। ऐसी तस्वीरों को अखबारों में प्रमुखता  से स्थान देकर आखिरकार पत्रकारिता किन बातों को लोगों के बीच पहुंचाना चाहती है।  वे चाहे किसी भी राजनीतिक दल के कार्यकर्त्ता हों। किसी को भी मारने का हक नहीं है। ऐसी घटनाएं, मीडिया में पहुंचें गलत लोगों(क्षेत्रवाद के दायरे में बंधे) की सोची समझी चाल  और स्थानीय पुलिस की निष्क्रियता हो सकती है। हमें दूर बैठे भोले-भाले लोगों की  भावनाओं संग खिलवाड़ करने का हक नहीं हैं। आदरणीय शिवकुमार जी अब भी गांव के लोग या हमारे, आप जैसे लोग अक्षर को ब्रह्म मानते हैं। अखबारों में  छपी खबरों को सही मानते हैं। मूंह बांधकर आटो चालक को पीटना किसी भी स्थिति में राजनीतिक कार्यवाई नहीं हो सकती है और न ही ऐसी घटनाओं को कोई राजनीतिक दल मान्यता  के अपने एजेण्डे में शामिल है। किसी पार्टी के कार्यकर्त्ता बताने के बजाय उन्हें  हम केवल गुण्डे, बदमाश या ऐसे अन्य शब्दों का इस्तेमाल कर अनुचित कार्यवाई पर  लगाम लगा सकते हैं या जिसने भी ऐसी खबर दी है, उन्हें भी चाहिए कि कम से कम उनकी या मारपीट करने वाली पार्टी के नेताओं की बयान जरूर लगायें कि मारपीट करने  वाले उन्हीं के पार्टी के थे या नहीं। प्रेस कहे कि मारपीट करने वाले लोग(विधानसभा जैसी  कुछ घटनाओं को छोड़कर) किसी राजनीतिक पार्टी के हैं तो मुझे लगता है कि बहुत उपयुक्त नहीं हैं। मारपीट करने वालों के खिलाफ आईपीसी की तहत कार्यवाई की जा सकती है।  मुठ्ठीभर लोगों की काली करतूतें मीडिया के सहारे ही पूरे क्षेत्र में फैलती हैं। कभी पूर्वांचल  के जिले भी साम्प्रदायक दंगों के चपेट में आते थे। अब घटनाओं के बाद अखबारों में उन संप्रदायों के नाम नहीं छपते, जिसके चलते फैली हिंसा को काबू में आसानी से ले लिया  जाता है। अब ऐसे दंगें नहीं के बराबर हैं। आखिर मुम्बई प्रेस के आदर्शों को अनदेखी कर लोगों के बीच कैसा संदेश देना चाहती हैं। क्या मुम्बई के निवासियों की चिन्ता नहीं है,  जो मुम्बई से बाहर रहते हैं। हमें भी चाहिए कि हम जहां हैं, वहीं पर रोजगार के साधन  तलाशें तो लगता है कि मुम्बई या अन्य क्षेत्रों में चल रही क्षेत्रवाद की आग पर काबू पाया जा सकता है। रोजगार के लिए लोगों का एक क्षेत्र से दूसरे क्षेत्रों में जाना होता है। मुम्बई में  उत्तर भारतीय लोग किसी कार्य को मुम्बई वालों से सस्ते में करते होंगे तो स्वाभाविक है कि  उऩकी मांग सदैव बनी रहेगी। उन्हें मुम्बई से निकालना वैसे भी आसान नहीं होगा। मुझे नहीं लगता मुम्बई के लोग नासमझ हैं।

के द्वारा: pramod chaubey pramod chaubey

मनमोहन सिंह को ईमानदारी का तमगा क्या किसी अन्तेर राष्टीय सस्था ने दिया है आखिर यह कौन सी इमानदारी है की बिना जनता का समर्थन लिए आसाम के फर्जी पते से राज्य सभा का सदस्य बनना और तमाम मौके मिलाने के बाद भी किसी चुनाव का सामना करने की जहमत भी नहीं उठाई और दूसरी पारी में तो हद ही करदी की बिना चुनाव में गए ही प्रधानमंत्री का उम्मीदवार हो गए क्या उस इमानदार शख्श को जिल्लत भी महसूस नहीं हुई की न तो किसी तरह की शर्मिंगी ही महसूस हुई की मेरे आचरद को जनता किस रूप में लेगी आखिर किसी की ईमानदारी का पैमाना क्या हो सकता है सरकार के सभी भ्रष्टाचार का समर्थन किस शब्दकोष में है हजारो लाखो के घोटाले हो रहे है और आप नहीं रोक पा रहे है तो हद दर्जे की बेईमानी है जो आप अपना स्तीफा नहीं दे रहे है और भ्रष्टाचारियो के लिए महाभारत के शिखंडी की तरह अगले मोर्चे पर डटे है की देखे कौन मर्द है जो हमारी सेना से निपटता है यही बेचारे उनके विरोधी भी खामोश हो जाते है की इस तरह का कार्य कर लोगो में यही सन्देश जायेगा की एक शिखंडी पर वार किया .हमें या आम लोगो को क्या मालूम की मनमोहन जी देश को विदेशियो के हाथो गिरवी रख रहे है या बेच रहे है क्योकि उनकी नीतिया स्पष्ट रूप से विदेशियो के हित में है और यहाँ अपने देश में गरीबी की रेखा को ही नीचे ला कर देश को उन्नति के मार्ग पर ले जा रहे है इस देश का दुर्भग्य है की मनमोहन की वास्तविक बेईमानी को भी ईमानदारी का तमगा दिया जा रहा है. करोडो की घुस देकर सरकार बचाना और हिजड़ो की तरह विजई मुद्रा में मुस्कराना क्या नैतिकता है.अगेर आजादी के बाद की सबसे भ्रष्ट सरकार है तो मनमोहन भी सबसे भ्रष्ट प्रधानमंत्री क्योकि आजतक किसी प्रधानमंत्री ने इतना नीचे गिर कर कम नहीं किया क्या किसी भ्रष्ट मंत्री से स्तीफा लिया या उन्ही की भाषा में जुगाली करते रहे सिर्फ कुर्सी के लिए इतनी गिरावट कैसी ईमानदारी है.ऐसा प्रतीत होता है की विदेशी नेत्रित्व के चलते विदेशियो द्वारा थोपे गए है जो सिर्फ इस देश के गरीबो को और गरीब बनाने या आत्महत्या को मजबूर करने ही ए है.अभी सर्वोच्च न्यायालय में ३२ रूपये प्रतिदिन कमाने वाले को गरीब न मानना आपराधिक कृत्य है जो मनमोहन की अध्याचाता वाले योजना योग द्वारा सर्वोच्च न्यायालय में हलफनामा दाखिल किया क्या किसी इमानदार मनुष्य से ऐसी बेहूदी बातो की उम्मीद की जा सकती है अगेर वह ऐसा सोच रखते है तो मेरे ख्याल से मनमोहन से भ्रष्ट न कोई हुआ और भगवन न करे की भविष्य में हो.अगेर जनता ने इस सरकार को ख़ारिज नहीं किया तो देश का भगवन मालिक है क्योकि एक गरीब देश के प्रधान मंत्री को कभी गरीबो से संवाद करते नहीं देख गया कही गए भी तो राहुल गाँधी की नौकरी बजने नाकि जनता के मोह में. भगवन के लिए अबतो मनमोहन की ईमानदारी का कोरस गान बंद होना चाहिए और उनके क्रियाकलापों की भी समिच्चा होनी चाहिए

के द्वारा:

प्रधानमंत्री के पद की दावेदारी विषय पर समान सवालों का जवाब  कांग्रेस और भाजपा से पूछकर जागरण ने अपने दायित्व का  बखूबी निर्वाह किया है। इसे आगे भी जारी रखने की जरूरत है।  हमें इस बात का अफसोस है कि देश में कांग्रेस पार्टी से बना कोई  भूतपूर्व प्रधानमंत्री जीवित नहीं है, वहीं भाजपा से बने प्रधानमंत्री  अटल बिहारी बाजपेई जी का कोई साक्षात्कार या हाल, समाचार  अखबारों में पढ़ने को नहीं मिलता है। इसकी खबर भी समाचार पत्रों में दें तो पाठकों को अच्छा लगेगा। आगामी चुनाव में देश की  जनता तय करेगी कि प्रधानमंत्री की कुर्सी पर कौन बैठेगा।  अफसोस है कि कांग्रेस के कार्यो से नहीं लगता कि पुनः सरकार आसानी से बनेगी, वहीं भाजपा में प्रधानमंत्री की कुर्सी की दौड़ में  अभी से घमासान जारी हो गया है। कांग्रेस में राजतंत्र से लोकतंत्र तो  वहीं भाजपा में लोकतंत्र से राजतंत्र जैसे स्थिति दिख रही है। देश की जनता बार-बार चुनाव पसंद नहीं करती है। महंगाई, भ्रष्टाचार,आतंकवाद, बेरोजगारी जैसी समस्याओं से देश जूझ  रहा है। जनता बदलाव चाहती है परन्तु योग्यता के पैमाने पर  राष्ट्रीय स्तर पर पार्टी को नजर अंदाज नहीं कर पाती है। कांग्रेस में  प्रधानमंत्री के तौर पर राहुल पर मुहर लगती नजर आ रही है, वहीं  भाजपा में एलके आडवानी को नकारने की मुहिम चल रही है।  चुनाव के अंतिम क्षणों में  प्रधानमंत्री की कुर्सी के लिए भाजपा में  घमासान और सहयोगी दलों से सहमति मुश्किल काम होगा। कांग्रेस में शहादत देनेवाले गांधी परिवार की जय बोलने की कांग्रेस  नेताओं में परम्परा सी है। इसके बावजूद प्रधानमंत्री की कुर्सी को  लेकर प्रभावशाली नेतृत्व के अभाव में कांग्रेस में टूटन भी हो सकती है पर कांग्रेस में अन्दर ही अन्दर प्रधान मंत्री की कुर्सी की चाह रखने वालों को विपक्ष की एकजुटता का अभाव उनका लार टपकाने में  सफल होती नजर नहीं आ रही है। अभी बहुत कुछ कहना जल्दीबाजी  हो सकती है। अभी राजनीति रूपी तेल को देखिये और उसकी धार को देखिये।   

के द्वारा: pramod chaubey pramod chaubey

आतंकवाद को ख़त्म करना हमारे नियति में नहीं है क्योंकि यह एक ऐसा मसाला है जिसका टेस्ट हमारे नेताओं को भी भाता है और आतंकवादियों को भी ! जब भी कोइ राजनीती हवा चलती है तो आतंकवादियों के वारे न्यारे हो जाते है उन्हें प्लान करने का भरपूर मौका मिलता है क्योंकि हमारी सारी प्रसासनिक व्वस्था उस ओर ही केन्द्रित होती है ! उदाहरन के लिए आप देख सकते है मुंबई में आतंकी गोली बारी ! उस वक्त मुंबई की तमाम प्रसासनिक व्वस्था मनसे के उतर भारतीओं को भगाओ आन्दोलन में केन्द्रित थी! दिल्ली उच्च न्यायलय विस्फोट को देखिये कुछ ही दिन पहले अन्ना हजारे के अनसन में दिल्ली की सारी व्वस्था पसीना बहा रही थी और ये अंजाम ! अब देखिये आतंकवादी अंजाम देकर खुश ! मनसे और अन्ना को कवरेज मिल गया इसलिए वो भी खुश ! सरकार को भी जमीनी विवादों से थोडा राहत इसलिए वो भी खुश ! भाई साहब मै तो कहता हु की आतंकवादियों को पकड़ने के लिए जाँच बिठाना ही बेकार है ! मान लो अगर पकड़ भी लिया तो क्या उखाड़ लेंगे सिर्फ मेहमान बाजी ही तो करेंगे मुम्बई हमले के कसाब की तरह ! व्यर्थ का पैसा गवा रहे है भाई जाँच करने में ही करोडो रूपये खर्च हो जायेंगे क्या फायदा ! उन करोडो रुपयों का अनुमान लगाकर पीडितो को दे दो तो सायद भला हो जायेगा ! वो दिन दूर नहीं जब कोइ vip किडनैप होगा और उसके बदले में कसाब को छोड़ा जायेगा ! भला सोचो तो हमारा संविधान किसे सजा देगा जो रंगे हाथ पकड़ा गया उसे ही सजा नहीं दे रहा है ? मोब ९९७३५४६०१६

के द्वारा:

देश के लिए संभलने का समय, झकझोरने की बेला भ्रष्टाचार को लेकर पिछले दिनों काफी उथल-पुथल दिखाई दी. सरकार और राजनीतिक दल ऊहापोह में नज़र आये. जिन लोगों ने आपातकाल के समय 'जयप्रकाश आन्दोलन' को नहीं देखा, उन्होंने उसी तरह के 'अन्ना हजारे' के आन्दोलन को देखा. काफी समय से यह अनुभव हो रहा था कि इस देश में गलत कामों को रोकने वाला कोई नहीं है और न ही भ्रष्टाचार और कदाचार को लेकर राष्ट्रीय बहस या आन्दोलन शायद ही खड़ा करने का साहस कोई करे. अन्ना हजारे ने इस मिथक को तोड़ने का गंभीर और आशाजनक साहस किया गांधीगिरी के सहारे. आन्दोलन खड़ा करने की कोशिश बाबा रामदेव ने भी की, लेकिन उनके आन्दोलन को पंचर कर दिया सरकार की चतुराई ने. कोशिश तो अन्ना हजारे को भी आन्दोलन से बेदखल करने की रही, लेकिन उनकी रणनीति के आगे सत्ता के रणनीतिकारों की बिसात जम नहीं पाई. उडती चिड़िया को पहचाननेवाले नेता जनता का आक्रोश नहीं समझ पाए, लेकिन जनता ये समझाने में कामयाब हुई कि जन-प्रतातिनिधियों को जनता के प्रतिनिधि होने के नाते उनको जो आवाज समझ नहीं आई, उसको अन्ना ने समझा दिया, उन्ही की भाषा में. कहा जाता है की कोई भी आन्दोलन तभी सफल होता है, जब युवाशक्ति उसके लिए खड़ी हो जाती है. अन्ना के अनशन से जुड़े सवालों से कारवां बढता गया और आमजन जुड़ता गया और युवाओं ने सबसे ज्यादा भागीदारी निभाकर दिखा दिया कि अगर मशाल सही हाथों में हो तो आन्दोलन की सफलता पर कोई संदेह नहीं हो सकता. सरकार पहली बार कदम दर कदम, मोके-बे-मोके बदलती देखी गयी. सत्ता जिन लोगों के हाथ में थी, जनता महसूस कर रही थी कि वे सख्ती से जनता की आवाज़ बंद करने के मंसूबे पाले हुए थे और दूसरी तरफ जनता जबरन उनको अपनी आवाज़ सुनाना चाहती थी. अन्ना दल की सदारत में जनता अपनी आवाज संसद तक पहुँचाने में कामयाब हुई. भ्रष्टाचार, बेकाबू महंगाई, घोटाला संस्कृति, रिश्वतखोरी आदि को ब्रेक लगाने में देश के अनेक दलों की सत्ताएं आयीं, लेकिन नाकाम रही. उनके भीतर इन समस्याओं से लड़ने का जनून और जज्बा दिखाई नहीं दिया. यह अलग बात है कि कुछ लोगों में अपने मंसूबे के मुताबिक सत्ता के नाम पर धन एकता करने का जज्बा जरूर दिखाई दिया और उन्होंने इस मामले में आशातीत सफलता भी पायी. कुछ जिम्मेदार लोग व्यवस्था के नाम पर थोड़े-बहुत जूझे, पर उनके प्रयास ऊंट के मुहँ में जीरा साबित हुए. देश की जनता के सामने खलबली मचानेवाला यक्ष प्रश्न यह है कि जो लोग देश चलने या राजनीति करने का दंभ भरते हैं, वे इन समस्याओं के सामने लाचार और नतमस्तक क्यों हैं? संसद में चर्चा के दौरान कुछ सिरफिरी सोचवाले लोगों ने आन्दोलन के रहनुमाई करनेवाले लोगों के प्रतिनिधित्व पर सवाल खड़े करते हुए बेशर्मीभरे लहजे में कहा कि ये लोग जनप्रतिनिधि नहीं हैं, पर उनसे कोई सवाल पूछे कि वे जनप्रतिनिधि होने का दंभ भरते हैं, तो जनता की आवाज क्यों नहीं सुन पाए? दरअसल वे आवाज इसलिए नहीं सुनते कि ऐसी आवाज उनके हितों के खिलाफ है? भ्रष्टाचार का आलम अगर उन्हें राजनीति में दिखाई नहीं देता या वे उसपर अंकुश लगाने के लिए उदासीनता बरतते हैं तो या तो वे लाचार और बेबस हैं या फिर उससे उनका पोषण हो रहा है. ऐसे लोग देश को क्या दिशा दे पाएंगे, यह सब जनता के सामने है? ऊपर से संसद की गरिमा को ठेस पहुँचाने के लिए जनता के आन्दोलन को दोषी बताते हैं. क्या ऐसे लोगों ने अपने गिरेबान में झाँका है कि ऐसे लोगों ने खुद संसद कि गरिमा देश के सामने स्थापित करने के लिए कितना योगदान दिया है? संसद में गरिमा तार-तार होते देखने में या तार-तार करनेवालों के खिलाफ बहुत ही कम लोग उसको बचाने में सामने आये हैं, जो निस्संदेह सम्मान के पात्र है. लोकतंत्र में जनप्रतिनिधियों को देश के हितों के खिलाफ काम करने की छूट नहीं दी जा सकती और न ही जनता जिन बातों को लेकर परेशान है, उनकी अनदेखी करके अपने हित साधने का अवसर देती है! सवाल ये है कि राजनीति में कितने लोग हैं जो गलत काम करने वालों के खिलाफ अलख जागते हैं या ऐसे लोगों को शरण नहीं देते? देश को बाहरी दुश्मनों से इतना खतरा नहीं है जितना हमारे देश के भीतर मिलीभगत का अजीब खेल आज हमारे देश की शासन व्यवस्था में चल रहा है. धनबल और बाहुबल के बीच अलिखित समझोता हो गया है, जिसका परिणाम देश और ईमानदार जनता को भुगतना पड़ रहा है. अब जागने का समय है, ललकार का वक्त है, झकझोरने की बेला दरवाजे पर दस्तक दे रही है, देश के लिए कुछ काम करने की चुनौती हमारे सामने है, हम उसके लिए कितना सुनते हैं, योगदान देते है, या इसके विपरीत जगानेवालों के खिलाफ कार्रवाई करते हैं? क्यूंकि अन्ना दल और बाबा रामदेव के खिलाफ दर्ज होते मामले ऐसी ही याद दिला रहे हैं. अब देश के अस्तित्व की रखवाली का भार हमारे कंधो पर है कि क्या आज़ादी के लडाई में अपने प्राणों के आहुति देने वाले हमारे पुरखों की आवाज़ के साथ हम खिलवाड़ होने देंगे, जिन्होंने विदेशी हुकूमत की जंजीरों को तोड़कर हमारे देश और समाज के लिए सपने संजोये थे? हमारे सामने परिवर्तन की ललकार है, बदलाव के आंधी है, अगर हम उसकी आवाज़ को नहीं सुनेंगे तो हमें देश, समाज और आनेवाली पीदियाँ कभी नहीं बख्शेंगी. हमें अपने गिरते मूल्यों को बचाना होगा, तभी हम बचेंगे, समाज बचेगा, देश बचेगा और आनेवाली पीदियों को कुछ अच्छी विरासत सोंप पाएंगे. R Prasad, Mehrouli, New Delhi

के द्वारा:

सृष्टि के आरम्भ से ही मानव-विचारों का आदान-प्रदान अभिव्यक्ति से होता है. अभिव्यक्ति को प्रकट करने का सबसे प्रबल और असरकारी रूप कोई भी 'भाषा' नहीं बल्कि मात्र 'मातृभाषा' होती है. इतिहास हमें बारम्बार झकझोरता है कि हमारे देश ने गुलामी झेली, उसके जंजीरें एक लम्बे संघर्ष और हमारे पूर्वजों के अनगिनत त्याग और बालिदानों के बाद कटी, लेकिन गंभीरता से सोचने का क्या अब तक उचित समय नहीं आया है कि हम आजादी के छः दशक बीत जाने पर आज भी 'अंग्रेजी' गुलामी का जो कलंक 'ढ़ो' रहे हैं, क्या उसे 'ढ़ोने' की बजाय 'धोने' की जरूरत नहीं है? मातृभाषा से अभिव्यक्ति की सम्पूर्णता प्राप्त होती है और सामाजिक व आर्थिक परिवेश के साथ-साथ संस्कार और संस्कृति पर भी उसका दूरगामी प्रभाव पड़ता है. उथल-पुथल मचने वाला तथ्य यह भी है कि वर्तमान में सबसे ज्यादा गिरावट मातृभाषा की हुई है, तभी उसके परिणामस्वरूप हमारे संस्कार गिरे हैं, नैतिकता ह्रास हुई और संस्कृति को चोट पहुंची है. मातृभाषा और अपने देश की माटी से उत्पन्न भाषाओँ के मर्म को समझे बिना 'जनता की वाणी' नहीं समझी जा सकती. वैज्ञानिक दृष्टि से भी देखें तो ज्ञात होता है कि मन-मस्तिष्क में विचार की झलक सर्वप्रथम मातृभाषा से ही होती है. सुख-दुःख में आह भी अपनी ही भाषा में निकलती है. इन सब तथ्यों के बावजूद अंग्रेजी का वजूद कम होने की बजाय बढ़ा है. खलबली मचने के लिए ये काफी है कि हमारी पढ़ाई, न्याय, शासन और अर्थार्जन की भाषा 'अंग्रेजी' बना दे गयी तो देशभक्ति कमजोर हुई, हमारे शिक्षा प्राप्त करनेवाले नौनिहालों पर अपने भाषा की बजाय अंग्रेजी का प्रभाव बढ़ा. वातावरण का पश्चिमीकरण हुआ, भ्रष्टाचार बढ़ा, ईमानदारी तिरस्कृत हुई, नैतिकता की जड़े खोखली के गयी, लोकतंत्र पर 'अंग्रेजी मानसिकता' छाई और तो और अंग्रेजी भारी पड़ने से हमारे देश की भाषाएँ परायी हुई, ऐसे में हमारे पास क्या बच रहा है, यह बताना मुश्किल है. आज के वातावरण में सच्चाई से रूबरू करते ये शब्द ललकारते हैं : हिंदी या हमारी मातृभाषा दौड़ी वहां जहाँ जन-जन था, फिर क्यों अंग्रेजी कर रही उसकी सिंह सवारी. यहीं तो अपनों की आयाती अंग्रेजी का गम था, तभी तो किस्ती वहां डूबी जहाँ पानी कम था. -राजेंद्र प्रसाद, महरौली, नई दिल्ली-30

के द्वारा:

आदरणीय डॉ. विनय कौड़ा जी, नमन  जनता का जनता के लिए जनता द्वारा शासन ही लोकतंत्र हैं।  देश की सरकार लोकतांत्रिक होने का महज नाटक कर रही है।  यह हम सभी देख रहे हैं। जनता ने समय-समय पर फैसले लिए हैं। मुझे लगता है कि माननीय न्यायपालिका के फैसले के बावजूद  सरकार उसे लागू नहीं कर रही है। ऐसी स्थित में जनता खुद फैसला  लेगी।  इतिहास ऐसे लोगों को माफ नहीं करेगा। आतंकवादियों और उनके आकाओं के संबंध नेताओं से हैं या नहीं। इसकी छानबीन की जरूरत है। आतंकवादियों को मिली सजा को लागू करने में बाधा खड़ा करने वालों के  साथ कानून में सजा का प्रावधान होना चाहिए। जम्मू की हुकूमत हो या तमिलनाडू की दोनों की दशा हम किसी से छिपी नहीं है। कोई संप्रदाय में जकड़ा है तो  कोई जाति में फंसा हुआ है। हम आप इस बात को बखूबी समझते हैं कि  अपराधियों का न तो कोई संप्रदाय होता है और न ही कोई जाति होती है।  अपराधियों की जाति, संप्रदाय या सब कुछ  महज अपराध ही होता है।  माननीय न्यायपालिका को बम विष्फोट कराकर दबाव में लेने की अघोषित  कोशिश की जा रही है। माननीय न्यायपालिका के जजों को सलाम जिन्होंने देश  द्रोहियों को सजा दी है या हवालात में भेजने का साहस दिखाया है। देश की  सुरक्षा में जवान शहादत देते हैं। बदली हुई परिस्थितियों में जजों की शहादत संभावित  है। अपराधियों के गठजोड़ से राजनीति का दंश जनता झेल रही है।  अब आतंकवादियों के गठजोड़ से मामनीय जजों की शहादत हो सकती है। जनता को एलर्ट रहने की जरूरत है। सरकार के तीनों अंगों में व्यवस्थापिका, कार्यपालिका, न्यायपालिका की स्थितियां किसी से छिपी नहीं है। अब तो  लगता है कि न्यायपालिका की सुरक्षा में न्यायिक आजादी के सवाल  उठने शुरू हो सकते हैं। हम होंगे कामयाब एक दिन....।  

के द्वारा: chaturvedipramod chaturvedipramod

बहुत ही स्पष्ट सन्देश दिया है श्री एस शंकर वरिष्ठ लेखक महोदय ने ,हमारे देश की शाशक पार्टी द्वारा ,शब्दजाल और वोटों की राजनीती में पारंगत होने के कारण ,देशवासियों को बरगलाने में कोई खास मेहनत नहीं करनी पड़ती | जनता को कुछ ही शब्दों से बरगलाया जा सकता है ,मुख्य मुद्दे से भटका कर भूल भुलैय्या में डाल देने की परंपरा में अभी तक राजनेता सक्षम हैं ,लेकिन यह लफ्फाजी अधिक समय तक नहीं चलने वाली ,कुछ और धमाके होने के बाद शायद जनता भी इनके मकडजाल से बहार आ जाये और सच्चाई को पहचाने.|सच्चाई कुछ दिन तो छुपाई जा सकती है लेकिन सदैव नहीं | जिस आतंकवाद का भस्मासुर पकिस्तान के लिए ही नासूर बन गया है ,उसे हमारे देशवासियों को पालना बहुत महंगा पड़ेगा ,आज समुदाय विशेष को ,वोटों की राजनीती के तहत बेबकूफ़ बनाकर उनके हितैषी बनकर जो साँप समूचे देश को डस रहे हैं,उनकी हकीकत समुदाय बिशेष को भी पता लग चुकी है ,आतंकवाद किसी का सगा नहीं है ,सभी समुदाय आतंकवाद की पीड़ा भोगने में ,बराबर के साझीदार हैं | इसलिए उन्हें भी इन तथाकथित हरामी नेताओं की सच्चाई पहचान कर इनके राजपद की चिंता छोड़कर देश के हित सोचना चाहिए | इस देश में स्वार्थी तत्वों द्वारा भगवा आतंकवाद का नारा बुलंद करने बाली ओछी राजनीति,और ओछे राजनीतिज्ञ अपनी पार्टी ,पद और कुर्सी को बचाने के लिए ,BJP और RSS को देश अर्थात अपनी पार्टी का दुश्मन बताने वाले नेता ,इस देश का नहीं अपनी गलत नीतियों का बचाव करते है,जिसके मकड़ जाल में जनता आ जाती है,जितना पैसा और समय ये तुच्छ राजनैतिक पैंतरों के चलने में और कुर्सी बचाने के लिए जनता को बरगलाने में करते हैं उसका दस प्रतिशत भी आतंकवाद से लड़ने में खर्च किया होता तो आतंकवाद कभी का ख़त्म हो गया होता| इतिहास गवाह है ,कुत्सित राजनीतिक चलें सदैव उल्टी पड़ती हैं ,इंदिरा जी ने पंजाब के आतंकवाद के मसीहा भिंडरावाले को स्वयं के वोट हितों के लिए पाल पोष कर बड़ा किया था ,लेकिन जब खालिस्तान की मांग की सामुदायिक महत्वाकान्क्षान्यें बढ़ने पर ,भिंडरावाला आस्तीन का सांप बन कर जब इंदिरा जी को ही डसने चला था तब ओप्रेसन ब्लू स्टार द्वारा उसका फन कुचलना पड़ा था ,अफगानिस्तान में रूसी फौजों के खिलाफ जिन अमेरिकनों ने ओसामा बिन लादेन को खड़ा किया था, उस ओसामा ने सामुदायिक महत्वाकान्क्षान्यें बढ़ने पर अमेरिका को भी 9 /11 अटैक में नहीं बख्सा ,पाकिस्तान में उन्ही के पाले हुए सांप उन्हीं को डस रहे हैं ,पुरानी कहावत है जो दूसरों के लिए गड्ढा खोदते है ,उन्हें एक दिन उस गड्ढे में गिरना पड़ता है , आज हमारी सरकार के पास भगवा आतंकवाद ,बाबा रामदेव ,अन्ना हजारे ,और हिन्दू देशभक्तों से निपटने में तत्परता और फुर्ती है ,लेकिन आतंकवादी ,अगर रोजाना उत्पात मचाएं तो ,उनके लिए मानवाधिकार हैं ,न्याय परंपरा है ,सहानुभूति है ,उनकी फाँसी को टालकर समुदाय बिशेष का हितैषी साबित कर बेब्कुफ़ बनाने का प्लान है ,क्या आतंकवाद से समाज बिशेष की ही जानें नहीं जातीं ,कितने दिनों तक उनकी भावनाओं से खेलकर वोट राजनीति चलती रहेगी, आखिर एक न एक दिन सच्चाई समझकर इंदिरा जी की तरह ,परेशान होकर ही सही ,इस साँपों के फ़न को कुचलना ही पड़ेगा | .

के द्वारा: rambilassingh rambilassingh

आदरणीय उमेश चतुर्वेदी जी  सादर प्रणाम  अमर सिंह की जेल यात्रा के मायने को निकट से समझने की आपने कोशिश की है।  अमर सिंह जैसे शख्स के बारे में एक दिन में कोई निर्णय कर लेगा। ऐसा नहीं है।  उनके कार्य रहस्यों से भरे-पड़े हैं। वे जिनके साथ जुड़े, वे भी उनके बारे में खुलकर  बोलने से परहेज करते हैं। मुलायम और अमर सिंह के संबंधों के बारे में पूरा  देश जानता है। कभी भी मुलायम अमर सिंह के खिलाफ कड़े नहीं हो सके।  यह मुलायम की मुलायमियत थी या मुलायम की कोई बाध्यता। इसका  खुलाशा उन्हीं के बूते की बात है या बाद में होगा।  संबंध बनाकर उसे अपने दायरे में बांधना अमर सिंह से कोई सीख सकता है। यह कार्य सकारात्मक होंगे तो निशि्चत  तौर पर स्तुत्य होंगे परन्तु निहीत स्वार्थों में होंगे तो उसके परिणाम भी  देर-सबेर अनुचित होगा।  मुझे लगता है कि अमर सिंह ने जो  कुंआ दूसरे के लिए खोदा था, उसमें वे खुद जा गिरे हैं। श्री अमर  सिंह जी से कोई भी नेता उलझना नहीं चाहता था पर जैसे ही उनकी  जेल यात्रा शुरु हुई है, वैसे ही विभिन्न राजनीतिक दल के नेताओं के स्वर मुखर हो गये हैं। अमर सिंह उन नेताओं में नहीं हैं, जिनके संबंध महज  देश के भीतर ही है। श्री अमर सिंह जी के संबंध देश के नेताओं,  अभिनेताओं और विदेश के लोगों से हैं।जब कभी वे कोई कार्य  करते हैं तो उसका असर देखा गया है और निकट भविष्य में  भी देखा जा सकता है। कुछ चीजों को दिल्ली संग पूरा देश देख रहा है।  राजनीतिक पार्टियों की विचारधारा से कहीं अधिक उनके खुद की सोच  देखी जा सकती  है। अर्थ, राजनीति और समाज की अमर सिंह जी के  पास अच्छी पकड़ है। उसमें धारण करने योग्य (धर्म) को साथ लेकर चले होते तो संभव है कि वे अपनी निगाहों में भी (सिंह) होते।  गुणा-गणित करके हम अपना बचाव  कर सकते हैं परन्तु  संतुष्ट नहीं हो सकते हैं। उम्मीद है कि उऩके लोग और वे  खुद ऐसी सि्थतियों के बारे में चिन्तन कर जरूरी कदम उठाएंगे ताकि  पूर्वांचल की जनता में पिछले महीनों में जगी जोश सि्थर रह सके  अन्यथा कि सि्थति में राजनीतिक सफर का असर अर्थ और समाज  से छुपा रह सकता है। पुराने कथित समाजवादियों का स्वर उन्हें  अपनी ओर मुखातिब करने में जुटा है। संभव है कि संसद में अपनी  सीट सुरक्षित रखने के लिए एक बार फिर से पुराने घरों की ओर  मूंह कर लें तो इसमें आश्चर्य नहीं होना चाहिए।  प्रमोद कुमार चौबे ओबरा सोनभद्र     

के द्वारा: chaturvedipramod chaturvedipramod

आदरणीय लेखक लोकमित्र स्वतंत्र टिप्पणीकार महोदय, सादर प्रणाम शिक्षकों से जीवन मूल्यों की स्थापना के संदर्भ में आपके  विचार किसी भौतिक संसाधनों की जुगत में लगे शिक्षकों  के भावनाओं को उकेरने में सफळ हो रही हैं परन्तु हममें  यानी गुरुओं का जो रोल कल था, वहीं आज है और कल  भी रहेगा। गु का अर्थ है अन्धकार और रु का अर्थ है प्रकाश  की ओर ले जाना। गुरु को हमने शिक्षक बनाने की कोशिश  की या फिर अध्यापक, शिक्षा मित्र ।अब  शिक्षा सहायक  बनाने में लगे हैं। इसके बाद हो सकता है कि और कुछ भी  बनाये। गुरु कल भी था और आज भी है और कल भी रहेगा।  सवाल उठ रहे हैं कि हमारी वैदिक ऋचाओं पर शोध पशि्चमी  देश कर रहे हैं। हमें अपने प्राचीन ग्रन्थों की सुध नहीं है।  यह हमारा भ्रम हो सकता है कि आजादी के समय  समसामियक जीवन मूल्य कुछ थे और अब कुछ हो गये हैं।  इँसान के जीवन से लेकर जीवन मूल्य वैसे ही हैं, जैसे सत्य  या शाश्वत या सनातन। देश को आजादी दिलाना देश या  राष्ट्र प्रेम हो सकता है परन्तु स्रषि्ट के अनुरूप मूल्यों के संग  चलकर  श्रेठता को कायम रखना हमारी वशुधैव कुटुम्बकम्  की संस्कृति  ही स्तुत्य है। मानवीय जीवन मूल्य महात्मा  गांधी में थे, आजादी का जीवन मूल्य चंद्रशेखऱ आजाद या  भगत सिंह में था। मानव में शिक्षा के प्रचार-प्रसार का जीवन  मूल्य मदन मोहन मालवीय में था।  देश और किसी सीमाओं  से बांधकर देखेंगे तो वे जवाहर लाल नेहरू हो सकते हैं या  मो. अली जिन्ना हो सकते हैं। इनके जीवन मूल्य अन्य  महात्माओं से काफी कम हो सकते हैं। आजादी के बाद देश  की बागडौर संभालने वाले लोग चाहे वे कोई प्रधानमंत्री हों  या कोई राष्ट्रपति। उन्होंने अपने कर्म के बदले परिणाम की  इच्छा थी। उनके जीवन मूल्य राम मनोहर लोहिया के नहीं  हो सकते या (अभी जीवित) अन्ना हजारे के नहीं होने चाहिए।  गुरूओं के जीवन मूल्य अब भी वहीं हैं, जिसमें इँसान के जीवन  लक्ष्य मोक्ष(जीवन-मरण के बंधन से मुकि्त) के रास्ते पर ले  जाना है। गुरु विद्या दान करता था और अब गुरू के भेष में  शिक्षक से शिक्षा लेते हैं। ऐसी सि्थित में हमें धूर्तता (अत्यधिक लाभ कमाने) से अधिक कुछ नहीं मिल सकता है।  ऐसी शिक्षा से बाप-बेटे, पति-पत्नी, बेटे-मां, भाई-बहन आदि से  नहीं बनेंगे पूरी पृथ्वी संग प्रेम की बात बेमानी होगी। वास्तविक  शिक्षक और बहुरुपिये शिक्षकों में अन्तर समझने की परख  हमारे कर्मों की वजह से कम होती जा रही है...आपकी  शिक्षकों के प्रति सद्भभावना को सलाम करता हूं... शेष फिर कभी। प्रमोद चौबे 09415362474

के द्वारा: chaturvedipramod chaturvedipramod

आप राहुल के क्या चाहते है । अच्छे समय मे भी उसके पास कुछ नही था आज तो खराब समय है उसके पास क्या होगा बोलने का । होगा तो भी कुछ नही बोल पायेगा । उसे अनूमति ही नही है । अनाप शनाप बोल दे तो बन्धी मुठ्ठी खूल जाएगी । उसे युवा नेता जरूर बना दिया है लेकिन उनमे नेता बनने की प्रतिभा नही है । पक्ष और विपक्ष मे दूसरे युवा नेता है । जुनियर सिन्धिया, जुनियर पाईलोट और जुनियर देवरा को आप भाषण करते या ईन्टरव्यु देते देख सकते है । क्यों की उनमे प्रतिभा है । राहुल को नही देखते ईस का कारण यही है की वो आम आदमी से ज्यादा कुछ नही है । खास घरने जनम लिया तो क्या हुआ । पैसे है तो क्या हुआ, प्रतिभा या अकल कोई दूकान मे नही हिलते ।

के द्वारा: bharodiya bharodiya

आप सेलिब्रिटी राईटर हो । एक प्राध्यापक हैं । आप सरकारी पगार ले ते हो ईसका मतलब ये नही के आप सरकारी गुलाम हो, नौकर हो । आप की सेवा की जरूरत है आपका हक बनता है पगार लेनेका । आप की कोई मजबूरी नही बनती की आप हर बात पर सरकार को वफादारी बताते रहे । यदी आप सरकार के विरोधमे बोलेन्गे तो कोई भी समजदार आपको नमक हराम नही कहेगा । आप प्रध्यापक है, आप खूद जानते है बडे से बडा ज्ञानि अगर व्यक्ति है तो उसका ज्ञान जनसमुह के ज्ञान से आगे कुछ नही है । वो कलेक्टिव ज्ञान है, हजारो ज्ञानियो का मिला हुआ । अन्ना से जुडे हुए जन समुह मे हजारो ज्ञानि होन्गे, आप से भी बढकर होन्गे । आप भी मानेन्गे वो सब मूर्ख नही है ।

के द्वारा: bharodiya bharodiya

वेलकम गेस्ट सर ! किसी प्रखर विद्वान बुद्धिजीवी के तर्क़ काट पाना आसान तो नहीं है, परन्तु प्रतीकात्मक असहमति प्रकट कर पाना थोड़ा सुगम है, वही कर रहा हूं । मैं नहीं समझता कि आंदोलन की परिभाषा के तौर पर किसी स्थान पर लिखा गया हो कि मात्र राजनीतिक आधार और धरातल पर संगठित होने वाले व्यक्तियों के समूह द्वारा किया जाने वाला आंदोलन ही वास्तविक आंदोलन कहलाने का अधिकारी होगा । मैं समझता हूं कि आंदोलन को ऐसी परिधि के तहत परिभाषित करना आंदोलन को सत्ता का मुखापेक्षी बनाने जैसा ही कहा जाएगा, क्योंकि आंदोलन हमेशा असंतोष के गर्भ से पैदा होता है । अब व्यवस्था से संतुष्ट या असंतुष्ट होना कोई राजनीतिक पार्टियों का ही संवैधानिक अधिकार तो है नहीं । जो जनता अपने द्वारा चुने गए प्रतिनिधियों को संसद गठित कर कानून बनाने या देश चलाने का अधिकार देती है, वही जनता यदि बहुमत से किसी व्यक्ति या व्यक्तियों की टुकड़ी को अपने आंदोलन की बागडोर स्वेच्छा से सौंपने को तैयार हो जाय, तो रातोंरात उसे जनता की बजाय भीड़ समझ कर अपने ढंग से उसकी व्याख्या करने का अधिकार भी किसी को नहीं है । दरअसल इस प्रकार की मानसिकता उस औपनिवेशिक व्यवस्था की उपज है, जिससे हम आजतक खुद को उबार नहीं पाए हैं, और जो उस रीति से भी खुद को बाहर निकालने के लिये तैयार नहीं है, जिसके तहत अनपढ़ जनता का हाथ पकड़ कर अंग्रेज़ी में लिखे गए मज़मून पर अंग्रेज़ी में ही ‘मुझे सारी बातें मेरी ज्ञात भाषा में अच्छी तरह समझा दी गई हैं, और यह कि मैं सोच समझ कर इसपर अंगूठे का निशान लगा रहा हूं’, निशान लगवाया जाता रहा है । हमें यह नहीं भूलना चाहिये कि जाहिलों और मक्कारों की यह फ़ौज लाखों करोड़ों की संख्या में होने के बावज़ूद मात्र एक आवाह्न पर पूरी तरह संयमित और मर्यादित है, जबकि देश चलाने वाले मात्र साढ़े पांच सौ कर्णधार सदन के स्पीकर महोदय का गला बैठ जाने के बाद भी संयमित मर्यादित नहीं रह पाते । साधुवाद ।

के द्वारा: आर. एन. शाही आर. एन. शाही

आरक्षण के विषय में संविधान सभा में बोलते डॉ. आंबेडकर ने भी इसे गैर जरूरी कहा था और इसे देश के व्यापक हित के खिलाफ माना था. फिल्म आरक्षण देश को बांटने का काम नहीं कर रही है बल्कि वो काम पहले ही आरक्षण ने कर दिया है फिल्म तो फिर से विचार करने का मौका दे रही है. आप अवसर की समानता के लिए आरक्षण मांगिये न.... की पिछड़े तबके को आर्थिक आरक्षण मिले.... शिक्षा मुफ्त मिले वाहन सुविधा मिले ........ तब करिए प्रतियोगिता....... आप आरक्षण के नाम पर अयोग्य व्यक्तियों पदों पर आसीन कर रहे हैं...... फलस्वरूप शिक्षा का स्तर गिर गया है..... सरकारी अस्पतालों में लोग इलाज़ कराने से डरते हैं...... सरकारी कार्यालयों में कार्यकुशलता प्रभावित हुई है.......सब आरक्षण के कारण......आरक्षण ने समाज में खाई पैदा की है ........ ज़नाब स्वार्थ का और राजनैतिक चश्मा उतारकर व्यापक देश हित में सोचिये स्वयं आरक्षण के दुष्परिणाम सामने आ जायेंगे.......!

के द्वारा: munish munish

सर मैने आपका लेख पूरा पढा । पूरा तो समज मे नही आया लेकिन आखीर मे आपने उलझन बताई, किस सन्था का आन्कडा सही है किस का भ्रामक । मुझे लगता है पेहली सन्थाने केवल कॅश बेलेन्स का आन्कडा ही दिया है । (213 अरब डॉलर) याने वहा की बेन्को मे ईतना कॅश बचा है । ईन्वेस्ट्मेन्ट के लिये कॅश निकाला गया उसका कोई रेकोर्ड नही । आइएमएफ ने कॅश बेलेनस + ईन्वेस्टमेन्ट को भी गीना है जो टोटल बनाता है ( 7,200 अरब डॉलर यानी 350 लाख करोड़ रुपये ) याने आइएमएफ के पास टोटल हिसाब है । मोटा हिसाब किया जये तो ईन्वेस्टमेन्ट = ७२०० – २१३ = ६९८७ अरब डॉलर हो जाता है । ये ६९८७ अरब डॉलर गया ईन्वेस्टमेन्ट गुरुओ के पास ( एफ.आई.आई ) । टार्गेट भारत - चीन । वाया मोरेसिअस जैसे देश । भारत – मोरेसिअस के बीच की सन्धि कोइ अच्छे मकसद से नही कि गई थी । भारत का कोई आदमी अगर ५ शेर भी खरीदे तो “ नो योर क्लायन्ट “ का नियम लग जाता है । किस माय का लाल ये ५ शेर खरीद के गया , ईस नाम, अता - पता पॅन नम्बर के साथ चाहिये । एफ.आई.आई ५ करोड के खरिदे तो “ नो योर क्लायन्ट “ का नियम नही लगता । कारन, भारत – मोरेसिअस के बीच की सन्धि । ( ये दो साल पेहले की बात है, आज शायद सेबी ने कुछ कदम उठाए हो, मालुम नही । ) जब से एफ.आई.आई की एन्ट्री हुई है तब से शेर मर्केट का छोटे से छोटा सटोरिया जानता है के उनके सामने सट्टा लगाने वाले और कोइ नही भारत की ही लोग है जो एफ.आई.आई के नाम से आ गये है । भारत के आम लोगो मे दम है जो ईतना प्रोपर्टी का भाव बढा दे ? वो सब फोरेन रेटर्न पैसे का कमाल है । मे आम आदमी हु । हमारी बाते तथ्य और आन्कडो से नही अमुमान पर होती है । आप खास हो, एक जिम्मेदार जगह पर आपने नौकरी की है । आप लोगो के साथ एक सिम्बोल जुडा हुआ है, टोर्च । टोर्च जलाईये और भारत मे ही हमारे ही ईर्द गिर्द काला धन ढुढीये ।

के द्वारा: bharodiya bharodiya

कांग्रेस के लाचार और ईमानदारी का चौला पहने देश के इतिहास में सबसे भ्रष्टतम प्रधानमंत्री डा.मनमोहन सिंह मानते है कि भ्रष्टाचार लोकतंत्र की सबसे बड़ी मजबूरी है और वे सिर्फ इस मजबूरी धर्म का निर्वाह कर रहे हैं। उनकी पार्टी में इस मुद्दे को लेकर उनके विचार कुछ अलग हैं। चोरों का सरदार कहता है कि मैंने माँस नहीं खाया? जो जेलों की सलाख़ों में बन्द हैं सिर्फ उसने ही खाया? किसी को लग रहा है कि अन्ना संसद को चुनौती दे रहें हैं तो किसी को लग रहा कि ये लोकतंत्र को ही चुनौती हैं? अब इनसे कौन बात करे? हम उनसे पूछ रहे हैं कि आपका जो ड्राफ्ट है आप उसी के बारे में जनता को बतायें कि आप देश में व्याप्त भ्रष्टाचार व्यवस्था पर लगाम लगाने के लिए कैसा जन लोकपाल बिल में ला रहे हैं। इस पर तो बोल नहीं रहे। धमकी इस बात की दे रहे हैं कि हमारी काली करतूतों को कोई जगजाहिर करेगें तो अच्छा नहीं होगा। चुनौती पर चुनौती अब एक और चुनौती। साहब! लोकपाल बिल पर बहस कीजिए लोकतंत्र की चिंता छोड़ दीजिए। देश की जनता को साफ करें कि आप जो बिल लाने की बात कर रहे हैं उसमें क्या-क्या है? और उससे किन-किन श्रेणी के लोगों पर अंकुश लगाया जा सकेगा? क्या उन लुटेरों पर भी इसका कोई प्रभाव होगा जो संसद के अन्दर ही देश को लूटने में लगें हैं? इसका संचलान व्यवस्था किन लोगों के हाथ में रहेगी? http://shambhuchoudhary.jagranjunction.com/

के द्वारा: Shambhu Choudhary "Iac" Shambhu Choudhary "Iac"

अब मनमोहन से कोइ अपेक्षा रखना मुर्खता है । अब साफ हो गया है उनके लिये भारत कोइ देश नही है , एक कम्पनी है । पेहले अन्ग्रेज ईसे चलाते थे अब कोन्ग्रेस ईसे चलाती है । मनमोहन कोइ प्रधान नही है, ईस कम्पनी के चेरमेन है । उसे कर्मचारी ( प्रजा ) से ज्यादा अपने शेरे धारक ( कोन्ग्रेस ) की फिकर ज्यादा है । ईस चेरमेन को अमेरिका से कई तरह का डर था/है । अपनी कम्पनी को लेकर नही अपने शेर धारक को लेकर । अपने शेर धारक का धन चोरी के माल का हेन्डलिन्ग करने वाले देशो मे जमा है । वो सब देश और अमेरिका खूद देवालियेपन के कगार पर है । अमेरिका खुद का पैसा खतम होने पर ऐसे देशो को वो दबोच सकता है जीस के पास चोरी का माल जमा हो । वो उस माल को कबजे कर लेगा । उसे मालुम है उस का दावेदार कभी सामने नही आएगा और वो खूद उसका मालिक बन जायेगा । ईस चेरमेन को अमेरिका की रहेम नजर चाहिए । उसके लिए उसे कुछ भी करना था, उसने किया । हमने देखा हमेशा भीगी बिल्ली बने रहते चेरमेन उस समय शेरे के रूप मे आ गये थे । उसे और डर भी सता रहा है , कम्पनी के भितर का डर । कभी भी हडताल या तालेबन्दी हो सकती है । ये डर भी है की हडताल अगर उग्र रूप ले ले तो अमेरिका नाटो के बहाने मजदूरो के पक्ष मे खडा ना हो जए । और परमाणु बोम्ब का क्या है । वो तो निर्जीव पदार्थ मात्र है । असली चीज उसका ट्रीगर होता है । ट्रीगर पर जब मर्द कि उन्गली आती है तब जाकर वो बोम्ब बनता है । जब तक स्त्रीयो की उन्गली उस पर रहेगी कोइ उसे बोम्ब नही मानेगा ।

के द्वारा: bharodiya bharodiya

राजीवभाई अनाज की योजना लाने मे एक साल की देर कर दी । गुजरे साल जो अनाज सड गया वो नही सडता और खाने के काम आ जाता । सरकार को कोर्ट की डान्ट नही खानी पडती । आप लोग पहेले मेहन्गाई बढा के लोगो को भुख्मरी के कागार तक ले जाते हो । फीर उपकार के लेहजेमे भीख देने की योजना बनाते हो । जाहिर है नयी वोट बेन्क के उद्दघाटन मे कोइ विपक्षी नेता हाजीर नही रहेगा । बहुमत है घरके लोग ही बेन्क चालु कर सकते है । आपकी दूसरी अनाज बचाने की योजना बहुत अच्छी है । पाकीस्तान मे तो लागु भी हो गई है । वहा पर एक ही डीश की मजुरी है । आप ५-६ की बात कर रहे हो । पहेली बार मुझे पाकीस्तान की साईड मे जाना पड रहा है । आपने पन्जाब की बात कही गुजरात की भी यही हालत है । और आगे जो जो राज्य विकास करेगा उसका भी यही हाल होगा । लोगो का जीवन स्तर उपर जाता है तो उसे मजदुर का काम सुट नही करता, आमदनी भी कम पडती है , उसे वाईट कोलर जोब चाहिए , सब को तो मिल नही सकता । युरोप और अमेरिका कभी मन्दी से उभर नही पायेन्गे ईसका कारन यही है । बीना मजदूरवाले देश की ईकोनोमी रुक जाती है । ऐसे देश की हालत क्या होती है उदाहरण हमारे समने है । आप खूद विद्वान है ये बात जानते है ।

के द्वारा: bharodiya bharodiya

धर्म को और धर्म के साथ जुडे लोगो को कोसना आज फेशन हो गया है । आप सामाजिक कर्यकर्ता है । जहीर है आप भी कोइ ट्रस्ट के साथ जुडि है । आप के ट्रस्ट और धर्मिक ट्रस्ट मे क्या अन्तर है । दोनो दान पर ही चलते है । आप को मालुम होना चाहिए आप जीस समाज की सेवा करने का दावा कर रही है वो आप को विरसत मे मिला है । आदमी तो जानवर था, कोइ भी राजा उसे कन्ट्रोल नही कर पा रहा था । धर्मने मदद की । जानव को ईन्सान बनाने मे ३ से ४ हजार साल लग गये है । समाज की नीव धर्मने डाली है । फिर भी आदमी पूरा ईन्सान नही बन पाया है । तभी तो आपकी भी सेवा लेने की जरूरत पडती है । वरना ईन्सानो की बस्ती ने समाज सेवको की क्या जरूरत । सबकुछ अपने आप ठीक ठाक चलता है । आपके ट्रस्ट पर लोगो को कम आस्था है ईसलिये आपको कम दान मिलता है । धर्मिक सन्था से लोग ज्यादा दान करे तो आप को ईर्षाभाव नही रखना चाहीए । दान कि कोइ सीमा नही बान्धी जाती । १ रुपये के लेकर अरब रुपये भी हो सकता है । १ रुपया दान मिले तो ठीक लाख मिले तो काला धन ? ये तो एक ईर्षाग्रस्थ कोन्ग्रेसी ही कह सकता है । धार्मिक सन्था के पास रहा पैसा काला कबसे होने लगा ? ज्यादा हो गया ईसलिए ? १००० – १००० करोड की सन्था बीना हिसाब किताब चलती है क्या ? अगर उसमे गरबडी हो तो जिम्मेदारी सरकार की है । सब सरकारी अधिकारी हराम का पगार खाते है ? वो चेक नही कर सकते ? जीन की जिम्मेदारी है वो ही फरयादी है कला धन !! कला धन !! भाई कहा था अबतका ? सोया हुआ था ? अपनी ही ईज्जत से खेल रहे हो । रही दान के जरिए कि बात । अबतक ऐसा कोइ साधन नही बना है जीससे पता चले की ये पाप की कमाई है या पुण्य की । जाहीर है मोटादान तो ब्लेक का ही होगा , वैसे ब्लेक का पैसा ३० % सस्ता पडता है । लेकिन वो सब दानी का सरदर्द है । दान लेनेवाले के लिये तो सफेद धन ही है । काले धन को सफेद बनाने का तो एक ही तरीका था टेक्ष भरो और सफेद करलो । आपने नया तरीका बताया जो मुझे मालुम ही नही ईस पर मै कुछ नही बोल सकता ।

के द्वारा: bharodiya bharodiya

के द्वारा: bharodiya bharodiya




  • ज्यादा चर्चित
  • ज्यादा पठित
  • अधि मूल्यित
Hindi News articles & Stories

ताजा खबरें